Assembly Banner 2021

NCR News: नामी कंपनी से ऑनलाइन पिज्‍जा मंगाया, भुगतान किया तो अकाउंट हो गया खाली

नामी कंपनी से ऑनलाइन पिज्‍जा मंगाने पर साइबर क्रिमिनल्‍स ने ठगा . (सांकेतिक तस्वीर)

नामी कंपनी से ऑनलाइन पिज्‍जा मंगाने पर साइबर क्रिमिनल्‍स ने ठगा . (सांकेतिक तस्वीर)

NCR News: गाजियाबाद में पिज्‍जा के लिए ऑनलाइन भुगतान करने के मामले में साइबर फ्रॉड का मामला सामने आया है. साइबर अपराधियों ने शख्‍स का अकाउंट ही खाली कर दिया.

  • Share this:
गाजियाबाद. अगर आप कोई चीज ऑनलाइन बुक कर रहे हैं तो सचेत रहें. यह जांच लें कि जिस साइट या ऐप से ऑर्डर आपने बुक किया है, वह फर्जी तो नहीं है. पूरी जांच-पड़ताल के बाद ही ऑनलाइन ऑर्डर करें. गाजियाबाद में ऐसा ही एक मामला सामने आया है. एक कस्‍टमर ने ऑनलाइन पिज्‍जा का ऑर्डर दिया था. भुगतान के लिए जैसे ही लिंक पर क्लिक किया और नंबर बताया तो तुरंत ही अकाउंट से 14 हजार रुपए निकलने का मैसेज आ गया. शिकार  व्‍यक्ति ने इसकी शिकायत तुरंत साइबर क्राइम (Cybercrime) सेल से की और तत्‍काल अकाउंट बंद कराया.

गाजियाबाद पुलिस ने बताया कि गोविंदपुरम निवासी सुनील चौधरी कविनगर में प्रॉपर्टी का काम करते हैं. ऑफिस के दौरान घर से उनके बच्चों ने पिज्‍जा की मांग की. उन्‍होंने ऑनलाइन पिज्‍जा बुक कराने लिए एक नामी कंपनी की वेबसाइट से नंबर निकाला. सुनील ने उस नंबर पर कॉल किया तो कर्मचारी ने बताया कि कैश ऑन डिलीवरी नहीं हो रही है, इसलिए भुगतान पहले ही ऑनलाइन करना होगा. भुगतान के लिए साइबर क्रिमिनल्‍स उन्हें एक लिंक भेज दिया. लिंक में मांगी गई सभी जानकारियों को भर दिया. उसके बाद सुनील के पास एक नंबर आया. साइबर क्रिमिनल्‍स ने कहा कि ऑर्डर नंबर आया होगा, उसे बताना होगा जिसके बाद डिलेवरी की जाएगी. उनके नंबर बताते ही खाते से 14 हजार रुपये निकलने का मैसेज आ गया.

दरअसल, वो आर्डर नंबर नहीं ओटीपी था, जिसे साइबर क्रिमिनल्‍स ने गुमराह कर पूछ लिया. उन्होंने तत्काल इसकी जानकारी गाजियाबाद के साइबर सेल को दी. उन्‍होंने बताया कि खाते में 14 हजार रुपये ही थे. अगर अधिक होते तो सब निकाल लेते. साइबर सेल प्रभारी सुमित कुमार ने बताया कि सुनील ने घटना के बाद तत्काल सूचना दी. उन्होंने बैंक को ईमेल कर इस तुरंत ट्रांजेक्शन को रुकवा दिया.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज