बेकाबू कोरोना पर कांग्रेस‌ का AAP पर हमला, कहा-सरकार कह रही घबराने की बात नहीं, लेकिन प्रवासी छोड़ रहे दिल्ली!


श्रमिक मजदूरों की कोविड गाइडलाईन व नाईट कर्फ्यू से रोजी रोटी कमाना मुश्किल हो रहा.

श्रमिक मजदूरों की कोविड गाइडलाईन व नाईट कर्फ्यू से रोजी रोटी कमाना मुश्किल हो रहा.

प्रदेश कांग्रेस के अध्यक्ष चौ. अनिल कुमार ने दिल्ली सरकार (Delhi Government) पर आरोप लगाया है कि कोरोना दिल्ली में बेकाबू होता जा रहा है. नाइट कर्फ्यू के बाद लॉकडाउन की आशंका के चलते प्रवासी श्रमिक दिल्ली छोड़ने के लिए मजबूर हो रहे हैं. लेकिन दिल्ली सरकार कोरोना की चौथी लहर से नहीं घबराने की बात कह कर अपना पल्ला झाड़ रही है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: April 10, 2021, 11:56 AM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. दिल्ली में तेजी से फैलते कोरोना संक्रमण के मामलों को लेकर कांग्रेस ने भी केंद्र और दिल्ली सरकार पर निशाना साधा है. प्रदेश कांग्रेस के अध्यक्ष चौ. अनिल कुमार ने दिल्ली सरकार (Delhi Government) पर आरोप लगाया है कि कोरोना दिल्ली में बेकाबू होता जा रहा है.

नाइट कर्फ्यू के बाद लॉकडाउन की आशंका के चलते प्रवासी श्रमिक दिल्ली छोड़ने के लिए मजबूर हो रहे हैं. लेकिन दिल्ली सरकार कोरोना की चौथी लहर से नहीं घबराने की बात कह कर अपना पल्ला झाड़ रही है. उन्होंने कहा कि घर वापसी के लिए दिल्ली के सभी रेलवे स्टेशनों और बस अड्डों पर प्रवासी श्रमिक भारी संख्या में उमड़ रहे है.

चौ. अनिल कुमार ने कहा कि जहां एक ओर दिल्ली में कोविड पॉजिटिव मामले अपने सभी रिकॉर्ड तौड़ रहे है. वहीं दूसरी ओर दिल्ली के मुख्यमंत्री और उनके स्वास्थ्य मंत्री सत्येन्द्र जैन (Satyendra Jain) गैर जिम्मेदारान बयान दे रहे हैं.

उनका कहना है कि राजधानी में कोविड महामारी की चौथी लहर से चिंतित होने की कोई बात नही है, जबकि 8 प्रतिशत दर की बढोत्तरी के साथ कोविड संक्रमितों का 2021 में सबसे अधिक मामले सामने आऐ.
चौ. अनिल कुमार ने कहा कि केन्द्र और दिल्ली सरकार की लापरवाही और दिल्ली में संसाधनों की कमी के कारण कोविड पॉजिटिव की रफ्तार खतरनाक रुप से बढ़ रही है. साप्ताहिक दर 163 प्रतिशत बढ़ोत्तरी की है.

विशेषज्ञों का मानना है कि अस्पतालों में कोविड के कारण मृत्यु दर में बढ़ोत्तरी से स्पेशलिस्ट डाक्टरों की कमी भी हो रही है. इसका सीधा असर लोगों के इलाज पर पड़ रहा है.

चौ. अनिल कुमार ने भाजपा शासित दिल्ली नगर निगम पर आरोप लगाया कि दिल्ली के 110 साप्ताहिक बाजारों के नाईट कर्फ्यू के नाम पर चालान काटे जा रहे है. उन्होंने कहा कि 10 बजे नाईट कर्फ्यू शुरु होता है परंतु 8.00 -8.30 बजे जब बाजार में मुख्य खरीदारी का समय होता है उस समय निगम अधिकारी बाजार बंद करने के आदेश दे रहे हैं, जिससे उनकी दिहाड़ी भी पूरी नही हो रही है.



उन्होंने कहा कि श्रमिक मजदूरों की स्थिति पहले ही बेहतर नही है क्योंकि कोविड गाइडलाईन के तहत काम करने पर उन्हें अपनी रोजी रोटी कमाना मुश्किल हो रहा था अब नाईट कर्फ्यू के कारण उनकी मुश्किलें और बढ़ गई है. बाजारों में खरीदारी कम होने से उत्पादन भी कम करना पड़ रहा है.

दिल्ली सरकार के अस्पतालों में डाक्टरों, नर्सों की पहले ही भारी कमी है, जबकि पिछले वर्ष एमबीबीएस व डेंटल छात्रों की मदद ली थी. उसी प्रकार वर्तमान में भी अपनी जान को जोखिम में डालकर डेंटल व आयुष डाक्टरों से कोविड ड्यूटी ली जा रही है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज