कोरोना से ठीक होकर जेल पहुंचा अंडरवर्ल्ड डॉन छोटा राजन, कुछ दिन पहले उड़ी थी मौत की अफवाह

कोरोना से रिकवरी के बाद डिस्चार्ज हुआ छोटा राजन.

कोरोना से रिकवरी के बाद डिस्चार्ज हुआ छोटा राजन.

तिहाड़ जेल में बंद माफिया डॉन छोटा राजन को कोरोना वायरस का संक्रमण होने के बाद उसे दिल्ली के एम्स अस्पताल में भर्ती कराया गया था. संक्रमण से रिकवरी के बाद उसे डिस्चार्ज करके वापस तिहाड़ जेल भेज दिया गया.

  • Share this:

नई दिल्ली. दिल्ली की तिहाड़ जेल में सज़ा काट रहे अंडरवर्ल्ड डॉन छोटा राजन ने कोरोना वायरस से जंग जीत ली है. उसका इलाज दिल्ली के AIIMS अस्पताल में चल रहा था, जहां से आज से डिस्चार्ज कर दिया गया है. उसकी तबियत फिलहाल ठीक बताई जा रही है. अस्पताल से छुट्टी मिलने के बाद छोटा राजन को वापस तिहाड़ जेल लाया गया, जहां उसे कड़े सुरक्षा घेरे में रखा गया है.

22 अप्रैल को कोरोना संक्रमित हुआ था छोटा राजन

22 अप्रैल कोरोना वायरस से संक्रमित होने के बाद छोटा राजन को दिल्ली के एम्स अस्पताल में भर्ती कराया गया था. 61 साल के छोटा राजन के खिलाफ कई संगीन मामले दर्ज हैं और उसे तिहाड़ में हाई सिक्योरिटी वाली सेल में रखा गया है. अस्पताल में भर्ती छोटा राजन की मौत की अफवाह भी बीच उड़ी थी. सोशल मीडिया पर खबर वायरल होने के बाद इसका खंडन दिल्ली एम्स और तिहाड़ जेल के प्रशासन की ओर से किया गया था.

कौन है छोटा राजन?
छोटा राजन का असली नाम राजेंद्र निकलजे है. उसके खिलाफ हत्‍या और जबरन वसूली समेत करीब 70 मामले दर्ज किए जा चुके हैं. साल 2015 में गिरफ्तारी और फिर इंडोनेशिया के बाली से प्रत्‍यर्पण के बाद उसे देश की सबसे सुरक्षित मानी जाने वाली तिहाड़ जेल में रखा गया. तब से वो यहीं बंद है. साल 2018 में कोर्ट ने उसे वरिष्ठ पत्रकार ज्योतिर्मय डे की हत्या के मामले में दोषी करार देते हुए उम्रकैद की सजा सुनाई थी. ये मामला साल 2011 का था. छोटा राजन फिलहाल तिहाड़ जेल की जेल नंबर दो की बैरक में बंद है.

Youtube Video

मुंबई ब्लास्ट मामले में भी है आरोपी



साल 1993 में देश की आर्थिक राजधानी को दहलाने वाले सीरियल बम ब्लास्ट में भी छोटा राजन आरोपी बनाया गया था. उसे हनीफ कड़ावाला की हत्या के केस में विशेष सीबीआई कोर्ट ने बरी भी कर दिया था. सालों की मशक्कत के बाद उसे साल 2015 में इंडोनेशिया से भारत प्रत्यर्पित करके तिहाड़ जेल पहुंचाया गया था. हाल ही में 26 अप्रैल को एक केस की सुनावाई में वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिये पेशी न होने पर पता चला कि वो कोरोना पॉजिटिव है.

अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज