Nursery Admission in Delhi: कांग्रेस ने लगाये आरोप, कहा-मनमानी कर रहे Private Schools, सरकार नहीं उठा रही कदम

नर्सरी दाखिला की गाइडलाइंस का Private Schools सही से पालन नहीं कर रहे हैं.

नर्सरी दाखिला की गाइडलाइंस का Private Schools सही से पालन नहीं कर रहे हैं.

Nursery Admission in Delhi: दिल्ली सरकार (Delhi Government) के शिक्षा निदेशालय की ओर से नर्सरी दाखिला को लेकर गाइडलाइंस जारी की गई थी. लेकिन इसका Private Schools सही से पालन नहीं कर रहे हैं. अभिभावकों को अधंरे में रखा जा रहा है. शिक्षा निदेशालय की वेबसाइट पर दाखिले प्रक्रिया से जुड़ी जानकारी आज तक मात्र 1187 विद्यालयों ने सार्वजनिक की है, जबकि राजधानी में 4 हजार से भी अधिक निजी विद्यालय है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: February 21, 2021, 6:10 PM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. दिल्ली प्रदेश कांग्रेस (Congress) ने दिल्ली सरकार (Delhi Government) की ओर से जारी नर्सरी दाख‍िला गाइडलाइंस का सही से पालन नहीं करने पर सवाल खड़े कि‍ये हैं. निजी विद्यालयों द्वारा मनमर्जी की जा रही है. बावजूद इसके दिल्ली सरकार का शि‍क्षा नि‍देशालय मूकदर्शक बना हुआ है.




कांग्रेस ने कहा कि जिस प्रकार नर्सरी दाखिले (Nursery Admission) प्रक्रिया में निजी विद्यालयों द्वारा मनमर्जी की जा रही है. उसे देखकर लगता है कि राजधानी दिल्ली में सरकार नाम की कोई चीज नहीं है. दिल्ली कांग्रेस ने शिक्षा मंत्री (Education Minister) को निजी स्कूलों की कठपूतली होने का आरोप लगाया.



बताते चलें नर्सरी दाखिले की प्रक्रिया शुरू होने से पहले दिल्ली प्रदेश कांग्रेस कमेटी के अध्यक्ष चौ. अनिल कुमार (Ch. Anil Kumar) ने शिक्षा मंत्री मनीष सीसोदिया (Manish Sisodia) को शिक्षा माफिया का सरगना बताया था. उन्होने अपने बयान में निजी विद्यालयों पर दिल्ली सरकार द्वारा जारी गाइडलाइंस के पालन नहीं करते हुए पूरे दाखिले प्रक्रिया को अंधेरे में रखने का आरोप भी लगाया था.




कांग्रेस ने 18 फरवरी से शुरू हुए दाखिले प्रक्रिया के शुरूआती कुछ दिनों में बरती गई लापरवाही व छात्रों की समस्याओं के बारे में कहा कि दाखिले प्रक्रिया में निजी स्कूल मनमानी कर रहे है. साथ ही बड़े पैमाने पर ऑनलाइन आवेदन की प्रक्रिया नहीं अपनाए जाने व अभिभावकों को विद्यालाय आकर ऑफलाइन आवेदन देने की शिकायतें भी आ रही है.






प्रदेश कांग्रेस ने कहा है कि दिल्ली हाई कोर्ट द्वारा जिन शर्तों को प्रतिबंधित किया गया है, उन शर्तों को भी आधार बनाकर नर्सरी दाखिल नामांकन किया जा रहा है. इन निजी स्कूलों की मनमर्जी से दाखिले नामांकन की प्रक्रिया पहले आओ पहले पाओ और मैनेजमेंट कोटा की सीटों के आधार पर किया जा रहा है.




दिल्ली प्रदेश कांग्रेस ने कहा है कि दिल्ली सरकार (Delhi Government) के शिक्षा निदेशालय की मिलीभगत से ये सब हो रहा है. दाखिला प्रक्रिया में जारी गाइडलाइंस का सरकार द्वारा सही से पालन नहीं किया जा रहा है और अभिभावकों को अधंरे में रखा जा रहा है.




शिक्षा निदेशालय की वेबसाइट पर दाखिले प्रक्रिया से जुड़ी जानकारी आज तक मात्र 1187 विद्यालयों ने सार्वजनिक की है, जबकि राजधानी में 4 हजार से भी अधिक निजी विद्यालय है.

अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज