Covid-19: दिल्ली में कोरोना संक्रमण से अब तक 877 लोग आ चुके हैं बाहर

राष्ट्रीय राजधानी दिल्‍ली में सोमवार को कोरोना संक्रमण के 293 केस मिले हैं. (फालइ फोटो)
राष्ट्रीय राजधानी दिल्‍ली में सोमवार को कोरोना संक्रमण के 293 केस मिले हैं. (फालइ फोटो)

राष्ट्रीय राजधानी दिल्‍ली (Delhi) में सोमवार को कोरोना संक्रमण के 293 केस मिले हैं. यहां 3518 लोगों की जांच की गई. इसके अलावा दिल्ली में कुल संक्रमित लोगों में 877 लोग अब तक पूरी तरह ठीक हो चुके हैं.

  • News18Hindi
  • Last Updated: April 27, 2020, 3:20 PM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. राष्ट्रीय राजधानी दिल्‍ली (Delhi) में सोमवार को कोरोना संक्रमण के 293 केस मिले हैं. यहां 3518 लोगों की जांच की गई. इसके अलावा दिल्ली में कुल संक्रमित लोगों में 877 लोग अब तक पूरी तरह ठीक हो चुके हैं. यह जानकारी दिल्ली सरकार (Delhi Government) के स्वास्थ्य मंत्री सतेंद्र जैन (Satyendra Jain) ने दी. जैन ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के मुख्यमंत्रियों के साथ हुई बैठक के दौरान इससे जुड़े कई मुद्दों पर चर्चा होने की बात कही. उन्होंने कहा कि इस बैठक के बारे में आगे जानकारी दी जाएगी. इसके अलावा उन्होंने मैक्स हॉस्पिटल में कोरोना संक्रमित मरीज मिलने पर कहा कि ये कोविड के अस्पतालों में मामले नहीं है. जैन के अनुसार, वहां जो इससे संक्रमित नहीं हैं वो इलाज के लिए जाते हैं. जैन का मानना है कि वहां कोरोना से बचाव के लिए पूरी सावधानी नहीं बरती जा रही है.

मेडिकल सेवाओं से जुड़े लोग आ रहे हैं चपेट में
बता दें कि मेडिकल सेवाओं से जुड़े लोगों के लगातार इस खतरनाक वायरस के संक्रमण में आ रहे हैं. यह आंकड़ा बढ़कर 80 से 90 तक पहुंच गया है. वहीं हरियाणा सरकार के मंत्री अनिल विज के विवादित बयान पर उन्होंने किसी भी तरह की टिप्पणी नहीं की. रैपिड किट 145 के मुनाफे के मामले पर जैन ने कहा कि इस तरह की कोई भी बात मेरे संज्ञान में नहीं है. उन्होंने कहा कि लगता है कि ये केंद्र का मसला है.

पीएम मोदी ने देशव्यापी अभियान की बताई जरूरत
प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने सोमवार को कोरोना वायरस के संक्रमण को रोकने के लिये चलाये जा रहे देशव्यापी अभियान को जारी रखने के साथ, देश की अर्थव्यवस्था को सुदृढ़ बनाने पर भी समान रूप से ध्यान देने की जरूरत पर बल दिया. सरकार की ओर से जारी बयान के अनुसार बैठक में मोदी ने राज्यों के मुख्यमंत्रियों से कहा, ‘‘हमें कोविड-19 के खिलाफ लड़ाई के साथ अर्थव्यवस्था को भी समान रूप से अहमियत देने की जरूरत है.’’ प्रधानमंत्री के साथ मुख्यमंत्रियों ने बातचीत में आर्थिक चुनौतियों से निपटते हुए ,स्वास्थ्य के बुनियादी ढांचे को मजबूत करने के तरीकों पर चर्चा की गई है.



महीनों तक दिखेगा असर
बैठक में मोदी ने मुख्यमंत्रियों से कहा कि कोविड-19 का जीवन के विभिन्न पहलुओं पर प्रभाव आने वाले महीनों में दिखेगा. उन्होंने कहा कि इससे बचने के लिये इस्तेमाल हो रहे मास्क और चेहरा ढकने वाला गमछा आदि अब जीवन का हिस्सा बन जायेंगा. उन्होंने मुख्यमंत्रियों से कहा कि कोरोना संकट से निपटने के लिये राज्यों के प्रयास, संक्रमण से प्रभावित रेड जोन इलाकों को कम प्रभाव वाले ऑरेंज जोन में और फिर संक्रमण मुक्त ग्रीन जोन में तब्दील करने पर केन्द्रित होने चाहिये.

लॉकडाउन के प्रभावों पर हुई चर्चा
उल्लेखनीय है कि प्रधानमंत्री मोदी ने कोरोना संक्रमण को रोकने के लिये 25 मार्च को घोषित किये गये लॉकडाउन के प्रभाव की समीक्षा के लिये सोमवार को सभी राज्यों के मुख्यमंत्रियों के साथ वीडियो कांफ्रेंसिंग के जरिये बैठक की है. बैठक में 14 अप्रैल से तीन मई तक के लिये जारी लॉकडाउन के दूसरे चरण में संक्रमण की स्थिति और चरणबद्ध तरीके से लॉकडाउन हटाने के उपायों पर चर्चा हुयी.

 

ये भी पढ़ें:

COVID-19: आदेश के बाद दिल्ली में गली- मोहल्ले की खुल गईं दुकानें

 

कोरोना वॉरियर डॉक्टर के खाते से साइबर ठगों ने पार कर दिए 14 लाख रुपये

 
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज