यूपी के बदमाश दिल्ली पुलिस के लिये क्यों बने सिरदर्द
Delhi-Ncr News in Hindi

यूपी के बदमाश दिल्ली पुलिस के लिये क्यों बने सिरदर्द
फोटो- दिल्ली पुलिस.

दक्षिण दिल्ली में एक ज्वैलरी शोरुम पर ताबड़तोड़ फायरिंग कर बदमाशा लाखों रुपये का सोना लूटकर फरार हो गए.

  • Last Updated: February 8, 2018, 2:38 PM IST
  • Share this:
पिछले 6 महीने से अचानक दिल्ली पुलिस की सिरदर्दी बढ़ गई है. कभी बदमाशों से आमने-सामने मुठभेढ़ हो रही हैं तो कभी शातिर वारदातों को अंजाम देकर फरार हो जा रहे हैं. नवबंर की बात करें तो चार बदमाशों ने एक महिला पर फायरिंग कर मोबाइल और सोने की चेन लूट ली. अगस्त की बात करें तो दक्षिण दिल्ली में एक ज्वैलरी शोरुम पर ताबड़तोड़ फायरिंग कर बदमाशा लाखों रुपये का सोना लूटकर फरार हो गए.

सितम्बर में पूर्वी दिल्ली इलाके में बदमाशों ने लूट के इरादे से डबल मर्डर को अंजाम दे दिया. 25 जनवरी की बात करें तो फिरौती के इरादे से नर्सरी क्लास में पढ़ने वाले बच्चे का दिनदहाड़े अपरहण कर लिया गया. कुछ ही वक्त में ही सामने आई ये चंद घटनाओं की एक बानगी है.

कौन थे इन वारदात को अंजाम देने वाले अपराधी



दिल्ली पुलिस नें मुठभेड़ के बाद शातिर लुटेरे फुरकान व उसके साथी को दबोचा तो महिला से मोबाइल और सोने की चेन लूट का खुलासा हुआ. इसी तरह उत्तर पूर्वी दिल्ली में हुए डबल मर्डर केस में यूपी के कासगंज एरिया के कुख्यात अपराधी राशिद वसीम और लोनी, गाजियाबाद निवासी राशिद गोलू का नाम सामने आया. ज्वैलरी शोरुम को लूटने में बुलंदशहर निवासी दिलशाद, आबिद, रिजवान, शब्बू और अमरोहा निवासी सौरभ वर्मा का नाम सामने आया था. बच्चे के अपरहण मामले में भी एक आरोपी नितिन यूपी का रहने वाला है.
दिल्ली की सुरक्षा में तैनात दिल्ली पुलिस.

इसलिए दिल्ली में सक्रिय हुए यूपी के बदमाश

यूपी में अपराधियों के खिलाफ पुलिस की ताबड़तोड़ कार्रवाई चल रही है. इस कार्रवाई से प्रदेश में आपराधिक वारदातों में कमी आई है. इसी के चलते इसका साइड इफेक्ट दिल्ली में दिखने लगा है. दरअसल, यूपी पुलिस से दहशतजदा बदमाशों ने दिल्ली को अपना ठिकाना बना लिया है और संगीन वारदातों को अंजाम दे रहे हैं. वारदात के बाद पकड़े गए बदमाशों ने दिल्ली पुलिस के सामने इस बात का खुलासा किया है.

इसलिए दिल्ली में बढ़ गए अपराध

दिल्ली के लिये सिरदर्द बन चुके अपराधियों के दिल में यूपी पुलिस का खौफ यूं ही नहीं पनपा है. दरअसल, योगी आदित्यनाथ के सीएम बनने के बाद पुलिस ने अपराधियों के खिलाफ अभियान चलाया हुआ है. बीते 10 महीनों में पुलिस व बदमाशों के बीच 942 एनकाउंटर हुए. जिसमें करीब 35 अपराधियों को ढेर कर दिया गया. जबकि, 2744 अपराधी अरेस्ट किये गए. वहीं 265 अपराधी घायल हुए हैं. ऐसा नहीं कि इन एनकाउंटर्स में सिर्फ बदमाश ही ढेर या घायल हुए. इनमें 247 पुलिसकर्मी भी घायल हो चुके हैं. जबकि 4 पुलिसकर्मी भी शहीद हुए हैं.

अब ये कदम उठा रही है दिल्ली पुलिस

बीते 10 महीनों में दिल्ली के पूर्वी इलाके में आपराधिक वारदातों की बाढ़ आ गई है. गौरतलब है कि दिल्ली का यह इलाका यूपी की सीमा से जुड़ा हुआ है. ये बात साफ है कि यूपी पुलिस से दहशतजदा अपराधी अब दिल्ली में संगीन वारदातों को अंजाम देने के बाद वापस यूपी में लौट जाते हैं. चूंकि, उनका दिल्ली पुलिस के पास कोई रिकॉर्ड नहीं होता, इसलिए उनके पकड़े जाने की संभावना भी कम होती है और यूपी में वारदात न करने की वजह से वे यूपी पुलिस की नजरों से बचे रहते हैं. इसी को देखते हुए दिल्ली पुलिस की क्राइम ब्रांच, स्पेशल सेल व पूर्वी जिला पुलिस ने यूपी के पश्चिमी जिलों की पुलिस से समन्वय स्थापित किया है.

दिल्ली पुलिस ने यूपी के ये बड़े अपराधी पकड़े या ढेर कर दिए

5 लाख का इनामी साहुन

साहुन यूपी ही नहीं दिल्ली और हरियाणा का खतरनाक अपराधी है. दिल्ली पुलिस भी इस अपराधी से खासी परेशान थी. एक पुख्ता सूचना के बाद 8 नवबंर को दिल्ली पुलिस ने एक एनकाउंटर में साहुन को हरियाणा से गिरफ्तार कर लिया था.

1 लाख का इनामी शमीम

यूपी के इस इनामी बदमाश ने यूपी के अलावा दिल्ली में भी कई बड़ी वारदातों को अंजाम दिया था. एक जनवरी 2018 को दिल्ली पुलिस ने मुजफ्फरनगर जाकर शमीम को एक एनकाउंटर में मार गिराया.

70 हजार का इनामी तनवीर

यूपी के कासगंज का रहने वाला तनवीर शातिर अपराधी है. तनवीर यूपी ही नहीं दिल्ली पुलिस की आंख की भी किरकिरी बना हुआ था. ये ही वजह थी कि 5 फरवरी को ओखला में एक एनकाउंटर के बाद दिल्ली पुलिस ने तनवीर को गिरफ्तार कर लिया.

दिल्ली में पकड़ा गया यूपी का शातिर मोनू

29 नवबंर को एक बार फिर दिल्ली में एक एनकाउंटर के दौरान फायरिंग शुरु हो गई. पूर्वी दिल्ली के विश्वास नगर में पुलिस और बदमाशों के बीच भिड़ंत के बाद दिल्ली पुलिस ने यूपी के शातिर मोनू को गिरफ्तार किया है. मोनू पर दिल्ली, यूपी, हरियाणा और राजस्थान में दर्जनों मुकद्मे दर्ज हैं.

इस समय यूपी के अपराधियों पर पुलिस का बड़ा दबाव है. ऐसे में अपराधी भागे-भागे फिर रहे हैं. उन्हें डर सता रहा है कि अगर वो पुलिस के हत्थे चढ़ गए तो पुलिय या तो एनकाउंटर कर मार देगी या फिर पैर में गोली मारकर घायल कर देगी. इसलिए अपराधी पुलिस से बचने के लिए दिल्ली, हरियाणा और राजस्थान की ओर भाग रही है. आईजी (रिटायर्ड) विजय कुमार. यूपी.


 

 

 
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज

corona virus btn
corona virus btn
Loading