COVID-19: दिखने लगा जनता कर्फ्यू का असर, घरों से बाहर निकल लोगों ने बजाई थाली और ताली

ज्यादातर सोसायटियों में रहने वाले लोगों ने ऐसा किया और इस दौरान इमरजेंसी सर्विसेज के चलते ऐसे माहौल में काम करने वाले लोगों का आभार जताया.

शनिवार को ही अपने घरों की बालकनियों, खिड़कियों और दरवाजों पर आकर तालियां और थालियां बजाईं. ऐसा नोएडा, दिल्ली, गाजियाबाद और लखनऊ में देखने को मिला.

  • Share this:
     

    नई दिल्ली. कोरोना वायरस (Corona Virus) को लेकर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (PM Narendra Modi) की तरफ से की गई जनता कर्फ्यू की अपील का असर दिखने लगा है. कई बाजारों के शनिवार से ही बंद होने के चलते सड़कें सूनी नजर आईं. वहीं लोगों ने शनिवार को ही अपने घरों की बालकनियों, खिड़कियों और दरवाजों पर आकर तालियां और थालियां बजाईं. ऐसा नोएडा, दिल्ली, गाजियाबाद और लखनऊ में देखने को मिला. ज्यादातर सोसायटियों में रहने वाले लोगों ने ऐसा किया और इस दौरान इमरजेंसी सर्विसेज के चलते ऐसे माहौल में काम करने वाले लोगों का आभार जताया.

    पीएम ने कहा था जनता कर्फ्यू का पालन करें
    पीएम मोदी ने कहा था कि पिछले 2 महीने से हम लगातार दुनिया से आ रही चिंताजनक खबरें देख रहे हैं. ऐसे में इस रविवार यानि 22 मार्च को सुबह 7 बजे से रात 9 बजे तक सभी देशवासियों को 'जनता कर्फ्यू' का पालन करना होगा. पीएम ने कहा, 'रविवार को शाम पांच बजे सभी लोगों को अपने घरों से सायरन बजाकर सेवा करने वाले लोगों को धन्यवाद देना चाहिए.'

    पीएम मोदी ने कहा, 'मैं चाहता हूं कि 22 मार्च रविवार के दिन हम ऐसे सभी लोगों को धन्यवाद अर्पित करें. रविवार को ठीक 5 बजे हम अपने घर के दरवाजे पर खड़े होकर, बाल्कनी में, खिड़कियों के सामने खड़े होकर ताली बजाकर, बर्तन बजाकर, घंटी बजाकर या सायरन बजाकर 5 मिनट तक ऐसे लोगों का आभार व्यक्त करें. प्रधानमंत्री ने अपने संबोधन में कहा, 'पूरे देश के स्थानीय प्रशासन से भी मेरा आग्रह है कि 22 मार्च को 5 बजे सायरन की आवाज से इसकी सूचना लोगों तक पहुंचाएं. 'सेवा परमो धर्म:' के हमारे संस्कारों को मानने वाले ऐसे देशवासियों के लिए हमें पूरी श्रद्धा के साथ अपने भाव व्यक्त करने होंगे.

    22 मार्च रहेगा 'जनता कर्फ्यू'
    पीएम मोदी ने कहा, '22 मार्च को रविवार को सुबह सात बजे से रात नौ बजे तक लोग जनता कर्फ्यू का पालन करें और अपने घरों से बाहर नहीं निकलें. संकट के इस समय में आपको ये भी ध्यान रखना है कि हमारी आवश्यक सेवाओं पर, हमारे अस्पतालों पर दबाव भी निरंतर बढ़ रहा है. इसलिए मेरा आपसे आग्रह ये भी है कि रूटीन चेक-अप के लिए अस्पताल जाने से जितना बच सकते हैं उतना बचें.'

     

    ये भी पढ़ेंः COVID-19: जनता कर्फ्यू के दौरान बालकनी से होगा NRC, CAA और NPR का विरोध

    पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.