• Home
  • »
  • News
  • »
  • delhi-ncr
  • »
  • J&K के EX-MLC वजीर का शव फिल्म ‘दृश्यम’ की स्टाइल में मेट्रो के पास फेंकने का था प्लान: खुलासा

J&K के EX-MLC वजीर का शव फिल्म ‘दृश्यम’ की स्टाइल में मेट्रो के पास फेंकने का था प्लान: खुलासा

नेशनल कॉन्फ्रेंस के नेता त्रिलोचन सिंह वजीर की हत्‍या के मामले में पुलिस ने नया खुलासा किया है.

नेशनल कॉन्फ्रेंस के नेता त्रिलोचन सिंह वजीर की हत्‍या के मामले में पुलिस ने नया खुलासा किया है.

Trilochan Singh Wazir Murder Case: जम्मू-कश्मीर विधान परिषद के पूर्व सदस्य त्रिलोचन सिंह वजीर (67) की हत्या के मामले में डीसीपी गौतम ने कहा कि हत्यारों की योजना 'दृश्यम' फिल्म पर आधारित थी. वे झूठे सबूत बनाना और पुलिस को डायवर्ट करना चाहते थे.

  • News18Hindi
  • Last Updated :
  • Share this:

    नई दिल्ली. जम्मू-कश्मीर विधान परिषद के पूर्व सदस्य और नेशनल कॉन्फ्रेंस के नेता त्रिलोचन सिंह वजीर (Trilochan Singh Wazir-67) की हत्या के मामले (Murder Case) की जांच में बड़ा खुलासा सामने आया है. पुलिस ने बताया कि चारों आरोपी (मलयालम से बनी) बॉलीवुड फिल्म ‘दृश्यम’ से प्रेरित थे. हत्यारे वजीर का शव अपार्टमेंट से हटाकर इंदिरा गांधी अंतरराष्ट्रीय हवाई अड्डे या मेट्रो स्टेशन के नजदीक फेंकना चाहते थे. बसई दारापुर के एक अपार्टमेंट से वजीर का क्षत-विक्षत शव बरामद होने के कुछ दिनों बाद, पुलिस ने हत्या और आपराधिक साजिश के आरोप में जम्मू से दो लोगों को गिरफ्तार किया.

    दो प्रमुख संदिग्ध- ट्रांसपोर्टर हरमीत सिंह और ऑनलाइन समाचार पोर्टल के लिए काम करने वाला वज़ीर का दोस्त हरप्रीत सिंह खालसा फरार है. पश्चिम जिला पुलिस ने एक आरोपी की पहचान जम्मू के राजिंदर सिंह (33) के रूप में की है. पूछताछ के दौरान, सिंह ने कहा कि वह एक टैक्सी चालक है और वह 2 सितंबर को वजीर को जम्मू से दिल्ली लेकर आया था. वजीर को कनाडा के लिए उड़ान पकड़नी थी, लेकिन मुख्य आरोपी ने उसे मारने की योजना बनाई थी.

    DCP (पश्चिम) प्रशांत गौतम ने कहा, “खालसा ने सिंह को बंदूक सौंपी थी, जिसने वजीर को मार डाला. वह वृद्ध व्यक्ति पहले से ही बेहोश था क्योंकि उन लोगों ने उसके भोजन में नशीला पदार्थ मिला दिया था. उसे गोली मारने के बाद, उनलोगों ने शव मेट्रो स्टेशन या हवाई अड्डे पर फेंकने की योजना बनाई थी और ये इन जगहों पर गये भी, लेकिन अपनी योजना को अंजाम नहीं दे सके.” राजिंदर ने यह भी खुलासा किया कि वे लोग जून से हत्या की योजना बना रहे थे.

    हत्या और उसके बाद शव को ठिकाने लगाने का आइडिया दृश्यम से प्रेरित 

    डीसीपी गौतम ने कहा, “उनकी योजना ‘दृश्यम’ फिल्म पर आधारित थी और वे झूठे सबूत बनाना और पुलिस को डायवर्ट करना चाहते थे. हालांकि, उनकी योजना काम नहीं आई और वे सभी हत्या के बाद घर से भाग गए.” पुलिस ने कहा कि सिंह और खालसा के कॉल डिटेल रिकॉर्ड का विश्लेषण करने के बाद राजिंदर की पहचान की गई थी. इसके बाद उसे मंगलवार को ससुराल से दबोचा गया था. वजीर की मौत के बारे में 9 सितंबर को मध्य प्रदेश में एक अज्ञात नंबर से पुलिस को फोन आया था. फोन करने वाले ने पुलिस को बताया था कि रमेश नगर मेट्रो स्टेशन पर एक लाश पड़ी थी. पुलिस को काफी तलाशी के बाद अपार्टमेंट में वजीर का शव मिला था. पुलिस ने कहा कि खालसा और राजिंदर सहपाठी थे.

    पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.

    हमें FacebookTwitter, Instagram और Telegram पर फॉलो करें.

    विज्ञापन
    विज्ञापन

    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज