रिपोर्टः सफदरजंग हॉस्पिटल में 53 मौत, दिल्ली में बढ़ सकता है COVID-19 से मौतों का आंकड़ा

कोविड-19 के कारण होने वाली मौतों की संख्या बढ़ सकती है. (प्रतीकात्मक तस्वीर)
कोविड-19 के कारण होने वाली मौतों की संख्या बढ़ सकती है. (प्रतीकात्मक तस्वीर)

राष्ट्रीय राजधानी दिल्ली (Delhi) में बुधवार को कोविड-19 (COVID-19) के एक दिन में रिकॉर्ड 792 नए मामले दर्ज किए गए. इससे संक्रमण के मामले बढ़कर 15,257 हो चुके हैं.

  • Share this:
दिल्ली. राष्ट्रीय राजधानी दिल्ली (Delhi) में बुधवार को कोविड-19 (COVID-19) के एक दिन में रिकॉर्ड 792 नए दिल्ली में कोविड-19 (COVID-19) के कारण होने वाली मौतों की संख्या बढ़ सकती है. बुधवार को सफदरजंग अस्पताल (Safdarjung Hospital) ने राजधानी दिल्ली की डेथ ऑडिट कमेटी को 1 फरवरी से 16 मई के बीच हुई 53 मौतों की जानकारी दी है. अधिकारियों ने यह जानकारी दी है. इससे पहले संक्रमण के मामले बढ़कर 15,257 हो चुके हैं. दिल्ली में आधिकारिक मौत का आंकड़ा बढ़कर 303 हो चुका है, लेकिन इस आंकड़े में सफदरजंग अस्पताल द्वारा दर्ज कराई गई मृतकों की संख्या शामिल नहीं है.

केंद्र सरकार द्वारा संचालित सफदरजंग अस्पताल के चिकित्सा अधीक्षक डॉ. बलविंदर सिंह ने कहा, ‘1 फरवरी से 16 मई के बीच अस्पताल में 53 मौतें हुईं हैं. हम मौतों सहित हर मामले की प्रगति की रिपोर्ट स्वास्थ्य मंत्रालय को देते हैं.’ दिल्ली सरकार ने कहा कि, सफजरजंग अस्पताल ने बुधवार को ही मौतों में बड़े उछाल की सूचना दी थी.

दिल्ली सरकार के अस्पताल रोज देते हैं मौतों की सूचना



दिल्ली सरकार के एक प्रवक्ता ने कहा कि ‘दिल्ली सरकार ने सभी अस्पतालों को 24 घंटे के भीतर डेथ ऑडिट कमेटी को उनके यहां हुए मौतों के आंकड़ों के सारांश को प्रस्तुत करने के सख्त आदेश जारी किए थे. हमने सभी अस्पतालों को उसी के अनुपालन के लिए रिमाइंडर भी भेजे हैं. दिल्ली सरकार के हमारे सभी अस्पताल रोजाना अपनी रिपोर्ट, डेथ ऑडिट कमेटी को सौंप रहे हैं.
हिंदुस्तान टाइम्स की रिपोर्ट के अनुसार प्रवक्ता ने कहा, ‘सफदरजंग (अस्पताल) ने अब तक केवल 4 मौतों की सूचना दी थी. सरकार गंभीरता से देख रही है कि यह देरी क्यों हुई है.’ 10 मई को दिल्ली के मुख्य सचिव, विजय देव ने सभी कोविड-19 अस्पतालों को आदेश दिया कि वे प्रतिदिन शाम 5 बजे तक मौतों की रिपोर्ट दें, लेकिन अस्पतालों ने अपेक्षित दस्तावेज़ीकरण के साथ उन्हें रिपोर्ट करने में ढिलाई दी गई है.

कमेटी तय करती है कि कोरोना से मृत्यु हुई या नहीं

दिल्ली के स्वास्थ्य विभाग के एक वरिष्ठ अधिकारी ने पुष्टि की है कि सफदरजंग अस्पताल में हुई मौतों को दिल्ली के आधिकारिक मृत्यु के आंकड़ों में जोड़ा जाना बाकी है. एक अधिकारी ने नाम न छापने की शर्त पर कहा कि, ‘रिपोर्टिंग में पिछड़ने के कारण दैनिक बुलेटिन में मौतों को जोड़ने में देरी हुई है. जैसे ही डेथ ऑडिट कमेटी को फाइलें मिलती हैं, सरकार संख्याओं को जोड़ देती है - केस शीट, जांच, मृत्यु का कारण संक्षेप में दर्ज कर यह निर्धारित करती है कि वास्तव में यह कोविड-19 से हुई मौत है या नहीं.’

ये भी पढ़ें - 

अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज