• Home
  • »
  • News
  • »
  • delhi-ncr
  • »
  • दिल्ली: Corona से मरने वालों के लिए श्मशान घाट में कम पड़ रही जगह, पंजाबी बाग से लौटाए जा रहे शव

दिल्ली: Corona से मरने वालों के लिए श्मशान घाट में कम पड़ रही जगह, पंजाबी बाग से लौटाए जा रहे शव

ब्राजील में कोरोना वायरस से अब तक 41,828 लोगों की मौत हो चुकी है.

ब्राजील में कोरोना वायरस से अब तक 41,828 लोगों की मौत हो चुकी है.

दिल्‍ली में कोरोना वायरस (Coronavirus) संक्रमित पीड़ितों की संख्या के साथ ही इस संक्रमण से मरने वालों के आंकड़ों में भी इजाफा हो रहा है.

  • Share this:
    दिल्ली. भारत (India) की राजधानी में कोरोना वायरस (Coronavirus) संक्रमित (Covid-19) पीड़ितों की संख्या के साथ ही इस संक्रमण से मरने वालों के आंकड़ों में भी इजाफा हो रहा है. आलम ये है कि वायरस के संक्रमण कोविड-19 से मरने वालों के शवों को अंतिम संस्कार के लिए कुछ श्मशान घाटों में जगह तक कम पड़ जा रही है. भीड़ को देखते हुए शवों को तय श्मशान घाट की जगह दूसरे घाट पर भेजना पड़ रहा है. ताजा मामला दिल्ली के पंजाबी बाग श्मशान घाट से जुड़ा है. 9 से 12 जून के बीच यहां बड़ी संख्या में कोविड-19 से मरने वालों के शवों का अंतिम संस्कार करने का दावा किया जा रहा है. लोगों के भीड़ को देखते कुछ शवों को यहां की बजाय निगमबोध घाट भी भेजना पड़ा.

    मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक, 9 जून से 12 जून के बीच कोविड-19 से मरने वाले लोगों के शव बड़ी संख्या में पंजाबी बाग श्मशान घाट भेजे गए. बीते शुक्रवार को यहां क्षमता से अधिक शव भेजने के कारण कुछ शवों को यहां की बजाय निगमबोध घाट में ले जाना पड़ा. पंजाबी बाग श्मशान घाट की जगह इन शवों के अंतिम संस्कार निगमबोध घाट में किए गए.

    3 दिन में 200 से अधिक के अंतिम संस्कार
    एसडीएमसी के एक वरिष्ठ अधिकारी ने कहा कि 9 जून और 10 जून को, प्रत्येक दिन 65 शवों को भेजा गया था. इसके बाद 11 जून को 73 शवों को अंतिम संस्कार के लिए भेजा गया था. पंजाबी बाग श्मशानघाट में 70 लकड़ी-आधारित चिता और चार सीएनजी-आधारित चिताओं की क्षमता है. आधिकारिक रूप से दाह संस्कार का समय सुबह 7 से 10 बजे है. पिछले तीन दिनों में बड़ी संख्या में कोरोना वायरस से मरने वालों के शव भेजे गए. बीते शुक्रवार को क्षमता से अधिक शव हो गए थे. एनडीएमसी के एक वरिष्ठ अधिकारी ने कहा, 'शवों को निगामबोध घाट पर ले जाया गया था, क्योंकि पंजाबी बाग श्मशान घाट में शवों की संख्या और उनके परिजनों की भीड़ ज्यादा थी.'

    कांग्रेस नेता माकन ने किया ट्विट
    एसएमडीसी के अधिकारियों के मुताबिक, पंजाबी बाग स्थल पर किसी को भी अंतिम संस्कार से मना नहीं किया गया. हालांकि, सफदरजंग अस्पताल, एम्स, आरएमएल अस्पताल ने पंजाबी बाग और एलएनजेपी अस्पताल, जीबी पंत अस्पताल और बाबू जगजीवन राम अस्पताल ने ऐसे शवोंं को निगमबोध घाट भेजा.  इधर, वरिष्ठ कांग्रेसी नेता अजय माकन ने गुरुवार को पंजाबी बाग श्मशान स्थल पर भीड़ को लेकर एक ट्वीट किया था. इसमें बड़ी संख्या में अंतिम संस्कार करने वाले लोगों को दिखाते हुए एक वीडियो शेयर किया गया था.



    'दिल्ली में 1 हजार से ज्यादा मौतें'
    अधिकारियों द्वारा जारी एक आंकड़े के मुताबिक दिल्ली में बीते 11 जून को 1,877 ताजा कोरोना वायरस के नए मामले दर्ज किए गए. अब तक एक दिन में दर्ज किए गए ये सबसे ज्यादा मामले थे. इस आंकड़ों के साथ ही गुरुवार तक की स्थिति में दिल्ली में कोविड-19 के संक्रमितों के आंकड़े 34,000 से अधिक पहुंच गए. इनमें से 1 हजार 85 लोगों की मौत हो चुकी है. दिल्ली में लगभग 15 श्मशान स्थल, एक ईसाई कब्रिस्तान और एक मुस्लिम कब्रिस्तान नगरीय निकाय के अंतर्गत हैं. मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक एसडीएमसी के एक प्रवक्ता ने कहा, हाल के समय तक नगरीय निकायों के तहत आने वाले सभी अंतिम संस्कार स्थल, जो प्रति दिन कोविद -19 प्रोटोकॉल के अनुसार 95 दाह संस्कार करने की क्षमता रखते हैं, को बढ़ाकर अब 360 कर दिया गया है.

    ये भी पढ़ें:
    राजस्थान में राज्यसभा का रण: पढ़ें वो 9 शर्तें, जिन्हें मानने पर कांग्रेस को मिला BTP का साथ

    Unlock-1 में जरूरी खबर: घर से दूर जा रहें तो आपकी प्रॉपर्टी की सुरक्षा करेगी पुलिस, बस करना होगा ये काम

    पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.

    विज्ञापन
    विज्ञापन

    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज