लाइव टीवी

Corona Lockdown: सड़क पर निकले तो देना होगा इतना जुर्माना, मिलेगी यह सजा
Delhi-Ncr News in Hindi

News18Hindi
Updated: March 26, 2020, 6:15 PM IST
Corona Lockdown: सड़क पर निकले तो देना होगा इतना जुर्माना, मिलेगी यह सजा
File Photo-delhi police.

पकड़े जाने पर आईपीसी 188, और दिल्ली पुलिस (Delhi Police) एक्ट 65, 66 में कार्रवाई भी खूब हो रही है. एफआईआर (FIR) तक दर्ज करने के साथ ही वाहनों को सीज भी किया जा रहा है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: March 26, 2020, 6:15 PM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. पीएम नरेन्द्र मोदी (PM Narendra Modi) कोरोना वायरस के प्रभाव को देखते हुए देशभर में लॉकडाउन (Lockdown) का ऐलान कर चुके हैं. हर एक देशवासी को 14 अप्रैल तक घर में ही रहना है. यही बचाव कोरोना (Corona) का सबसे बड़ा इलाज भी है. लेकिन बावजूद इसके सैकड़ों की संख्या में तमाशबीन सड़क पर निकल रहे हैं. कोई भीड़ लगाकर खड़ा है तो कोई खाली सड़क पर सरपट वाहन दौड़ा रहा है. लेकिन पकड़े जाने पर आईपीसी 188, और दिल्ली पुलिस (Delhi Police) एक्ट 65, 66 में कार्रवाई भी खूब हो रही है. एफआईआर (FIR) तक दर्ज करने के साथ ही वाहनों को सीज भी किया जा रहा है.

आईपीसी 188 लगने पर यह है सजा और जुर्माना

सुप्रीम कोर्ट के एडवोकेट अनस तनवीर बताते हैं कि जब किसी ज़िले का कोई आईएएस-आईपीएस अधिकारी (पब्लिक सर्वेंट) सरकारी आदेश को लागू करता है और कोई भी व्यक्ति उसका उल्लघंन करता है तो उस पर आईपीसी एक्ट 188 में कार्रवाई की जाती है. इस कार्रवाई के तहत पहले एफआईआर दर्ज की जाती है, फिर 200 रुपये से लेकर एक हजार रुपये तक का जुर्माना लगाया जाता है. साथ ही एक महीने की सजा भी दी जाती है. अगर उल्लघंन करने वाला मानव जीवन के लिए खतरा बनता या फिर किसी के स्वास्थ्य को नुकसान पहुंचाता है तो यह जुर्माना और सजा बढ़ जाते हैं. लेकिन मौजूदा हालात को देखते हुए पुलिस किसी को भी जेल नहीं भेज रही है. थाने से ही जुर्माना भरने के बाद जमानत दे रही है.

दिल्ली पुलिस एक्ट 65-66 में देना होता है जुर्माना



एडवोकेट अनस तनवीर का कहना है कि जैसे आजकल बहुत सारे लोग लॉकडाउन होने के बाद भी सड़क पर घूम रहे हैं. ऐसे में पुलिस उस व्यक्ति को दिल्ली पुलिस एक्ट 65 के तहत डिटेन कर लिया जाता है. कुछ देर तक उसे बैठाने के बाद जुर्माना लेकर छोड़ दिया जाता है. वहीं दिल्ली पुलिस एक्ट 66 में लॉकडाउन का उल्लघंन करने वाले के पास जो वाहन होता है उसे सीज कर दिया जाता है. अगर वाहन चालक चाहे तो मौके पर ही जुर्माना भरकर अपने वाहन को छुड़ा सकता है.

हर रोज इतने लोगों को पर रही है कार्रवाई

दिल्ली पुलिस की मानें तो 24 मार्च से उसने आईपीसी एक्ट 188 और दिल्ली पुलिस एक्ट के तहत कार्रवाई शुरु की है. हर रोज दिल्ली पुलिस एक्ट 65 के तहत 5 हज़ार से ज़्यादा लोगों को डिटेन किया गया. वहीं 66 के तहत लगभग एक हज़ार वाहनों को सीज किया गया. जबकि आईपीसी 188 की कार्रवाई में 180 से लेकर 200 तक एफआइआर दर्ज की गईं.

ये भी पढ़ें :-

COVID-19: अब ट्रेन के डब्बे बनेंगे कोरोना आइसोलेशन सेंटर, 20 हजार कोच किए जा रहे सैनेटाइज

Corona Lockdown: यहां रात-दिन बनाए जा रहे हैं सैनिटाइज़र, मास्क, बॉडी सूट और वैंटीलेटर

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए दिल्ली-एनसीआर से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: March 26, 2020, 6:15 PM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर

भारत

  • एक्टिव केस

    5,218

     
  • कुल केस

    5,865

     
  • ठीक हुए

    477

     
  • मृत्यु

    169

     
स्रोत: स्वास्थ्य मंत्रालय, भारत सरकार
अपडेटेड: April 09 (05:00 PM)
हॉस्पिटल & टेस्टिंग सेंटर

दुनिया

  • एक्टिव केस

    1,151,000

     
  • कुल केस

    1,603,115

    +42
  • ठीक हुए

    356,422

     
  • मृत्यु

    95,693

    +1
स्रोत: जॉन हॉपकिंस यूनिवर्सिटी, U.S. (www.jhu.edu)
हॉस्पिटल & टेस्टिंग सेंटर