Home /News /delhi-ncr /

congress demand to arvind kejriwal should immediately convene a delhi assembly special session on bulldozer action

बुलडोजर एक्शन पर बोली कांग्रेस- 50 लाख लोगों को उजड़ने से बचाने को बुलाएं व‍िधानसभा का स्‍पेशल सेशन

कांग्रेस ने द‍िल्‍ली सरकार से इस मामले पर लोगों को राहत देने के ल‍िए द‍िल्‍ली व‍िधानसभा (Delhi Assembly) का व‍िशेष सत्र बुलाकर राहत देने की मांग की है. (फाइल फोटो- एएनआई)

कांग्रेस ने द‍िल्‍ली सरकार से इस मामले पर लोगों को राहत देने के ल‍िए द‍िल्‍ली व‍िधानसभा (Delhi Assembly) का व‍िशेष सत्र बुलाकर राहत देने की मांग की है. (फाइल फोटो- एएनआई)

MCD Bulldozer Action: प्रदेश कांग्रेस कमेटी के अध्यक्ष चौ. अनिल कुमार ने कहा कि दिल्ली के 50 लाख लोगों को उजाड़ने की योजना बनाई जा रही है. भाजपा और आम आदमी पार्टी के नेताओं के अवैध कब्जे कर बने दफ्तरों पर क्यों नहीं बुलडोजर चलाया जा रहा है. बुलडोजर से उजड़ने से बचाने के लिए मुख्यमंत्री अरविन्द केजरीवाल तुरंत विधानसभा का विशेष सत्र (Assembly Special Session) बुलाए. और दिल्ली में चल रहे बुलडोजर अभियान के खिलाफ प्रस्ताव पास करें ज‍िससे क‍ि भविष्य में बुलडोजर जैसी कार्रवाई न हो, इसके लिए कानून पास क‍िया जाए.

अधिक पढ़ें ...

    नई दिल्ली. द‍िल्‍ली में अवैध न‍िर्माण और अत‍िक्रमण के ख‍िलाफ चल रहे द‍िल्‍ली नगर न‍िगम के बुलडोजर पर स‍ियासत पूरी तरह से परवान चढ़ी हुई है. बुलडोजर कार्रवाई (Bulldozer Action) को लेकर आरोप-प्रत्‍यारोप की राजनीत‍ि की जा रही है. भाजपा शास‍ित न‍िगम (BJP ruled MCD) की बुलडोजर कार्रवाई पर जहां आम आदमी पार्टी (Aam Aadmi Party) पहले से हमलावर पर है. वहीं अब कांग्रेस (Congress) ने इस कार्रवाई पर भाजपा और आम आदमी पार्टी सरकार (AAP Government) दोनों पर गंभीर आरोप लगाए हैं. साथ ही द‍िल्‍ली सरकार से इस मामले पर लोगों को राहत देने के ल‍िए द‍िल्‍ली व‍िधानसभा (Delhi Assembly) का व‍िशेष सत्र बुलाकर राहत देने की मांग की है.

    दिल्ली प्रदेश कांग्रेस कमेटी के अध्यक्ष चौ. अनिल कुमार ने कहा कि दिल्ली के 50 लाख लोगों को उजाड़ने की योजना बनाई जा रही है. भाजपा और आम आदमी पार्टी के नेताओं के अवैध कब्जे कर बने दफ्तरों पर क्यों नहीं बुलडोजर चलाया जा रहा है.

    MCD Bulldozer Action: अत‍िक्रमण के खिलाफ EDMC चलाएगी बुलडोजर अभ‍ियान, बनाया ये बड़ा एक्‍शन प्‍लान, जानें सबकुछ

    कांग्रेस अध्‍यक्ष ने कहा क‍ि भाजपा के बुलडोजर अभियान के तहत उजड़ने से बचाने के लिए दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविन्द केजरीवाल (Delhi CM Arvind Kejriwal) तुरंत विधानसभा का विशेष सत्र (Assembly Special Session) बुलाए. और दिल्ली में चल रहे बुलडोजर अभियान के खिलाफ प्रस्ताव पास करें ज‍िससे क‍ि भविष्य में बुलडोजर जैसी कार्यवाही न हो इसके लिए कानून पास क‍िया जाए.

    चौ. अनिल ने कहा कि बेरोजगारी, मंहगाई की मार झेल रहे गरीबों के आशियानों पर बुलडोजर चलाना एक अमानवीय कृत्य है क्योंकि भीषण गर्मी में द‍िल्‍ली सरकार की विफलताओं के कारण दिल्लीवासी पानी की बूंद-बूंद के लिए परेशान है. उन्‍होंने कहा क‍ि भाजपा तथा केजरीवाल सरकार मिलकर गरीबों के घरों और दुकानों को उजाड़ने के लिए जहाँ कुछ स्थानों पर नोटिस भेज रहे हैं. वहीं अधिकतर स्थानों पर बिना नोटिस ही कारवाई कर रही है. दोनों सरकारें अनधिकृत कॉलोनियों, झुग्गी झोपड़ी में रहने 5 लाख रेहड़ी पटरी वालों की अजीविका पर भी बुलडोजर चला रही है.

    उन्होंने कहा कि पिछले सात सालों के दौरान भाजपा तथा केजरीवाल सरकार ने मिलकर हजारों झुग्गियों को तोड़ा है. उन्होंने कहा कि दिल्ली सरकार के अंतर्गत ड्यूस‍िब का काम झुग्गी, झोपड़ी, स्लम वासियों को आवास मुहैया कराना है जबकि केजरीवाल सरकरा उन्हें उजाड़ने के लिए बुलडोजर भेज रहे है, जिसका कांग्रेस पार्टी विरोध करती है.

    चौ. अनिल कुमार ने कहा कि कांग्रेस पार्टी ने शकूर बस्ती रेलवे लाईन पर बसी 48,000 झुग्गियों को कोर्ट से राहत दिलाकर टूटने से बचाया. वर्ष 2006-07 में सुप्रीम कोर्ट के आदेश पर चल रही, अवैध सीलिंग तथा डीमोलिशन की कार्यवाही पर कांग्रेस पार्टी ने रोक लगवाई. उन्होंने कहा कि 2010 में गरीबों को आश्रय प्रदान करने के लिए दिल्ली शहरी आवास बोर्ड स्थापित करने के लिए डीयूएसआईबी एक्ट 2010 पास किया और दिल्ली स्पेशल प्रोविजन कानून के तहत कांग्रेस ने 1797 अनाधिकृत कॉलोनियों को किसी भी प्रकार के दंडात्मक कारवाई से बचाया.

    Tags: AAP Government, BJP, Congress, Delhi MCD, Delhi news, MCD

    विज्ञापन

    राशिभविष्य

    मेष

    वृषभ

    मिथुन

    कर्क

    सिंह

    कन्या

    तुला

    वृश्चिक

    धनु

    मकर

    कुंभ

    मीन

    प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
    और भी पढ़ें
    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें

    अगली ख़बर