धर्मांतरण मामला: अब ED ने भी दर्ज किया केस, UP पुलिस द्वारा दर्ज FIR को किया टेक ओवर

कहा जा रहा है कि ईडी विदेश से हुई फंडिंग मामले की भी तफ़्तीश करेगी. (सांकेतिक फोटो)

केंद्रीय जांच एजेंसी ने उत्तर प्रदेश पुलिस द्वारा दर्ज FIR को टेक ओवर कर लिया है. अब दिल्ली और यूपी समेत कई अन्य राज्यों में भी हुए धर्म परिवर्तन की जांच ईडी ही करेगी.

  • Share this:
    नई दिल्ली. अवैध धर्मांतरण (Illegal Religious Conversion) मामले में अब रोज नए- नए खुलासे हो रहे हैं. इसी बीच खबर है कि उत्तर प्रदेश और दिल्ली में हुए अवैध धर्मांतरण मामले में केंद्रीय जांच एजेंसी ईडी (ED) ने भी मामला दर्ज कर लिया है. जानकारी के मुताबिक, केंद्रीय जांच एजेंसी ने उत्तर प्रदेश पुलिस द्वारा दर्ज FIR को टेक ओवर कर लिया है. अब दिल्ली और यूपी समेत कई अन्य राज्यों में भी हुए धर्म परिवर्तन की जांच ईडी ही करेगी. कहा जा रहा है कि ईडी विदेश से हुई फंडिंग मामले की भी तफ़्तीश करेगी. सूत्रों के अनुसार, ईडी मुख्यालय में ये मामला दर्ज हुआ है.

    वहीं, कल खबर सामने आई थी कि धर्मांतरण मामले में यूपी एटीएस (UP ATS) ने उमर गौतम और उसके सहयोगी मुफ्ती काजी जहांगीर कासमी को न सिर्फ गिरफ्तार किया बल्‍कि उसे दोनों की सात दिन की रिमांड भी मिल गई है. इस दौरान पूछताछ में धर्मांतरण का कुछ ब्‍यौरा भी सामने आया है, जो कि बेहद चौंकाने वाला है. इस्लामिक दावा सेंटर के सहारे उमर गौतम और जहांगीर द्वारा बीते डेढ़ साल में धर्म परिवर्तन कराने का 17 पेज का विवरण सामने आया है.

    अपना मूल धर्म छोड़कर इस्‍लाम अपना रहे हैं
    इसमें उमर गौतम के साथी जहांगीर आलम कासमी के दस्तखत से 7 जनवरी 2020 से 12 जून 2021 तक जिन 33 लोगों का धर्मांतरण कराया गया उनमें 18 महिलाओं के साथ 15 पुरुष भी शामिल हैं. हैरानी की बात ये है कि इसमें सिर्फ एक व्‍यक्ति कम पढ़ा-लिखा है. धर्म बदलने वालों में कई सरकारी नौकरी करने वाले, तो कुछ सॉफ्टवेयर इंजीनियर हैं. इसके अलावा इसमें दिल्‍ली के अस्‍पताल की स्‍टाफ नर्स, गुजरात का एमबीबीएस डॉक्‍टर और एमसीए पीएचडी कर चुके लोग शामिल हैं. यही नहीं, इस्‍लामकि दावा सेंटर ने धर्मांतरण फार्म के साथ एक एफिडेविट भी लगाकर दिया है, जिसमें साफ साफ लिखा है कि वह बिना किसी लालच और भय के अपनी स्‍वेच्‍छा से अपना मूल धर्म छोड़कर इस्‍लाम अपना रहे हैं.



    33 में दिल्‍ली के 14 लोग शामिल
    यूपी एटीएस को जिन 33 लोगों की लिस्‍ट मिली हैं, उनमें से सबसे अधिक दिल्‍ली के 14 लोगों ने धर्मांतरण किया है. जबकि यूपी से 9, बिहार से तीन और मध्‍य प्रदेश से दो लोग शामिल हैं. वहीं, गुजरात, महाराष्‍ट्र, असम, झारखंड और केरल के एक-एक व्‍यक्ति ने धर्मांतरण कर इस्‍लाम को स्‍वीकार किया है. हैरानी की बात ये है कि इनमें से यूपी के बुलंदशहर को रहने वाला व्‍यक्ति ही सबसे कम पढ़ा लिखा है और वह छठी पास है. उसने जून में ही धर्मांतरण किया है.

    पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.