दिल्ली के वैक्सीन सेंटर्स पर हफ्तेभर से नहीं है Covaxin, Covishield का भी एक दिन का स्टॉक बचा!

दिल्ली सरकार की ओर से बनाये गये वैक्सीनेशन सेंटरों पर वैक्सीन डोज का टोटा पड़ा है.
(फाइल फोटो)

दिल्ली सरकार की ओर से बनाये गये वैक्सीनेशन सेंटरों पर वैक्सीन डोज का टोटा पड़ा है. (फाइल फोटो)

Corona Vaccination Drive in Delhi: हैरान करने वाली बात यह है कि कोवाक्सिन का स्टॉक जो कि 18 से 44 वर्ष के लिए था, वह पिछले 1 सप्ताह से समाप्त चल रहा है. अब कोवीशील्ड का भी 1 दिन से कम समय का स्टॉक दिल्ली के पास बचा है. ऐसे में दिल्ली के वैक्सीनेशन सेंटरों पर 18 से 44 वर्ष के लोगों के लिए डोज की बात करें तो वह पूरी तरीके से खत्म हो चुकी है.

  • Share this:

नई दिल्ली. केंद्र (Centre) और दिल्ली सरकार (Delhi Government) कोरोना संक्रमण से बचाव के लिए ज्यादा से ज्यादा लोगों को वैक्सीन (Vaccine) डोज देने का अभियान चलाए हुए हैं. लेकिन हैरान और परेशान करने वाली बात यह है कि दिल्ली सरकार की ओर से बनाये गये 991 वैक्सीनेशन सेंटरों (Vaccination Centres) पर वैक्सीन डोज का टोटा पड़ा है.

इसका बड़ा उदाहरण दिल्ली सरकार की ओर से जारी की जाने वाली दिल्ली कोविड वैक्सीनेशन बुलेटिन है. 20 मई को जारी की गई बुलेटिन की माने तो दिल्ली में 18 से 44 वर्ष के युवाओं के लिए अभी तक कुल 8,17,690 डोज मिली हैं. इसमें से 19 मई तक 7,49,100 डोज लगायी जा चुकी हैं. वहीं, वीरवार सुबह तक 68,590 डोज उपलब्ध थी.

लेकिन रोजाना के औसतन वैक्सीनेशन को देखा जाए तो 18 से 44 वर्ष की श्रेणी में 50 हजार डोज तक रोजाना लगा रहे हैं. इसलिए वीरवार के वैक्सीनेशन के बाद दिल्ली के पास 1 दिन से भी कम समय का कोवीशील्ड (Covishield) का स्टॉक बचा है.

Youtube Video

वहीं, हैरान करने वाली बात यह है कि कोवाक्सिन (COVAXIN) का स्टॉक जो कि 18 से 44 वर्ष के लिए था, वह पिछले 1 सप्ताह से समाप्त चल रहा है. अब कोवीशील्ड का भी 1 दिन से कम समय का स्टॉक दिल्ली के पास बचा है. ऐसे में दिल्ली के वैक्सीनेशन सेंटरों पर 18 से 44 वर्ष के लोगों के लिए डोज की बात करें तो वह पूरी तरीके से खत्म हो चुकी है.

573 जगहों पर बनाए गए हैं 991 वैक्सीनेशन सेंटर

इस बीच देखा जाए तो दिल्ली सरकार की ओर से हेल्थ केयर वर्कर, फ्रंटलाइन वर्कर और 45 साल से ज्यादा उम्र के लोगों के लिए 474 जगहों पर 623 वैक्सीनेशन सेंटर बनाए गये हैं. उसी तरह से 18 से 44 साल की उम्र के लोगों के लिए 99 जगहों पर 368 वैक्सीनेशन सेंटर बनाए गए हैं. यानी 573 जगहों पर कुल 991 वैक्सीनेशन सेंटर बनाए गए हैं. इन पर  अभी तक सिर्फ 48,69,640 डोज वैक्सीन ही लगाई जा सकी है. इनमें से सिर्फ 11,01,701 लोगों को ही दोनों डोज लगी हैं.



18 से 44 वर्ष के लिए वैक्सीनेशन स्टॉक समाप्त, 150 सेंटर होंगे बंद

18 से 44 वर्ष के लोगों के लिए वैक्सीनेशन का स्टॉक करीब-करीब खत्म होने के चलते अब सरकार मजबूरन 150 से ज्यादा सेंटरों को बंद करने पर विचार कर रही है. इस युवा वर्ग के लिए 99 स्कूलों में 368 साइट पर वैक्सीनेशन सेंटर बनाए गए हैं. लेकिन अब  वैक्सीन उपलब्ध नहीं होने की वजह से सरकार इनको बंद करने की तैयारी कर रही है. साथ ही इसको लेकर बेहद चिंतित भी है.

42.99 लाख 45+, फ्रंटलाइन व हेल्थ केयर वर्कर को लग चुकी है वैक्सीन

बुलेटिन के आंकड़ों की बात करें तो 20 मई की सुबह तक 45 वर्ष से अधिक उम्र के लोगों, फ्रंटलाइन वर्कर और हेल्थ केयर वर्कर के लिए कुल 45,44,250 डोज दी गईं. इनमें से 19 मई तक 42,99,660 डोज लगाई जा चुकी है. सिर्फ 2,44,590 डोज बची हैं. 45 वर्ष से अधिक उम्र की श्रेणी के लिए भी सरकार के पास कोवैक्सीन (COVAXIN) का 2 दिन और कोवीसील्ड का 9 दिन का स्टॉक उपलब्ध है.

वॉक इन वैक्सीनेशन सेंटर शुरू होने 45+ का बढ़ा ग्राफ

वहीं, 45 वर्ष से अधिक उम्र की श्रेणी के लिए वॉक इन वैक्सीनेशन सेंटर (Walk in Vaccination Centre) शुरू कर दिए गए हैं. ऐसे लोग जिन्हें ऑनलाइन रजिस्ट्रेशन में दिक्कत हो रही है उनके लिए वॉकिंग वैक्सीनेशन की सुविधा उपलब्ध है. इसके बाद से इस वर्ग का वैक्सीनेशन बढ़ा है.

अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज