एक लाख की जगह हो रहा 75 हजार का कोरोना टेस्ट, BJP ने पूछा सवाल-मरीजों की संख्या कम दिखाने का खेल तो नहीं?

दिल्ली सरकार की ओर से कोरोना की जांच के लिए टेस्ट की संख्या कम कर दी है.

दिल्ली सरकार की ओर से कोरोना की जांच के लिए टेस्ट की संख्या कम कर दी है.

COVID-19 in Delhi: दिल्ली विधानसभा में विपक्ष के नेता रामवीर सिंह बिधूड़ी ने दिल्ली सरकार (Delhi Government) से पूछा है कि इन दिनों राजधानी में कोरोना (Corona) टेस्ट कम क्यों किए जा रहे हैं. पिछले एक सप्ताह में टेस्ट की संख्या इससे पहले की तुलना में बहुत कम हो गई है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: April 26, 2021, 3:18 PM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. दिल्ली में कोरोना‍ (Corona) संक्रमित मरीजों का आंकड़ा हर रोज तेजी से बढ़ रहा है. लेकिन दिल्ली सरकार की ओर से कोरोना की जांच के लिए टेस्ट की संख्या कम कर दी है. इसको लेकर विपक्ष ने केजरीवाल सरकार (Kejriwal Government) पर टेस्ट की संख्या प्रतिदिन टेस्ट की संख्या में कमी करने को लेकर कई सवाल खड़े किए हैं. साथ ही सरकार पर अस्पतालों में ऑक्सीजन की पर्याप्त सप्लाई नहीं कराने पर भी गंभीर आरोप लगाए हैं.

दिल्ली विधानसभा में विपक्ष के नेता रामवीर सिंह बिधूड़ी ने दिल्ली सरकार (Delhi Government) से पूछा है कि इन दिनों राजधानी में कोरोना (Corona) टेस्ट कम क्यों किए जा रहे हैं. उन्होंने कहा है कि पिछले एक सप्ताह में टेस्ट की संख्या इससे पहले की तुलना में बहुत कम हो गई है. कहीं यह दिल्ली में कोरोना मरीजों की संख्या कम दिखाने का कोई खेल तो नहीं है. उन्होंने दिल्ली में गैस की कमी के लिए भी केजरीवाल सरकार को जिम्मेदार ठहराया है.

बिधूड़ी ने कहा है कि दिल्ली सरकार इस महीने में कई बार एक लाख टेस्ट करने का दावा कर चुकी है. लेकिन पिछले एक सप्ताह से लगातार टेस्ट कम किए जा रहे हैं. यह हैरानी की बात है कि दिल्ली में कोरोना के कारण हाहाकार मचा हुआ है. लेकिन टेस्ट की संख्या लगातार कम हो रही है.

उदाहरण के लिए 99,230 टेस्ट हुए थे लेकिन उसके बाद टेस्ट कम कर दिए गए. 18 अप्रैल को 85 हजार, 19 अप्रैल को 90 हजार, 20 अप्रैल को 86 हजार, 21 अप्रैल को 78 हजार, 22 अप्रैल को 72 हजार, 23 अप्रैल को 75 हजार और 24 अप्रैल को 74 हजार टेस्ट हुए हैं.
यही नहीं, इन टेस्टों में एंटिजन टेस्ट (Antigen Test) की संख्या भी बढ़ा दी गई है जबकि कोर्ट भी दिल्ली सरकार को निर्देश दे चुका है कि एंटिजन टेस्ट की जगह आरटी-पीसीआर टेस्ट (RT-PCR Test) बढ़ाए जाएं. एंटिजन टेस्ट पर भरोसा कम किया जाता है.

बिधूड़ी ने यह भी कहा है कि दिल्ली सरकार ऑक्सीजन की कमी के लिए दूसरों को दोष दे रही है जबकि वह खुद इसके लिए सही इंतजाम नहीं कर सकी. उन्होंने पूछा है कि आखिर दिल्ली सरकार के पास कितने टैंकर हैं जिनके जरिए वह ऑक्सीजन लाना चाहती है. दिल्ली हाईकोर्ट (Delhi High Court) में दिल्ली सरकार ने खुद स्वीकार किया है कि हमारे पास कोई टैंकर नहीं है.

बिधूड़ी ने कहा है कि मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल (Arvind Kejriwal) ने चार दिन पहले यह घोषणा की थी कि उड़ीसा (Odisha) से गैस एयरलिफ्ट करके दिल्ली लाई जाएगी. दिल्ली सरकार बताए कि इस दिशा में क्या काम किया गया.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज