• Home
  • »
  • News
  • »
  • delhi-ncr
  • »
  • Heavy Rain: दिल्ली में गुरुवार तक 1159.4 MM बारिश, 57 साल में सर्वाधिक वर्षा का बना रिकॉर्ड

Heavy Rain: दिल्ली में गुरुवार तक 1159.4 MM बारिश, 57 साल में सर्वाधिक वर्षा का बना रिकॉर्ड

दिल्ली में इस साल बारिश रिकॉर्ड बनाने जा रही है. अब तक 1159.4 मिलीमीटर वर्षा दर्ज की जा चुकी है.

दिल्ली में इस साल बारिश रिकॉर्ड बनाने जा रही है. अब तक 1159.4 मिलीमीटर वर्षा दर्ज की जा चुकी है.

Delhi Weather Update: दिल्ली में मानसून में सामान्य तौर पर 653.6 मिलीमीटर बारिश होती है. पिछले साल राजधानी में 648.9 मिली बारिश हुई थी. एक जून को मानसून शुरू होता है, तब से लेकर 15 सितंबर तक शहर सामान्य बारिश दर्ज की जाती है. मानसून 25 सितंबर तक लौटता है.

  • News18Hindi
  • Last Updated :
  • Share this:

    नयी दिल्ली. देश की राजधानी दिल्ली में इस बार बारिश रिकॉर्ड बनाने जा रही है. भारत मौसम विज्ञान विभाग (IMD) के आंकड़ों के मुताबिक, इस साल बेहतर मानसून के कारण दिल्ली में गुरुवार को दोपहर तक 1159.4 मिलीमीटर बारिश दर्ज की गई है, जो 1964 के बाद से सबसे अधिक और अब तक की तीसरी सर्वाधिक बारिश है. साथ ही, दिल्ली में सितंबर में हुई बारिश ने 400 मिमी के निशान को पार कर लिया है. गुरुवार को दोपहर तक हुई 403 मिमी बारिश सितंबर 1944 में 417.3 मिमी के बाद से इस महीने में हुई सबसे अधिक वर्षा है.

    मौसम विभाग की मानें तो ये आंकड़े बदल भी सकते हैं क्योंकि आज दिनभर और बारिश होने का अनुमान है. मौसम वैज्ञानिकों का कहना है कि वर्षा ऋतु के जाते-जाते यह दिल्ली में दूसरी सबसे ज्यादा मॉनसून की बारिश हो सकती है. सामान्य तौर पर, दिल्ली में मानसून के मौसम में 653.6 मिलीमीटर बारिश होती है. पिछले साल राजधानी में 648.9 मिली बारिश हुई थी.

    इस बार सामान्य से दोगुनी बारिश 

    एक जून को जब मानसून शुरू होता है, तब से 15 सितंबर के बीच शहर में सामान्य तौर पर 614.3 मिमी बारिश होती है. दिल्ली से मॉनसून 25 सितंबर तक लौटता है. IMD के मुताबिक, शहर के लिए आधिकारिक मानी जाने वाली सफदरजंग वेधशाला का कहना है कि शहर में गुरुवार को दोपहर तक इस मौसम की 1159.4 मिमी बारिश हो चुकी है. 1975 में 1,155.6 मिमी और 1964 में 1190.9 मिमी बारिश हुई थी.

    अब तक की सर्वाधिक बारिश 1933 में हुई थी

    IMD के मुताबिक, अब तक की सबसे ज्यादा बारिश का रिकॉर्ड 1933 में हुई 1,420.3 मिमी वर्षा का है. इससे पहले, सुबह मौसम विभाग ने दिल्ली में दिन में मध्यम बारिश के लिए ऑरेंज अलर्ट जारी किया था. शुक्रवार को हल्की बारिश की संभावना है. एक निजी मौसम पूर्वानुमान एजेंसी स्काईमेट वेदर के उपाध्यक्ष महेश पलावत ने कहा, “23-24 सितंबर तक बारिश बीच-बीच में होती रहेगी, जिसका मतलब है कि मानसून समाप्त होने तक, दिल्ली के नाम अब तक दूसरा सबसे ज्यादा बारिश वाला मानसून दर्ज हो सकता है.”

    दो दशक तीसरी बार है, जब बारिश 1 हजार मिमी के निशान पर पहुंचीं

    पिछले दो दशकों में यह केवल तीसरी बार है जब दिल्ली में मानसून की बारिश ने 1000 मिमी के निशान को पार किया है. दिल्ली में 2011, 2012, 2013, 2014 और 2015 में क्रमश: 636 मिमी, 544 मिमी, 876 मिमी, 370.8 मिमी और 505.5 मिमी वर्षा हुई. IMD के आंकड़ों के अनुसार 2016 में 524.7 मिमी; 2017 में 641.3 मिमी; 2018 में 762.6 मिमी; 2019 में 404.3 मिमी और 2020 में 576.5 मिमी बारिश दर्ज की गई,

    दिल्ली : बारिश के कारण कई इलाकों में यातायात प्रभावित

    राष्ट्रीय राजधानी में गुरुवार को हुई भारी बारिश के परिणामस्वरूप शहर के कई हिस्सों में जलभराव होने के कारण यातायात प्रभावित हुआ है. लोक निर्माण विभाग (PWD) के मुताबिक, पुल प्रह्लादपुर अंडरपास, महरौली-बदरपुर रोड, आनंद पर्वत, जखीरा अंडरपास, नांगलोई, मुंडका, उत्तम नगर, रोहतक रोड, संगम विहार, डाबरी, सीतापुरी, कृष्णा नगर, मधु विहार, छतरपुर, बादली और किराड़ी जैसे इलाकों में जलभराव की सूचना मिली.

    यातायात पुलिस को जलभराव के कारण दक्षिणी दिल्ली के महरौली-बदरपुर रोड पर पुल प्रह्लादपुर अंडरपास को बंद करना पड़ा. दिल्ली में भारी बारिश के कारण कई हिस्सों में वाहनों की आवाजाही प्रभावित हुई, इसके मद्देनजर यातायात पुलिस ने सोशल मीडिया पर परामर्श जारी कर यात्रियों से ऐसी सड़कों से बचने को कहा. दिल्ली की यातायात पुलिस ने ट्वीट किया, “जलभराव के कारण नांगलोई फ्लाईओवर से मुंडका (दोनों कैरिजवे) की ओर जाने वाले मार्ग पर यातायात प्रभावित है.’’

    (भाषा से इनपुट के साथ)

    पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.

    हमें FacebookTwitter, Instagram और Telegram पर फॉलो करें.

    विज्ञापन
    विज्ञापन

    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज