Home /News /delhi-ncr /

घरेलू हिंसा पर दिल्ली हाईकोर्ट का आदेश- पीड़ितों की शिकायत पर हो तुरंत कार्रवाई

घरेलू हिंसा पर दिल्ली हाईकोर्ट का आदेश- पीड़ितों की शिकायत पर हो तुरंत कार्रवाई

दिल्ली हाई कोर्ट ने डॉक्टरों की कमिटी बनाने को कहा. (फाइल फोटो)

दिल्ली हाई कोर्ट ने डॉक्टरों की कमिटी बनाने को कहा. (फाइल फोटो)

कोरोना वायरस (Coronavirus) के संक्रमण की रोकथाम के लिए लागू लॉकडाउन के बीच अपराध और आपराधिक घटनाओं में कमी दर्ज की गई है. लेकिन घरेलू हिंसा से जुड़े कई मामले देश के अलग-अलग शहरों से सामने आए हैं.

    नई दिल्ली. कोरोना संक्रमण के बीच घरेलू हिंसा के मामलों से संबंधित शिकायतें के त्वरित निवारण के लिए दिल्ली हाईकोर्ट (Delhi High Court) ने रविवार को आदेश जारी किया. हाईकोर्ट ने इस बाबत जारी निर्देश में कहा कि घरेलू हिंसा से जुड़े मामलों को निपटाने के लिए जो हेल्पलाइन (helpline) बनाए गए हैं, वे शिकायतों का जल्द से जल्द निपटारा करें, इसकी व्यवस्था सुनिश्चित की जाए. अदालत ने अपने आदेश में संबंधित विभागों को कहा कि इसके लिए मोबाइल कॉल या संदेश से शिकायत दर्ज कराने की जो व्यवस्था की गई है, वह हमेशा चालू रहे, यह सुनिश्चित होना चाहिए.

    हाईकोर्ट ने निर्देश दिया कि इन नंबरों पर जो कॉल या संदेश आते हैं, उनका जवाब तुरंत दिया जाए, इसका ध्यान रखा जाना चाहिए. दिल्ली उच्च न्यायालय ने अपने निर्देश में कहा कि विशेष रूप से घरेलू हिंसा मामले से निपटने के लिए जो हेल्पलाइन और व्हाट्सएप नंबर की व्यवस्था बनाई गई है, वह फंक्शनल रहे, ताकि किसी भी पीड़ित को शिकायत करने के बाद उसकी समस्या का समाधान मिल सके. कोर्ट ने कहा कि हेल्पलाइन या वॉट्सएप पर जो भी कर्मी कॉल या संदेश प्राप्त कर रहे हैं, वह उनका जवाब देंगे.



    घरेलू हिंसा के मामले आ रहे सामने
    आपको बता दें कि कोरोना वायरस के संक्रमण की रोकथाम के लिए लागू लॉकडाउन के बीच अपराध और आपराधिक घटनाओं में कमी दर्ज की गई है. लेकिन घरेलू हिंसा से जुड़े कई मामले देश के अलग-अलग शहरों से सामने आए हैं. इन खबरों के मद्देनजर दिल्ली हाईकोर्ट के इस बाबत जारी निर्देशों को अहम माना जा रहा है.

    हेल्पलाइन के कर्मी प्रशिक्षित हों
    दिल्ली हाईकोर्ट ने अपने निर्देश में संबंधित प्राधिकरण को यह भी निर्देश दिया है कि जो व्यक्ति हेल्पलाइन पर प्रतिक्रिया दे रहा है, उसे शिकायतकर्ताओं की सामान्य कठिनाइयों के संभावित उपायों के बारे में ट्रेनिंग दी जानी चाहिए. कोर्ट ने कहा कि ऐसा कोई सिस्टम डेवलप किया जाना चाहिए, जिससे इस तरह की शिकायतें मिलने के बाद तुरंत कार्रवाई की जा सके.

    ये भी पढ़ें:-

    दिल्ली के बाबू जगजीवन राम अस्पताल में डॉक्टर सहित 44 स्टाफ कोरोना पॉजिटिव

    कृषि मंत्री ने अररिया के DAO के प्रमोशन का किया खंडन, कही ये बात

    Tags: COVID 19, Crime Against woman, DELHI HIGH COURT, Delhi police, Domestic violence, Lockdown

    विज्ञापन

    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें

    अगली ख़बर