Home /News /delhi-ncr /

कोविड वैक्‍सीनेशन के बाद अब इन बड़े अभियानों के लिए होगा CoWIN का इस्‍तेमाल

कोविड वैक्‍सीनेशन के बाद अब इन बड़े अभियानों के लिए होगा CoWIN का इस्‍तेमाल

100 करोड़ वैक्‍सीनेशन में अहम भूमिका निभाने के बाद अब कोविन एप का इस्‍तेमाल रक्‍तदान और अंगदान जैसे अभियानों में होगा.

100 करोड़ वैक्‍सीनेशन में अहम भूमिका निभाने के बाद अब कोविन एप का इस्‍तेमाल रक्‍तदान और अंगदान जैसे अभियानों में होगा.

CoWIN Platform: कोविन इंचार्ज डॉ. आरएस शर्मा कहते हैं कि अब जबकि कोविन प्लेटफॉर्म की सहायता से हमने कोविड टीकाकरण में सौ करोड़ का आंकड़ा पार कर लिया है ऐसे में कोविन का प्रयोग जन्‍म से लेकर 16 साल तक बच्‍चों से किशोरों के होने वाले नियमित टीकाकरण, अन्‍य बीमारियों के टीकाकरण, रक्तदान, अंगदान और अन्य स्वास्थ्य सेवाओं के लिए प्रयोग किया जा सकेगा.

अधिक पढ़ें ...

नई दिल्‍ली. भारत में 100 करोड़ कोविड टीकाकरण (100 Crore Covid Vaccination) का रिकॉर्ड बनाने में सबसे बड़ा योगदान स्‍वदेशी प्‍लेटफॉर्म कोविन (CoWIN) का रहा है. इस तकनीकी मंच के जरिए न केवल कोविड वैक्‍सीनेशन (Corona Vaccination) पूरे देश में व्‍यवस्थित तरीके से हुआ बल्कि टीकाकरण के रिकॉर्ड से लेकर वैक्‍सीनेशन का सर्टिफिकेट प्रदान करने तक अहम भूमिका निभाई है लेकिन इससे भी एक कदम आगे बढ़कर अब कोविन प्‍लेटफॉर्म का इस्‍तेमाल देश में कई अन्‍य स्‍वास्‍थ्‍य संबंधी अभियानों के लिए होने जा रहा है. जिनमें रक्‍तदान (Blood Donation) और अंगदान (Organ Donation) शामिल होंगे.

राष्ट्रीय स्वास्थ्य प्राधिकरण के सीईओ और कोविन प्‍लेटफॉर्म इंचार्ज, डॉ. आरएस शर्मा ने कहते हैं कि भारत जहां लोगों में भाषा के साथ ही परंपराओं में भी भिन्नताएं हैं, ऐसे में अगर कोविन प्लेटफार्म नहीं होता तो कहना कठिन है कि लोगों को याद रहता कि उन्होंने पहली डोज कोवैक्सिन (Covaxin) की ली है या फिर कोविशील्ड (Covishield) की, या फिर बिना किसी शंका के उन्हें पता होता कि उनकी पहली डोज की वैक्सीन कौन सी थी? इसके साथ ही क्या हम लोगों से इस बात की उम्मीद कर सकते थे कि वह वैक्सीन के बताए गए निर्धारित अंतराल में सही समय पर दूसरी डोज (Vaccine Second Dose) लेने के लिए भी संजिदा हो सकते थे? जबकि दोनों डोज के अंतराल में कई बार बदलाव भी किए गए. लिहाजा कोविन ने अहम भूमिका अदा की है.

कोविन एप का इस्‍तेमाल अब भारत में रक्‍तदान जैसी बड़ी स्‍वास्‍थ्‍य सेवाओं और अभियानों के लिए होने जा रहा है.

कोविन एप का इस्‍तेमाल अब भारत में रक्‍तदान जैसी बड़ी स्‍वास्‍थ्‍य सेवाओं और अभियानों के लिए होने जा रहा है.

डॉ. शर्मा कहते हैं कि अब जबकि कोविन प्लेटफॉर्म की सहायता से हमने कोविड टीकाकरण में सौ करोड़ का आंकड़ा पार कर लिया है ऐसे में कोविन का प्रयोग जन्‍म से लेकर 16 साल तक बच्‍चों से किशोरों के होने वाले नियमित टीकाकरण (Regular Immunization), अन्‍य बीमारियों के टीकाकरण, रक्तदान, अंगदान और अन्य स्वास्थ्य सेवाओं के लिए प्रयोग किया जा सकेगा. इसकी संभानाएं असीमित है लेकिन हमारा लक्ष्य एक अच्छी डिजिटल व्यवस्था का इस्तेमाल आमजन के स्वास्थ्य के लिए करना है. आज भारत के लिए कल विश्व के लिए यह व्यवस्था काम करेगी.

डॉ. आरएस शर्मा कहते हैं कि कोविन की सफलता का अंदाजा इसी बात से लगाया जा सकता है कि देश में बड़ी मात्रा में ऐसी आबादी जो लगातार एक जगह से दूसरी जगह बदलती रहती है क्या हम उनसे ऐसी आशा कर सकते थे कि वह एक डोज लेने के बाद उसी सेंटर पर दूसरी डोज लेने के लिए भी पहुंचते? जो कि उनके लिए बहुत ही असुविधाजनक होता. आपको नहीं लगता कि एक ही तरह की वैक्सीन को दो चरण के स्लॉट में निर्धारित समय के बाद दिए जाने पर वैक्सीन के मिक्स एंड मैच की संभावना नहीं होती, आखिरकार गलतियां इंसानों से ही होती हैं. इसमें भी सबसे अहम एक नई वैक्सीन के वैक्सीन लगने के बाद होने वाले दुष्प्रभावों की मॉनिटरिंग एक सुसंगठित व्यवस्था एईएफआई के अंर्तगत करना, वैक्सीन लगाकर सबको संक्रमण से सुरक्षित करना और वैक्सीन के दुष्प्रभावों को एक बड़ी आबादी के लोगों में समझना अपने आप में अनुकरणीय है.

वे कहते हैं कि कोविड टीकाकरण की इस स्थिति को प्राप्त करने के लिए तेज गति से काम करने और बड़ी आबादी को वैक्सीन के माध्यम से सुरक्षित करना कोविन प्लेटफार्म की सहायता के बिना मानवीय प्रयास से यह संभव नहीं था. कोविन प्लेटफार्म की कुशलता और गति की सहायता से ही नौ महीने में जीरो से लेकर सौ करोड़ टीकाकरण प्राप्त किया गया. कोविन की वजह से टीकाकरण अभियान पूरी पारदर्शिता के साथ संचालित किया जा सका. अब यही प्‍लेटफॉर्म देश के अन्‍य टीकाकरणों और ब्‍लड डोनेशन के अलावा ऑर्गन डोनेशन जैसे प्रमुख अभियानों की रीढ़ बनेगा और देश में इन्‍हें विस्‍तार प्रदान करेगा.

Tags: CoWIN, COWIN 2.0 portal, Cowin App, Cowin Application

विज्ञापन

राशिभविष्य

मेष

वृषभ

मिथुन

कर्क

सिंह

कन्या

तुला

वृश्चिक

धनु

मकर

कुंभ

मीन

प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
और भी पढ़ें
विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें

अगली ख़बर