केजरीवाल सरकार पर कांग्रेस ने लगाये आरोप, कहा-डोर स्टैप राशन डिलीवरी पर जनता को करती रही है गुमराह

कांग्रेस ने कहा है कि एक तरफ जहां देश कोरोना संक्रमण से युद्ध लड़ रहा है. वहीं दूसरी तरफ केजरीवाल-भाजपा आपस में लड़ रहे.

कांग्रेस ने कहा है कि एक तरफ जहां देश कोरोना संक्रमण से युद्ध लड़ रहा है. वहीं दूसरी तरफ केजरीवाल-भाजपा आपस में लड़ रहे.

प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष चौधरी अनिल कुमार ने आरोप लगाते हुये कहा कि सीएम अरविंद केजरीवाल भाजपा के साथ मिलकर ‘घर-घर राशन योजना’ का इस्तेमाल समय-समय पर दिल्लीवासियों को गुमराह करने के लिए करते रहे हैं. लगभग 54 लाख लाभार्थी के राशन कार्ड आवेदन पिछले 7 वर्षों से पेंडिंग हैं. उन्हें राज्य स्तर पर योजना बना राशन मुहैया कर सकते थे.

  • Share this:

नई दिल्ली. दिल्ली सरकार (Delhi Government) की डोर स्टेप राशन डिलीवरी योजना (Door step Ration Delivery Scheme) को लेकर विवाद छिड़ा हुआ है. ऐसे में कांग्रेस पार्टी (Congress Party) में इस मामले पर केजरीवाल सरकार (Kejriwal Government) और भाजपा (BJP) का तंज कसा है. कांग्रेस ने कहा है कि एक तरफ जहां देश कोरोना संक्रमण (Coronavirus) से युद्ध लड़ रहा है. वहीं दूसरी तरफ केजरीवाल-भाजपा आपस में लड़ रहे.

प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष चौधरी अनिल कुमार ने आरोप लगाते हुये कहा कि सीएम अरविंद केजरीवाल (CM Arvind Kejriwal) भाजपा (BJP) के साथ मिलकर ‘घर-घर राशन योजना’ का इस्तेमाल समय-समय पर दिल्लीवासियों को गुमराह करने के लिए करते रहे हैं.

उन्होंने कहा कि केजरीवाल व भाजपा की सरकार कोरोना काल में लोगों को राहत व टीके देने में विफल रही है. कोरोना योद्धाओं को सम्मान नहीं दिया है. अब दोनों सरकारें पुनः मूल मुद्दे से भटकाने के लिए नूरा-कुश्ती कर रही हैं.

Youtube Video

चौधरी अनिल कुमार ने कहा कि कांग्रेस पार्टी की सरकार ने यूपीए अध्यक्षा सोनिया गांधी व पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह के नेतृत्व में खाद्य सुरक्षा को ध्यान में रखते हुए कानून बना गरीबों को खाद्य सुरक्षा का अधिकार दिया. लेकिन यह बेहद चिंता की बात है कि भाजपा व अरविंद केजरीवाल कांग्रेस पार्टी के द्वारा दिये गए अधिकारों को गरीब जनता तक पहुँचाने की जगह क्रेडिट लेने के लिए गंदी राजनीति कर रही हैं.

उन्होंने कहा कि शीला दीक्षित (Sheila Dikshit) सरकार के दौरान दिल्ली में 31 लाख राशन कार्ड थे जो अब घटकर 17 लाख राशन कार्ड हो गए है. उन्होंने कहा कि केजरीवाल सरकार (Kejriwal Government) ने 463 राशन की दुकानों को बंद कर 420 से अधिक नए शराब के ठेके खोले.

चौधरी अनिल कुमार ने कहा कि केजरीवाल सरकार की अगर मंशा लोगों को राशन पहुंचाने की होती तो राज्य स्तर पर जिन लगभग 54 लाख लाभार्थी के राशन कार्ड आवेदन पिछले 7 वर्षों से पेंडिंग हैं. उन्हें राज्य स्तर पर योजना बना राशन मुहैया कर सकते थे.



उन्होंने कांग्रेस सरकार द्वारा चलाई गयी अन्न श्री योजना के बारे में बताते हुए कहा कि सरकार भ्रष्टाचार को कम करने के लिए सीधे खाते में राशि ट्रांसफर करने का काम करती थी. लेकिन केजरीवाल सरकार ने न तो कोई नया राशन कार्ड बनाया ओर न ही कोई योजना बनायी जिससे गरीबों को राशन मुहैया कराया जा सके.

अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज