COVID-19 : कनिका कपूर ने पुलिस में दर्ज कराया बयान, खुद को बताया निर्दोष

बॉलीवुड सिंगर कनिका कपूर ने बयान दर्ज कराया (फाइल फोटो)
बॉलीवुड सिंगर कनिका कपूर ने बयान दर्ज कराया (फाइल फोटो)

कनिका के मुताबिक 10 मार्च को वो यूके से मुंबई आई थी. मुंबई एयरपोर्ट पर उसकी स्क्रीनिंग हुई थी. बयानों में आगे कनिका ने लिखा है कि वह 11 मार्च को लखनऊ आईंं, लेकिन एयरपोर्ट पर स्क्रीनिंग की कोई भी व्यवस्था नहीं थी.

  • News18Hindi
  • Last Updated: April 30, 2020, 12:09 AM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. कोविड-19 से संक्रमित हुई बॉलीवुड  बॉलीवुड सिंगर कनिका कपूर (Kanika Kapoor) का बयान बुधवार को लखनऊ की सरोजिनी नगर पुलिस ने दर्ज किया. लखनऊ के पुलिस आयुक्त सुजीत पांडेय ने बताया कि सरोजिनी नगर पुलिस थाने की पुलिस आज कपूर का बयान दर्ज करने गयी थी. सरोजिनी नगर पुलिस थाने के निरक्षीक आनंद शाही ने बताया कि बुधवार दोपहर को पुलिस ने उनसे जो पूछताछ की उसमें उनके विदेश से वापस आने के बाद लखनऊ में उन पार्टियों की जानकारी ली गयी जिसमें वह शामिल हुई थी. पुलिस ने कनिका के पासपोर्ट, हवाई यात्रा के टिकट आदि कागजों की फोटो कापी भी उनसे ली.  पुलिस को दिए गए अपने बयान में कनिका ने खुद को निर्दोष बताया है.

लखनऊ पुलिस ने उन्हें 27 अप्रैल को सरोजिनी नगर थाने में 30 अप्रैल को हाजिर होकर अपना बयान दर्ज कराने के संबंध में सोमवार को एक नोटिस भेजा था , लेकिन पुलिस ने एक दिन पहले आज 29 अप्रैल को ही उनका बयान दर्ज कर लिया.

मुंबई एयरपोर्ट पर स्क्रीनिंग हुई थी, पर लखनऊ में नहीं



कनिका के मुताबिक 10 मार्च को वो यूके से मुंबई आई थी. मुंबई एयरपोर्ट पर उसकी स्क्रीनिंग हुई थी. बयानों में आगे कनिका ने लिखा है कि वह 11 मार्च को लखनऊ आई. डॉमेस्टिक एयरपोर्ट पर स्क्रीनिंग की कोई भी व्यवस्था नहीं थी. कनिका के मुताबिक 18 मार्च को एडवाइजरी जारी हुई कि यूके से आने वाले लोगों को क्‍वारंटाइन (Quarantine) में जाना होगा लेकिन वह 10 मार्च को ही यूके से आ चुकी थी. लिहाजा वो क्वारंटाइन में नहीं गईं. 14 और 15 मार्च को लखनऊ में एक लंच और डिनर में शिरकत कीं. 18 मार्च तबीयत में कुछ गड़बड़ी महसूस होने पर उन्होंने खुद अपना कोरोना टेस्ट करवाया और डॉक्टरों की राय के बाद अस्पताल और क्वारंटाइन में रहीं.
कनिका के बयानों की तस्दीक के लिए मुंबई एयरपोर्ट से संपर्क

कनिका ने अपने बयानों में कहा कि उसके संपर्क में यूके, मुंबई या लखनऊ में आए किसी भी व्यक्ति में कोरोना पॉजिटिव नहीं पाया गया, लिहाजा उसकी कतई मंशा कोरोना फैलाने की नहीं थी. चूंकि उसने खुद अपना कोरोना टेस्ट करवाया और अस्पताल में रही, क्‍वारंटाइन में रहीं, लिहाजा उन्होंने कोई लापरवाही भी नहीं बरती, इसलिए उसके ऊपर कोई मामला नहीं बनना चाहिए. जांच अधिकारी के मुताबिक आगे की विवेचना में कनिका के बयानों की तस्दीक की जाएगी और आगे की जांच के लिए मुंबई एयरपोर्ट से संपर्क साधा जा रहा है. बताते चलें कि लखनऊ के सरोजनी नगर थाने में इसी थाने में कनिका के खिलाफ भारतीय दंड विधान की धारा 269, 270 और 188 के तहत गत 20 मार्च को मुकदमा दर्ज हुआ था. यह मुकदमा लखनऊ के मुख्य चिकित्सा अधिकारी की शिकायत पर दर्ज कराया गया था.

कनिका की हुई थी आलोचना
गत 19 मार्च को कनिका के कोरोना संक्रमित होने का पता चलने के बाद उनकी यह कहते हुए तीखी आलोचना की गई थी कि उन्होंने लंदन से लौटने पर हवाई अड्डा प्रशासन द्वारा खुद को पृथक करने की सलाह न मानते हुए पार्टियां आयोजित कीं. इस मामले में कनिका के खिलाफ मुकदमा भी दर्ज हुआ था. कनिका को लखनऊ स्थित एसजीपीजीआई में भर्ती किया गया था और तीन नेगेटिव रिपोर्ट आने के बाद छह अप्रैल को उन्हें छुट्टी दे दी गई थी. इस वक्त वह लखनऊ में अपने परिवार के साथ हैं.

गौरतलब है कि 14 और 15 मार्च को लखनऊ में आयोजित कुछ पार्टियों में कनिका ने शिरकत की थी. इनमें उत्तर प्रदेश के स्वास्थ्य मंत्री जय प्रताप सिंह, राजस्थान की पूर्व मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे सिंधिया और उनके सांसद पुत्र दुष्यंत सिंह समेत बड़ी संख्या में लोग मौजूद थे. हालांकि इन सब की जांच रिपोर्ट नेगेटिव आई थी.

इनपुट : ऋषभ मणि त्रिपाठी

इन्हें भी पढ़ें

चांदनी महल के 2 पुलिसकर्मियों को अस्पताल से मिली छुट्टी, कल 26 होंगे डिस्चार्ज

Lockdown : भाजपा के गले नहीं उतर रही आप सरकार की मुख्यमंत्री खाद्य कूपन योजना
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज