Home /News /delhi-ncr /

delhi aiims director dr randeep guleria tenure extended for 3 months nodbk

दिल्ली AIIMS के निदेशक डॉ. रणदीप गुलेरिया का कार्यकाल 3 महीने के लिए बढ़ाया गया

उनका कार्यकाल 24 मार्च को खत्म होना था, लेकिन उन्हें तीन महीने का सेवा विस्तार दिया गया था. (फाइल फोटो)

उनका कार्यकाल 24 मार्च को खत्म होना था, लेकिन उन्हें तीन महीने का सेवा विस्तार दिया गया था. (फाइल फोटो)

Delhi News: दिल्ली AIIMS के निदेशक डॉ. रणदीप गुलेरिया का कार्यकाल तीन महीने के लिए बढ़ाया गया है. डॉ. रणदीप गुलेरिया देश के पहले डॉक्टर हैं, जिन्होंने पल्मोनरी एंड क्रिटिकल केयर मेडिसिन में डीएम की डिग्री हासिल की थी. इन्होंने मेडिकल की पढ़ाई चंडीगढ़ के पोस्ट ग्रेज्युएट इंस्टीट्यूट ऑफ मेडिकल एजुकेशन एंड रिसर्च से की है. डॉ. गुलेरिया ने 1992 में बतौर असिस्टेंट प्रोफेसर डिपार्टमेंट ऑफ मेडिसिन जॉइन किया था.

अधिक पढ़ें ...

हाइलाइट्स

डॉ. रणदीप गुलेरिया देश के पहले डॉक्टर हैं, जिन्होंने पल्मोनरी एंड क्रिटिकल केयर मेडिसिन में डीएम की डिग्री हासिल की थी.
डॉ. रणदीप गुलेरिया का कार्यकाल 24 मार्च को खत्म होना था, लेकिन उन्हें तीन महीने का सेवा विस्तार दिया गया था.
डॉ. गुलेरिया विश्व स्वास्थ्य संगठन (डब्ल्यूएचओ) में 2010-13 तक बतौर एडवाइजर भी काम कर चुके हैं.

नई दिल्ली. अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्थान (AIIMS) दिल्ली के निदेशक डॉ. रणदीप गुलेरिया का कार्यकाल तीन महीने के लिए बढ़ाया गया है. खास बात यह है कि एम्स निदेशक डॉ. रणदीप गुलेरिया को दूसरी बार सेवा विस्तार मिला है. इससे पहले भी उन्हें तीन महीने का सेवा विस्तार मिला था. आपको बता दें कि डॉ. गुलेरिया को 28 मार्च, 2017 को पांच साल के लिए दिल्ली एम्स का निदेशक बनाया गया था. उनका कार्यकाल 24 मार्च को खत्म होना था, लेकिन उन्हें तीन महीने का सेवा विस्तार दिया गया था.

कौन हैं डॉ. रणदीप गुलेरिया
डॉ. रणदीप गुलेरिया देश के पहले डॉक्टर हैं, जिन्होंने पल्मोनरी एंड क्रिटिकल केयर मेडिसिन में डीएम की डिग्री हासिल की थी. इन्होंने मेडिकल की पढ़ाई चंडीगढ़ के पोस्ट ग्रेज्युएट इंस्टीट्यूट ऑफ मेडिकल एजुकेशन एंड रिसर्च से की है. डॉ. गुलेरिया ने 1992 में बतौर असिस्टेंट प्रोफेसर डिपार्टमेंट ऑफ मेडिसिन जॉइन किया था. एम्स में देश का पहला पल्मोनरी मेडिसिन एंड स्लीप डिसऑर्डर सेंटर की शुरुआत करने का श्रेय इन्हीं को जाता है. जिसकी शुरुआत 2011 में की थी.  रेस्पिरेट्री मसल फंक्शन, लंग्स कैंसर, अस्थमा, सीओपीडी में योगदान और 400 से अधिक नेशनल और इंटरनेशनल पब्लिकेशंस में प्रकाशित रिसर्च के लिए 2015 भारत सरकार ने पद्मश्री से नवाजा.

2010-13 तक बतौर एडवाइजर भी काम कर चुके हैं
प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की अध्यक्षता वाली कैबिनेट की नियुक्ति संबंधी समिति (एसीसी) ने उन्हें साल 2017 में पांच साल के लिए एम्स का नया निदेशक नियुक्त किया. इसके अलावा भारत में नई बीमारियों का पता लगाने और नेशनल लेवल पर एंटीबायोटिक के रसिस्टेंस को कंट्रोल करने वाली कमेटी के मेंबर भी हैं. डॉ. गुलेरिया के पिता जगदेव सिंह गुलेरिया एम्स के डीन रह चुके हैं. ये उस दौर की बात है जब पूर्व प्रधानमंत्री इंदिरा गांधी को गोली लगने के बाद एम्स में भर्ती किया गया था. विश्व स्वास्थ्य संगठन (डब्ल्यूएचओ) में 2010-13 तक बतौर एडवाइजर भी काम कर चुके हैं.

खोज-सह-चयन समिति ने तीन डॉक्टरों के नाम चुने थे
वहीं, सोमवार को खबर सामने आई थी कि इस साल मार्च में खोज-सह-चयन समिति ने तीन डॉक्टरों के नाम चुने थे और ये तीनों नाम एम्स के शीर्ष निर्णय प्राधिकार ‘इंस्टीट्यूट बॉडी’ की मंजूरी मिलने के बाद अंतिम निर्णय के लिए एसीसी के पास भेजे गये थे. एम्स के जिन तीन डॉक्टरों के नाम की सिफारिश की गई है, वे हैं- एंडोक्रायनोलॉजी विभाग के प्रमुख डॉक्टर निखिल टंडन; एम्स ट्रॉमा सेंटर के प्रमुख एवं ऑर्थोंपेडिक विभाग के प्रमुख डॉक्टर राजेश मल्होत्रा और गैस्ट्रोएंटेरोलॉजी विभाग के प्रोफेसर डॉक्टर प्रमोद गर्ग.

Tags: Aiims delhi, AIIMS Director Dr Randeep Guleria, Delhi news, Delhi news updates

विज्ञापन

राशिभविष्य

मेष

वृषभ

मिथुन

कर्क

सिंह

कन्या

तुला

वृश्चिक

धनु

मकर

कुंभ

मीन

प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
और भी पढ़ें
विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें

अगली ख़बर