Home /News /delhi-ncr /

संक्रमण के बढ़ते मामले पर दिल्ली हाईकोर्ट की टिप्पणी- कोरोना कैपिटल बनने की राह पर दिल्‍ली

संक्रमण के बढ़ते मामले पर दिल्ली हाईकोर्ट की टिप्पणी- कोरोना कैपिटल बनने की राह पर दिल्‍ली

दिल्ली हाईकोर्ट ने बड़ा बयान दिया है. (फाइल फोटो)

दिल्ली हाईकोर्ट ने बड़ा बयान दिया है. (फाइल फोटो)

राजधानी दिल्ली में कोरोना संक्रमितों (Corona Positive) की संख्या काफी तेजी से बढ़ रही है. ऐसे में एक याचिका पर सुनवाई के दौरान दिल्ली हाईकोर्ट ने सख्‍त टिप्पणी की है.

    नई दिल्ली. राष्ट्रीय राजधानी (National Capital) देश का कोरोना कैपिटल (Corona Capital) बनने की राह पर तेजी से आगे बढ़ रहा है. दिल्ली में कोरोना के तेजी से बढ़ते मामले पर दिल्ली हाईकोर्ट (Delhi High Court) ने इस तरह की टिप्पणी की है. हाईकोर्ट ने प्राइवेट हॉ़स्पिटल (जहां लैब्स मौजूद हैं) को निर्देश दिया है कि वहां टेस्ट की सुविधा दी जाए. इसके लिए आईसीएमआर से जरूरी मंजूरी भी ली जाए. न्यायाधीश हिमा कोहली और सुब्रमण्यम प्रसाद का मानना है कि बिना समय का नुकसान किए जरूरत है कि जिन प्राइवेट ह़ॉस्पिटल में लैब्स हैं, वहां कोरोना वायरस संक्रमण का टेस्ट कराने की मंजूरी दी जाए.

    आधिकारिक जानकारी के अनुसार, अब तक दिल्ली में 32 हजार से ज्यादा कोरोना पॉजिटिव मिले हैं, जबकि 984 लोगों की संक्रमण की चपेट में आकर मौत हो गई है. फिलहाल राजधानी में 19 हजार से भी ज्यादा एक्टिव केसेज है.

    दाखिल की गई थी याचिका
    बेंच ने इस तरह की टिप्पणी इसलिए की क्योंकि इस मामले में याचिका दाखिल करने वाले ने कोर्ट में बताया था कि कई प्राइवेट हॉस्पिटल (जिसमें सर गंगा राम हॉस्पिटल भी शामिल है) को कोरोना टेस्ट करने से रोका जा रहा है.

    दिल्ली सरकार के वकील ने कही ये बात
    टाइम्स ऑफ इंडिया की खबर के अनुसार, इस दौरान दिल्ली सरकार का पक्ष रख रहे अतिरिक्त स्थायी परामर्शदाता सत्यकाम ने इसका विरोध किया. साथ ही कहा कि 17 पब्लिक सेक्टर लैब्स के अलावा 23 प्राइवेट लैब्स को कोरोना का टेस्ट करने की अनुमति दी गई है.

    प्राइवेट लैब्स को हाईकोर्ट ने जारी की नोटिस
    हाईकोर्ट की इस बेंच ने उसके बाद 23 प्राइवेट लैब्स को नोटिस जारी किया है. जिसकी जानकारी दिल्ली सरकार ने अपने हलफनामे में दी थी. साथ ही इसका जवाब देने को कहा है, जिसमें उन्हें बतााना होगा कि क्या उन्हें कोविड-19 टेस्ट कराने की अनुमति मिली है और किस तकनीक से वो इस टेस्ट को करा रहे हैं. बेंच ने ये भी कहा है कि वे अगर किसी तरह की आधिकारिक लाल फीताशाही से समस्या आ रही हो तो बता सकते हैं.

    इलाज के लिए जाने पर हॉस्पिटल मांग रहे कोरोना टेस्ट रिपोर्ट
    इस आदेश में इस बात को भी ध्यान रखा गया है कि वैसे मरीज जो प्राइवेट हॉस्पिटल में किसी और भी बीमारी या सर्जरी के लिए जा रहे हैं. उन्हें भी हॉस्पिटल में भर्ती करने से पहले कोरोना टेस्ट कराने को कहा जा रहा है. जिसके लिए उन्हें कही और जाना पड़ रहा है.

    आईसीएमआर की लें अनुमति
    हाईकोर्ट ने निर्देश दिए कि सभी प्राइवेट हॉस्पिटल जिन्हें कोरोना संक्रमितों के इलाज के लिए 20 प्रतिशत बेड रिजर्व करने को बोला गया है. वे अपने लैब्स को पूरी तरह कोरोना टेस्ट कराने के लिए तैयार रखें. साथ ही इससे संबंधित अनुमति आईसीएमआर से भी ले लें.



    ये भी पढ़ें: युद्ध जैसी स्थिति, कोरोना वायरस सदी की सबसे बड़ी त्रासदी है: जैन

    Tags: Corona Cases, Corona Cases in Delhi, Covid-19 Test Kits, Delhi, DELHI HIGH COURT, Delhi news, Delhi news live, Delhi news today, Delhi news update, Delhi news updates, New Delhi news

    विज्ञापन

    राशिभविष्य

    मेष

    वृषभ

    मिथुन

    कर्क

    सिंह

    कन्या

    तुला

    वृश्चिक

    धनु

    मकर

    कुंभ

    मीन

    प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
    और भी पढ़ें
    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें

    अगली ख़बर