लाइव टीवी

शाहीन बाग से प्रदर्शनकारियों को हटाना सभी के हित में: शाहनवाज हुसैन
Delhi-Ncr News in Hindi

भाषा
Updated: March 25, 2020, 12:52 AM IST
शाहीन बाग से प्रदर्शनकारियों को हटाना सभी के हित में: शाहनवाज हुसैन
शाहनवाज हुसैन ने शाहीन बाग प्रदर्शन को आधारहीन बताया. (फाइल फोटो)

शाहनवाज हुसैन ने कहा कि सीएए (CAA) किसी की नागरिकता लेने वाला नहीं है बल्कि यह पड़ोसी देशों में प्रताड़ना का सामना करने वाले वहां के अल्पसंख्यकों को नागरिकता देने वाला है.

  • Share this:
नई दिल्ली. नागरिकता संशोधन कानून (CAA) के खिलाफ शाहीन बाग (Shaheen Bagh) में चल रहे धरने से प्रदर्शनकारियों को हटाए जाने का बीजेपी ने स्वागत किया है. बीजेपी के राष्ट्रीय प्रवक्ता शाहनवाज हुसैन ने मंगलवार को कहा कि कोरोना वायरस के फैलाव को देखते हुए उस स्थान से प्रदर्शनकारियों को हटाया जाना सभी के हित में था.

दरअसल, दिल्ली पुलिस ने कोरोना वायरस के मद्देनजर दिल्ली में लाकडाउन के बीच मंगलवार सुबह संशोधित नागरिकता कानून के खिलाफ शाहीन बाग एवं अन्य स्थानों पर प्रदर्शन कर रहे लोगों को हटा दिया है.

बीजेपी प्रवक्ता ने प्रदर्शन को आधारहीन बताते हुए कहा, ‘सीएए किसी की नागरिकता लेने वाला नहीं है बल्कि यह पड़ोसी देशों में प्रताड़ना का सामना करने वाले वहां के अल्पसंख्यकों को नागरिकता देने वाला है. यह किसी भारतीय की नागरिकता नहीं लेता है.’

हुसैन ने कहा कि प्रारंभ से ही राष्ट्रीय जनसंख्या रजिस्टर (एनपीआर) के बारे में लोगों को गुमराह किया जा रहा है. उन्होंने कहा कि कोरोना वायरस के मद्देनजर इन कठिन परिस्थितयों में मानवता को एकजुट रहने की जरूरत है.



ये भी पढ़ें: COVID-19: जरूरी गाड़ियों को नहीं होगी कर्फ्यू पास की जरूरत, पुलिस ने आवाजाही के लिये बनाई अलग लेन

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए दिल्ली-एनसीआर से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: March 24, 2020, 9:36 PM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर

भारत

  • एक्टिव केस

    5,218

     
  • कुल केस

    5,865

     
  • ठीक हुए

    477

     
  • मृत्यु

    169

     
स्रोत: स्वास्थ्य मंत्रालय, भारत सरकार
अपडेटेड: April 09 (05:00 PM)
हॉस्पिटल & टेस्टिंग सेंटर

दुनिया

  • एक्टिव केस

    1,151,274

     
  • कुल केस

    1,603,428

    +355
  • ठीक हुए

    356,440

     
  • मृत्यु

    95,714

    +22
स्रोत: जॉन हॉपकिंस यूनिवर्सिटी, U.S. (www.jhu.edu)
हॉस्पिटल & टेस्टिंग सेंटर