Assembly Banner 2021

कोरोना का असर: OPD सेवाओं को लेकर दिल्ली AIIMS का बड़ा फैसला, जानें क्‍या है नया आदेश

एम्स दिल्ली ने कोरोना के खतरे को देखते हुए अपनी ओपीडी सेवाएं बंद कीं.

एम्स दिल्ली ने कोरोना के खतरे को देखते हुए अपनी ओपीडी सेवाएं बंद कीं.

Delhi AIIMS News: कोरोना वायरस के चलते फैल रहे संक्रमण को देखते हुए दिल्‍ली एम्‍स ने सुरक्षा के लिहाज से ऑफलाइन रजिस्‍ट्रशन बंद करने का फैसला किया है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: April 9, 2021, 11:46 AM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. दिल्ली में बढ़ रहे कोरोना (Corona) के खतरे को देखते हुए दिल्ली AIIMS ने OPD सेवाओं में बदलाव करने का फैसला किया है. अब मरीज सीधे ओपीडी में इलाज नहीं करवा सकेंगे. इसके लिए उन्‍हें पहले ऑनलाइन रजिस्‍ट्रेशन करवाना होगा. एम्‍स प्रशासन ने ऑफलाइन रजिस्‍ट्रेशन बंद करने का फैसला किया है. कोरोना वायरस के चलते फैलते संक्रमण को ध्‍यान में रखते हुए सुरक्षा के लिहाज से यह निर्णय लिया गया है. इससे सबसे ज्यादा परेशानी दिल्ली के बाहर से इलाज के लिए आने वाले मरीजों को होगी. ऐसे में अब सिर्फ ऑनलाइन रजिस्ट्रेशन के जरिए ही मरीज एम्स में इलाज करवा सकेंगे. यह व्‍यवस्‍था अगले आदेश तक प्रभावी रहेगी.

देश के सबसे बड़े अस्पताल एम्स में आज से ओपीडी ऑफलाइन रजिस्ट्रेशन बंद करने का फैसला केवल राजधानी नही बल्कि अलग-अलग राज्यों से आने वाले मरीजों पर भी पड़ रहा है, क्योंकि एम्स में रोजाना सैकड़ों की संख्या में मरीज इलाज के लिए यहां पहुंचते हैं. डाटा के मुताबिक, एम्स दिल्ली में ईलाज कराने वाले मरीजों में सबसे ज्यादा संख्या बिहार और उत्तरप्रदेश की है.

दिल्ली के बाहर से आनेवाले मरीजों की परेशानी



उत्तर प्रदेश के बागपत से गौतम सिंह ने कहा अभी हमें ओपीडी बंद किए जाने या फिर अगली तारीख को लेकर कोई जानकारी नहीं दी गई है. वहीं कानपुर से आये अमित ठाकुर जिन्हें स्टोन का इलाज करवाना था. उन्होंने कहा कि, ऑफलाइन अपोटमेंट लिया था जो कैंसिल हो गया अब बीमारी में वापस उत्तर प्रदेश जाने के अलावा कोई विकल्प उनके पास नही है. एम्स OPD के बंद होने के बाद लागू नियम के मुताबिक ऑनलाइन रजिस्ट्रेशन हर विभाग में प्रतिदिन सिर्फ 50 हो सकते हैं.
कोरोना को देखते हुए स्कूल बंद करने की मांग 

राजधानी दिल्ली में अब कोरोना के रोजाना पांच हजार से ज्‍यादा मामले सामने आ रहे हैं. वहीं इन संक्रमित बच्‍चों में ज्‍यादातर स्‍कूल जाने वाले बच्‍चे शामिल हैं. लिहाजा अभिभावकों की चिंता बढ़ गई है. हाल ही में दिल्‍ली स्‍वास्‍थ्‍य विभाग की ओर से जारी किए गए डेटा में चौंकाने वाले आंकड़े सामने आए हैं. जिससे अभिभावक दिल्‍ली के उपराज्‍यपाल अनिल बैजल से दिल्‍ली के सभी प्राइवेट और सरकारी स्‍कूलों को बंद करने की मांग की है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज