लाइव टीवी

Lockdown Effect: हवाई यात्रा के लिए हुए 10 बदलाव, Airport पर इन स्टेप से होगा गुजरना
Delhi-Ncr News in Hindi

Anoop Mishra | News18Hindi
Updated: May 21, 2020, 2:14 PM IST
Lockdown Effect: हवाई यात्रा के लिए हुए 10 बदलाव, Airport पर इन स्टेप से होगा गुजरना

COVID-19 के खिलाफ जारी जंग को देखते हुए केंद्रीय नागरिक उड्डयन मंत्रालय ने एयरपोर्ट (Airport) के प्रोसीजर्स में व्‍यापक बदलाव किया है. इसमें यात्रियों के एयरपोर्ट पर आने से लेकर विमान में चढ़ने और उतरने तक कई बदलाव किए गए हैं.

  • Share this:
नई दिल्‍ली. केंद्रीय नागरिक उड्डयन मंत्रालय (Union Civil Aviation Ministry) से हरी झंडी मिलने के बाद 25 मई से घरेलू विमानों का परिचालन एक बार फिर शुरू हो जाएगा. 24 मई की मध्‍य रात्रि से आप अपनी मनचाही जगह के लिए उड़ान भर सकेंगे. हालांकि, लॉकडाउन के बाद आपकी यह उड़ान अब तक की बाकी उड़ानों से बहुत अलग होने वाली है. दरअसल, COVID-19 के खिलाफ जारी जंग को देखते हुए उड्डयन मंत्रालय ने एयरपोर्ट के प्रोसीजर्स में थोड़ा बदलाव किया है. आपको इन बदलाव के बारे में बताने के लिए हमने दिल्‍ली के इंदिरा गांधी अंतरराष्ट्रीय एयरपोर्ट और हैदराबाद के राजीव गांधी इंटरनेशनल एयरपोर्ट से कुछ तस्‍वीरें इकट्ठा की है. आइए आपको इन्‍हीं तस्‍वीरों के जरिए बताते हैं अब कैसे बदलेगा आपके हवाई सफर का अनुभव.



1. कैमरे से होगी आपके पहचान पत्र की जांच: सोशल डिस्‍टेंसिंग के जरिए कोरोना वायरस के संक्रमण को रोकने के लिए हैदराबाद एयरपोर्ट पर बेहतरीन इंतजाम किया गया है. इसके तहत टर्मिनल के गेट से कुछ दूरी पर एक कैमरा लगा होगा. इस कैमरे के सामने आपको अपना एयर टिकट और पहचान पत्र रखना होगा. कैमरे से करीब एक मीटर की दूरी पर एक स्‍क्रीन लगाई गई, जिस पर आपके टिकट और पहचान पत्र की जांच CISF के अधिकारी करेंगे. देश के सभी प्रमुख एयरपोर्ट पर भी ऐसे ही इंतजाम किए जा रहे हैं.







2. टर्मिनल गेट पर यात्रियों की होगी स्‍क्रीनिंग: एयरपोर्ट टर्मिनल में प्रवेश करने से पहले अब सभी यात्रियों के लिए थर्मल स्‍क्रीनिंग को अनिवार्य कर दिया गया है. थर्मल स्‍क्रीनिंग के लिए टर्मिनल गेट के बाहर की तरफ एक थर्मल कैमरा लगाया गया है. इस कैमरे को टर्मिनल के गेट के भीतर की तरफ लगे सिस्‍टम से जोड़ा गया है. इस‍ सिस्‍टम की मदद से टर्मिनल के गेट पर तैनात सीआईएसएफ के अधिकारी मुसाफिरों के शारीरिक तापमान और संभावित खतरे का पहले से अनुमान लगा सकेंगे.



3. यात्रियों के लिए वेब चेक-इन अनिवार्य: कॉन्टेक्ट लेंस प्रोसेस के सिद्धांत पर काम करते हुए नागरिक उड्डयन मंत्रालय ने यात्रियों के लिए वेब चेक-इन को अनिवार्य किया है. यदि कोई मुसाफिर किन्‍हीं कारणवश वेब चेक-इन नहीं कर पाते हैं, तो उनके लिए एयरपोर्ट पर कियोस्‍क लगाए गए हैं. जिन एयरपोर्ट पर अभी तक चेक-इन कियोस्‍क नहीं हैं, वहां पर स्‍पेशल चेक-इन काउंटर बनाए जा रहे हैं. यह काउंटर पूरी तरह से कांच से कवर्ड होंगे. इन काउंटर के बाहर एक प्रिंटर लगा होगा. प्रिंटिंग के बाद बोर्डिंग पास सीधे यात्री के हाथ में आएगा.



4. बैगेज ड्रॉप के दौरान होगी सोशल डिस्‍टेंसिंग: बैगेज ड्रॉप के दौरान यात्रियों के बीच सोशल डिस्‍टेंसिंग रखने के लिए चेक-इन एरिया में स्‍पेशल मार्किंग की गई है. यात्रियों को मार्क किए गए स्‍थान पर ही खड़ा होना होगा. चेक-इन एरिया की तरह एयरपोर्ट पर उन सभी स्‍थानों पर मार्किंग की गई है, जहां पर लाइनें लगती हैं. आपको यह भी बता दें कि उड्डयन मंत्रालय ने हैंड बैग या केबिन बैग पर पूरी तरह से प्रतिबंध लगा दिया है. लिहाजा, यात्रा के लिए आप अब अपने साथ किसी तरह का हैंड बैग लेकर न जाएं.



5. बोर्डिंग पास में सिक्‍योरिटी स्‍टैंप अब नहीं: कोरोना वायरस के संक्रमण को ध्‍यान में रखते हुए एयरपोर्ट पर बोर्डिंग पास पर लगने वाली सिक्‍योरिटी स्‍टैंप को बंद कर दिया गया है. अब सीआईएसएफ के अधिकारी कैमरे या रीडर की मदद से आपका बोर्डिंग पास चेक करेंगे और सुरक्षा जांच के बाद आपको सिक्‍योरिटी होल्‍ड एरिया में जाने की इजाजत दे देंगे. सीआईएसएफ के जवानों की सुरक्षा को ध्‍यान में रखते हुए उन्‍हें PPE किट उपलब्‍ध कराई गई है. इसके अलावा एयरपोर्ट के सभी टच प्‍वाइंट पर सैनेटाइजर लगाए गए हैं, ताकि यात्री खुद को बार बार सैनेटाइज कर सकें.



6. एयरपोर्ट पर पैर से दबा सकेंगे लिफ्ट की बटन: एयरपोर्ट पर यात्री कम से कम चीजों को हाथ से छुए, इस बात को ध्‍यान में रखते हुए लिफ्ट में भी विशेष प्रावधान किए गए हैं. अब लिफ्ट की बटन को पैर से दबाकर भी संचालित किया जा सकता है. पैर से संचालित होने वाली यह लिफ्ट हैदराबाद के राजीव गांधी इंटरनेशनल एयरपोर्ट पर तैयार की गई है.



7. एयरब्रिज पर सोशल डिस्‍टेंसिंग के लिए हुई मार्किंग: विमान में प्रवेश के लिए कतारों में लगे यात्रियों के बीच सोशल डिस्‍टेंसिंग का पालन कराने के लिए एयरोब्रिज में मार्किंग की गई है. विमान में प्रवेश करते समय दो यात्रि‍यों के बीच 1 मीटर से अधिक की दूरी होगी. यात्री यह दूरी भूले नहीं, इसके लिए रेड मार्क भी लगाए गए हैं. कुछ यही स्थिति बस गेट पर भी होगी. बस गेट से एयरक्राफ्ट तक ले जाने वाली बसों में भी सोशल डिस्‍टेंसिंग की व्‍यवस्‍था की गई है.



8. ट्रॉली और बैगेज को डिसइंफेक्‍ट करने के खास व्‍यवस्‍था: एयरपोर्ट पर सबसे पहले किसी भी यात्री के संपर्क में बैगेज ट्राली आती है. बैगेज ट्रॉली के जरिए संक्रमण न फैले, इसके लिए डिसइंफेक्‍शन टनल बनाई गई है. इसी तरह, हवाई यात्रा के बाद आने वाले सामान को संक्रमण से मुक्‍त करने के लिए बैगेज बेल्‍ट में ही डिसइंफेक्‍शन यूनिट लगा दी गई है.



9. हवाई यात्रा पूरी होने के बाद भी होगी स्‍क्रीनिंग: हवाई यात्रा पूरी करने के लिए बाद जब आप अपने गंतव्‍य एयरपोर्ट पर पहुंचेंगे, तब वहां भी आपकी स्‍क्रीनिंग की जाएगी. मंत्रालय ने अपनी एसओपी में क्‍वारंटाइन रह चुके यात्रियों के लिए अलग प्रावधान तय किए हैं. साथ, बुखार, खांसी जैसे अन्‍य लक्षण दिखने पर आपको हवाई यात्रा से रोका भी जा सकता है.



10. SHA में बैठने के लिए होगी विशेष व्‍यवस्‍था: सिक्‍योरिटी होल्‍ड एरिया (SHA) में मुसाफिरों के बैठने के लिए भी नए सिरे से व्‍यवस्‍था की गई है. एसएचए में मौजूद बहुत सी सीट पर नो-यूज के स्‍टीकर लगा कर यात्रियों को उनके उपयोग से रोका गया है. मंत्रालय की कोशिश है कि एयरपोर्ट पर यात्री किसी भी सूरत में एक दूसरी के करीब ना आएं. सभी यात्री सफर के दौरान सोशल डिस्‍टेंसिंग का पालन करें.

 

 

यह भी पढ़ें: 

हवाई यात्रा के लिए दो घंटे पहले पहुंचना होगा एयरपोर्ट, पूरी करनी होंगी ये 15 शर्तें
LOCKDOWN 4.0: आरोग्य सेतु में ग्रीन स्टेटस तो ही कर सकेंगे हवाई यात्रा, और भी हैं कई शर्तें

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए दिल्ली-एनसीआर से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: May 21, 2020, 11:36 AM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
corona virus btn
corona virus btn
Loading