दिल्‍ली में होटल, जिम और साप्‍ताहिक बाजार खुलेंगे या नहीं? आज हो सकता है फैसला
Delhi-Ncr News in Hindi

दिल्‍ली में होटल, जिम और साप्‍ताहिक बाजार खुलेंगे या नहीं? आज हो सकता है फैसला
दिल्‍ली में जिम और होटल को खोलने को लेकर उपराज्‍यपाल अनिल बैजल अहम फैसला ले सकते हैं. (फाइल फोटो)

कोरोना वायरस (Coronavirus) के संक्रमण के प्रसार को रोकने के लिए देशभर में लॉकडाउन लागू किया गया था. इस दौरान दिल्‍ली में भी ज्‍यादा गेदरिंग वाले प्रतिष्‍ठानों जैसे होटल, जिम आदि को बंद कर दिया गया था. अब उपराज्‍यपाल अनिल बैजल (LG Anil Baijal) की अध्‍यक्षता में होने वाली बैठक में इन्‍हें दोबारा से खोलने पर विचार किया जाएगा.

  • News18Hindi
  • Last Updated: August 18, 2020, 7:10 AM IST
  • Share this:
नई दिल्‍ली. देश की राजधानी दिल्‍ली में कोरोना वायरस के संक्रमण की रोकथाम को लेकर लगाए गए लॉकडाउन के बाद से ही ज्‍यादा भीड़-भाड़ वाले प्रतिष्‍ठानों को बंद कर दिया गया है. उस समय से ही होटल, जिम, साप्‍ताहिक बाजार आदि बंद हैं. लेकिन, अब इसे दोबारा से ओपन करने पर मंगलवार को फैसला हो सकता है. जानकारी के मुताबिक, दिल्‍ली डिजास्‍टर मैनेजमेंट अथॉरिटी (DDMA) की बैठक में इस पर कोई निर्णय लिया जा सकता है.

दिल्‍ली के उपराज्‍यपाल अनिल बैजल की अध्‍यक्षता में DDMA की बैठक होने वाली है. इस महत्‍वपूर्ण बैठक में सीएम अरविंद केजरीवाल भी शामिल हो सकते हैं. इसके अलावा स्‍वास्‍थ्‍य मंत्री सत्‍येंद्र जैन और AIIMS के डायरेक्‍टर डॉक्‍टर रणदीप गुलेरिया भी इसमें शिरकत करेंगे. इससे पहले केजरीवाल सरकार ने होटल और जिम को खोलने को लेकर एलजी अनिल बैजल के पास एक प्रस्‍ताव के साथ पहुंचे थे, जिन्‍हें उन्‍होंने स्‍वीकृति नहीं दी थी. अब इसी मसले पर एलजी की अध्‍यक्षता में बैठक होने जा रही है.

इन बातों पर चर्चा होने की संभावना
उपराज्‍यपाल अनिल बैजल की अध्‍यक्षता में होने वाली बैठक में लॉकडाउन के दौरान बंद किए गए कई व्‍यावसायिक प्रतिष्‍ठानों को फिर से खोलने पर चर्चा होने की संभावना है. खासकर देश की राजधानी में जिम, होटल, योग इंस्‍टीट्यूट, साप्‍ताहिक बाजार आदि को फिर से खोलने के मसले पर विचार विमर्श किया जाएगा. बता दें कि केजरीवाल सरकार ने इस बाबत एलजी को एक और प्रस्‍ताव भेजा है. इसमें स्‍पष्‍ट तौर पर कहा गया है कि केंद्र सरकार की ओर से जारी Unlock गाइडलाइन में क्‍या खोला जाए और क्‍या बंद रखा जाए इस बाबत फैसला लेने का अधिकार सरकार के पास है. अगर इन प्रतिष्‍ठानों को खोलने पर सहमति बनती है तो इन्‍हें तकरीबन 6 महीने के बाद दोबारा से खोला जा सकेगा.
कोरोना संक्रमण को रोकने के तहत उठाया था कदम


बता दें कि कोरोना वायरस के बढ़ते संक्रमण को रोकने के लिए मार्च में पहली बार संपूर्ण देश में लॉकडाउन की घोषणा की गई थी. इस दौरान ज्‍यादा भीड़-भाड़ वाले जगहों को बंद कर दिया गया था, ताकि प्राणघातक संक्रमण के फैलाव की रोकथाम की जा सके. उसके बाद क्रमश: इसमें ढील देनी शुरू की गई, ताकि व्‍यावसायिक गतिविधियां फिर से शुरू हो सकें.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज