लाइव टीवी

Covid-19: जुड़वा बच्चों का इलाज कराने AIIMS आया था दंपति, अब घर वापसी के लिए लगा रहा गुहार
Patna News in Hindi

Ravishankar Singh | News18Hindi
Updated: March 28, 2020, 7:02 PM IST
Covid-19: जुड़वा बच्चों का इलाज कराने AIIMS आया था दंपति, अब घर वापसी के लिए लगा रहा गुहार
मनोरंजन दो जुड़वा बच्चों के इलाज के लिए दिल्ली के एम्स आए थे.

बिहार सरकार (Bihar Government) ने अपने लोगों की मदद के लिए दिल्ली स्थित बिहार भवन (Bihar Bhawan) में तत्काल प्रभाव से 3 हेल्पलाइन नंबर (Helpline Number) शुरु किए हैं. ये हेल्पलाइन नंबर जारी करते वक्त बिहार सरकार ने कहा था कि जरूरतमंद लोग इन नंबरों पर फोन कर सहायता मांग सकते हैं, लेकिन हकीकत में इन हेल्पलाइन नंबरों पर लोगों को मदद मिलने के बजाए परेशानी झेलनी पड़ रही है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: March 28, 2020, 7:02 PM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. लॉकडाउन (Lockdown) के कारण कई राज्य सरकारों ने अपने-अपने नागरिकों की सहायता के लिए हेल्पलाइन नंबर जारी किए हैं. बिहार सरकार भी राज्य के बाहर फंसे लोगों के लिए दिल्ली स्थित बिहार भवन में तत्काल प्रभाव से तीन हेल्पलाइन नंबर शुरु किए हैं. हेल्पलाइन नंबर जारी करते वक्त बिहार सरकार ने कहा था कि जरूरतमंद लोग इन नंबरों पर फोन कर सहायता मांग सकते हैं लेकिन, हकीकत में इन हेल्पलाइन नंबर पर लोगों को मदद मिलने के बजाए परेशानी झेलनी पड़ रही है. बिहार के जमुई जिले से दिल्ली के एम्स में जुड़वा बच्चों का इलाज कराने आया एक दंपति न्यूज 18 हिंदी के साथ बातचीत में अपना दर्द बयां किया. यह शख्स पिछले तीन दिनों से इन नंबरों पर फोन करते-करते थक गया लेकिन हेल्पलाइन नंबर पर बात नहीं हो पाई. बता दें कि बिहार सरकार की तरफ से जारी किए गए ये तीन हेल्पलाइन नंबर (011-23792009, 011-23014326 और 011-23013884) हैं.

हेल्पलाइन नंबर पर भी नहीं मिल रही है मदद
बिहार के जमुई जिले के रहने वाले मनोरंजन न्यूज 18 हिंदी के साथ बातचीत में कहते हैं, ' पिछले सप्ताह ही दो जुड़वा बच्चों के इलाज के सिलसिले में एम्स (AIIMS) आया था. पिछले 6 साल से दोनों बच्चों का इलाज एम्स के न्यूरो विभाग में चल रहा है. इस बार लॉकडाउन के बाद यहां रहना मुश्किल हो गया है. एम्स के पास ही एक गेस्ट हाउस में एक कमरा ले कर रहा हूं. इस कमरे का किराया 500 रुपये देना पड़ रहा है. दो छोटे-छोटे बच्चे और पति-पत्नी इसी कमरे में कैद हूं. बच्चे कमरे में रहने को तैयार नहीं हैं. लॉकडाउन के बाद बाजार बंद हो गया है. एम्स का ओपीडी भी बंद हो गया है. घर जाना चाह रहे हैं लेकिन जा नहीं पा रहे हैं. बिहार सरकार ने जो हेल्पलाइन नंबर जारी किया है वो काम ही नहीं कर रहा है. आपलोग भी खुद डायल कर देख सकते हैं. एक बिपिन जी नाम के कोई कमिश्नर हैं सिर्फ उनका नंबर लग रहा है वो भी फोन उठाते ही कट जाता है.'

coronavirus, covid-19, Lockdown, bihar bhawan, bihar government, nitish kumar, delhi-ncr, pm narendra modi, aiims, नतीश कुमार, बिहार भवन दिल्ली,  बिहार निवास, बिहार सरकार, कोरोना वायरस, लॉकडाउन, एम्स, अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्थान दिल्ली, जमुई,
लॉकडाउन के कारण एम्स में आपीडी सेवा फिलहाल बंद कर दी गई है.




मनोरंजन कहते हैं, 'मेरे दोनों बच्चों के सर में इंफेक्शन है. सर में पानी भर जाता है. अब हम यहां क्या करें? हम सरकार से यही अपेक्षा रखते हैं कि हमारे पूरे परिवार का कोरोना वायरस का जांच कराकर घर भेज दिया जाए. जब लोगों को इटली-स्पेन से प्लेन में लाया जा सकता है तो क्या बस को सेनिटाइज कर हमारे जैसे लोगों को घर नहीं भेजा जा सकता है. इस स्थिति में कोई नेता काम नहीं आ रहा है. हमने बिहार में अपने स्थानीय विधायक से भी बात किया लेकिन उनकी तरफ से भी सिर्फ मदद का आश्वासन ही मिला. फिलहाल तो कहीं से भी मदद की उम्मीद नहीं दिख रही है. हम लोग पूरी तरह से फंस चुके हैं और खुद को असहाय महसूस कर रहे हैं. खाने-पीने में तो फिलहाल कोई कोई दिक्कत नहीं है, लेकिन बिना मतलब हमें यहां रहना पड़ रहा है. दोनों बच्चे परेशान हैं. ऐसा लग रहा है कि सरकार 100 दिन तक लॉकडाउन करने जा रही है.'



गौरतलब है कि बिहार सरकार ने इन तीन नंबरों के अलावा भी कई और नंबर जारी किए हैं. न्यूज 18 हिंदी ने भी उन नंबरों पर डायल कर भी हाल जाना. वे सारे नंबर नहीं उठ रहे हैं.

ये भी पढ़ें:

COVID-19 संकट पर बोले पूर्व केंद्रीय मंत्री- धार्मिक संस्थानों के पास अकूत धन, जनता के लिए करें दान

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए पटना से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: March 28, 2020, 7:02 PM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
corona virus btn
corona virus btn
Loading