• Home
  • »
  • News
  • »
  • delhi-ncr
  • »
  • Daughter's Day: कोरोना ने बढ़ाया बेटियों के साथ भेदभाव, पढ़िए और क्‍या कहती है स्‍टडी

Daughter's Day: कोरोना ने बढ़ाया बेटियों के साथ भेदभाव, पढ़िए और क्‍या कहती है स्‍टडी

भारत में जन्म के समय लिंगानुपात पहले से और अधिक घटकर प्रति हजार लड़कों पर 899 लड़कियां ही गया है. फोटो-सांकेतिक

भारत में जन्म के समय लिंगानुपात पहले से और अधिक घटकर प्रति हजार लड़कों पर 899 लड़कियां ही गया है. फोटो-सांकेतिक

नीति आयोग की एक रिपोर्ट के मुताबिक जन्म के समय लिंगानुपात पहले से और अधिक घटकर प्रति हजार लड़कों पर 899 लड़कियां ही गया है. वहीं राष्ट्रीय अपराध रिकॉर्ड ब्यूरो (NCRB) की रिपोर्ट के मुताबिक महिलाओं के खिलाफ होने वाले अपराध के मामलों में भी 2018 की तुलना में 7 फीसदी की वृद्धि हुई है जो काफी चिंताजनक है.

  • News18Hindi
  • Last Updated :
  • Share this:

नई दिल्‍ली. विश्‍व बेटी दिवस (International Daughter’s Day) खास तौर से बेटियों को समर्पित होता है जिसके माध्यम से माता-पिता अपने जीवन में बेटी होने पर अपने आप को आभारी मानते हैं. भारत जैसे देश में जहां आमतौर पर लड़कों को प्राथमिकता दी जाती है और कदम-कदम पर लड़कियों (Girls) को भेदभाव का सामना करना पड़ता है वहां इस तरह के दिवस उनके महत्व को स्थापित करने में काफी उपयोगी हो सकते हैं. यही वजह है कि इस दिन के माध्यम से यह संदेश दिया जाता है कि बेटियां भी बेटों के बराबर ही प्यार और देखभाल की हकदार हैं. अगर बेटियों को भी अवसर मिलें तो वे कामयाबी की इबारतें गढ़ सकती हैं.

महिलाओं और लड़कियों के खिलाफ होने वाली हिंसा (Violence against Women) और भेदभाव को समाप्त करने के लिए काम करने वाली स्‍वयंसेवी संस्‍था ब्रेकथ्रू की सीईओ सोहिनी भट्टाचार्य का कहना है कि बेहद जरूरी है कि समाज लड़कियों का महत्‍व समझे. समाज में लिंग के आधार पर कोई भेदभाव या हिंसा ना हो. लड़कियों को भी अपने सपने जीने और खुद फैसले लेने की आजादी हो. वह भी बिना किसी डर के घर से बाहर उसी तरह निकल सके जिस तरह से लड़के निकलते हैं लेकिन यह होना इतना आसान नहीं रह गया है. देश में आंकड़े बताते हैं कि लड़कियों को जन्‍म से लेकर पढ़ाई, घर और बाहर भेदभाव का सामना करना पड़ता है. वहीं हाल ही में आई कई रिसर्च स्‍टडीज बताती हैं कि कोरोना के कारण बेटे-बेटियों के बीच किया जाने वाला फर्क और भी स्‍पष्‍ट रूप में सामने आया है.

सोहिनी आगे बताती है कि सरकार के तमाम प्रयासों के बाद भी नीति आयोग की 2020-21 की रिपोर्ट में जन्म के समय लिंगानुपात (Gender Ratio) पहले से और अधिक घटकर प्रति हजार लड़कों पर 899 लड़कियां ही गया है. वहीं राष्ट्रीय अपराध रिकॉर्ड ब्यूरो (NCRB) की रिपोर्ट के मुताबिक महिलाओं के खिलाफ होने वाले अपराध (Crime against Women) के मामलों में भी 2018 की तुलना में 7 फीसदी की वृद्धि हुई है जो काफी चिंताजनक है. आंकड़े बताते हैं कि 2019 देश में प्रतिदिन बलात्कार (Rape) के औसतन 87 मामले दर्ज हुए.

वहीं राष्ट्रीय परिवार स्वास्थ्य सर्वेक्षण NFHS-5 में कुछ राज्यों से प्राप्‍त हुए आंकड़ों के मुताबिक लिंगानुपात में प्रति 1000 लड़कों पर गुजरात में 965 , जम्‍मू कश्‍मीर में 948, महाराष्‍ट्र में 966 और सिक्किम में 990 लड़किया हैं. वहीं बिहार में 40.8 फीसदी लड़कियों का विवाह 18 वर्ष से कम आयु में हो गया. त्रिपुरा में 40.1 और पश्चिम बंगाल में 41.6 फीसदी लड़कियां बाल विवाह (Child Marriage) की शिकार हुईं. ऐसे में कोविड (Covid) ने भी लड़कियों के ऊपर बहुत बुरा असर डाला है उनकी पढ़ाई जहां छूट गई हैं. वे घरों में बंद हैं. वहीं इससे बाल विवाह की दर भी बढ़ने की पूरी संभावना है.

20 मिलियन लड़कियों को स्‍कूल न लौट पाने की आशंका

पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.

हमें FacebookTwitter, Instagram और Telegram पर फॉलो करें.

विज्ञापन
विज्ञापन

विज्ञापन

टॉप स्टोरीज