Choose Municipal Ward
    CLICK HERE FOR DETAILED RESULTS

    दिल्‍ली में कोरोना वॉरियर्स भूख हड़ताल पर, चार महीनों से नहीं मिला वेतन

    दिल्‍ली एनडीएमसी और हिन्‍दू राव अस्‍पताल के डॉक्‍टर भूख हड़ताल पर गए. सांकेतिक तस्वीर
    दिल्‍ली एनडीएमसी और हिन्‍दू राव अस्‍पताल के डॉक्‍टर भूख हड़ताल पर गए. सांकेतिक तस्वीर

    भूख हड़ताल (Hunger Strike) पर गए डॉक्‍टरों का कहना है कि यह अनिश्चितकालीन हड़ताल है. जब तक उनका बकाया भुगतान नहीं किया जाता, हड़ताल जारी रहेगी. डॉक्‍टरों ने इसे लेकर उत्‍तरी नगर निगम के मेयर से भी बात की लेकिन कोई हल नहीं निकला.

    • News18Hindi
    • Last Updated: October 23, 2020, 6:56 PM IST
    • Share this:
    नई दिल्‍ली. कोरोना के समय में जहां डॉक्‍टरों को कोरोना वॉरियर घोषित किया गया है वहीं दूसरी ओर वे अपने वेतन के लिए धक्‍के खा रहे हैं. लंबे समय से वेतन न मिलने को लेकर एनडीएमसी मेडिकल कॉलेज की रेजिडेंट डॉक्‍टर्स एसोसिएशन और हिंदू राव अस्‍पताल के सभी डॉक्‍टर आज से भूख हड़ताल पर चले गए. वेतन के जल्‍द से जल्‍द भुगतान की मांग कर रहे डॉक्‍टर गुरुवार को जंतर-मंतर पर धरने पर भी बैठे थे. डॉक्‍टरों का कहना है कि उन्‍हें पिछले चार महीनों से वेतन नहीं दिया गया है.

    जानकारी के मुताबिक भूख हड़ताल पर गए डॉक्‍टरों का कहना है कि यह अनिश्चितकालीन हड़ताल हैं. जब तक उनका बकाया भुगतान नहीं किया जाता, हड़ताल जारी रहेगी. डॉक्‍टरों ने इसे लेकर उत्‍तरी नगर निगम के मेयर से भी बात की लेकिन कोई हल नहीं निकला.


    इतना ही नहीं उल्‍टा निगम की ओर से पैसे न होने की बात कही गई. डॉक्‍टरों का कहना है कि कई बार नोटिस देने के बाद भी जब कोई सुनवाई नहीं हुई तो वे हड़ताल पर गए हैं. बता दें कि रेजिडेंट डॉक्‍टर लंबे समय से वेतन देने की मांग कर रहे हैं. इस संबंध में दिल्‍ली सरकार में स्‍वास्‍थ्‍य मंत्री सत्‍येंद्र जैन ने भी नगर निगम पर निशाना साधते हुए कहा था कि अगर बीजेपी से ये अस्‍पताल नहीं संभाले जा रहे हैं तो वह दिल्‍ली सरकार को दे दे.
    अगली ख़बर

    फोटो

    टॉप स्टोरीज