होम /न्यूज /दिल्ली-एनसीआर /

Delhi Air Pollution: संभलकर रहें! बारिश से भी नहीं सुधरेंगे वायु प्रदूषण के हालात, बढ़ेंगी सांस संबंधी बीमारियां- विशेषज्ञ

Delhi Air Pollution: संभलकर रहें! बारिश से भी नहीं सुधरेंगे वायु प्रदूषण के हालात, बढ़ेंगी सांस संबंधी बीमारियां- विशेषज्ञ

फ‍िलहाल दिल्‍ली एनसीआर में एयर क्‍वालिटी खराब ही बनी रहेगी. (फाइल फोटो)

फ‍िलहाल दिल्‍ली एनसीआर में एयर क्‍वालिटी खराब ही बनी रहेगी. (फाइल फोटो)

वायु गुणवत्‍ता एवं मौसम पूर्वानुमान पर रिसर्च करने वाली पृथ्‍वी विज्ञान मंत्रालय की एजेंसी सफर इंडिया (SAFAR India) के अनुसार, शुक्रवार सुबह 9.30 बजे तक दिल्‍ली में हवा में PM 2.5 का स्‍तर 306 यानि बेहद खराब स्थिति में रहा. कल इस लेवल के और खराब स्थिति में 320 तक जाने का अनुमान है.

अधिक पढ़ें ...

नई दिल्‍ली : पिछले लंबे वक्‍त से प्रदूषण रहित सुहाने मौसम का मजा ले रहे दिल्‍ली-एनसीआर के लोगों के लिए अब एयर पॉल्‍युशन (Delhi Air Pollution) एक समस्‍या बनकर आ गया है. राष्‍ट्रीय राजधानी और उसके आसपास के क्षेत्रों में एकाएक वाणु गुणवत्‍ता (Delhi Air Quality) का स्‍तर गिर गया है. शुक्रवार को (खबर लिखे जाने तक) वायु गुणवत्‍ता सूचकांक यानि एक्‍यूआई 306 यानि बेहद खराब स्थिति में रहा. अभी इस स्थिति के और बिगड़ने का अनुमान है. मौसम विज्ञानियों का कहना है कि दिल्‍ली में आज और कल होने वाली बारिश (Delhi Rains) की तीव्रता तेज नहीं होगी, जो वायु प्रदूषण के कारकों को रोक पाएं. ऐसे में फ‍िलहाल दिल्‍ली एनसीआर में एयर क्‍वालिटी खराब ही बनी रहेगी.

वायु गुणवत्‍ता एवं मौसम पूर्वानुमान पर रिसर्च करने वाली पृथ्‍वी विज्ञान मंत्रालय की एजेंसी सफर इंडिया (SAFAR India) के अनुसार, शुक्रवार सुबह 9.30 बजे तक दिल्‍ली में हवा में PM 2.5 का स्‍तर 306 यानि बेहद खराब स्थिति में रहा. कल इस लेवल के और खराब स्थिति में 320 तक जाने का अनुमान है. दिल्‍ली (Delhi) के अलग-अलग इलाकों में वायु गुणवत्‍ता की स्थिति खराब बनी हुई है, जैसे पूसा में यह 310, लोधी रोड में 306, दिल्‍ली यूनिवर्सिटी में 304, एयरपोर्ट T3 में 308, नोएडा में 315, मथुरा रोड 321, आया नगर 302, आईआईटी दिल्‍ली 302, गुरुग्राम में 245 तो धीरपुर में यह लेवल 306 बना हुआ था.

Air Pollution in Delhi: वायु प्रदूषण से निपटने के लिए केजरीवाल सरकार की नई पहल

एजेंसी की तरफ से जारी हेल्‍थ एडवाइजरी (Health Advisory) में कहा गया है कि सभी लोग भारी शारीरिक क्रियाकलाप ना करें. खासकर बच्‍चे, बूढ़े और जिन लोगों को हृदय या फेफड़ों की बीमारी है, वे ऐसा करने से बचें. एजेंसी का कहना है क‍ि अभी लोगों में सांस संबंधी समस्‍याएं बढ़ेंगी.

वहीं, निजी मौसम पूर्वानुमान एजेंसी के प्रमुख मौसम विज्ञानी डॉ. महेश पालावत ने न्‍यूज18 हिंदी (डिजिटल) से बातचीत में एयर क्‍वालिटी के खराब होने के विश्‍लेषण में कहा कि पिछले कुछ समय में उत्‍तर भारत समेत दिल्‍ली-एनसीआर में तेज हवाएं चली थीं, जिससे काफी धूल-मिट्टी उड़ी थी और यह सभी हवा में मिक्‍स हुए थे. अब चूंकि हवा तेज नहीं चल रही है और ये पार्टिकल्‍स हवा में ही बने हुए हैं, ऐसे में वायु प्रदूषण अचानक बढ़ा है.

डॉ. पालावत कहते हैं कि आज और कल दिल्‍ली, पंजाब, हरियाणा, राजस्‍थान और उत्‍तर प्रदेश में बारिश का अनुमान है. हालांकि जहां तक वायु प्रदूषण के स्‍तर में कमी आने की बात है तो यह इस बात पर निर्भर करता है कि दिल्‍ली एनसीआर में बारिश कितनी तेज होगी. वैसे उनका कहना है कि पंजाब और हरियाणा में तेज बारिश का अनुमान है, लेकिन दिल्‍ली और एनसीआर में यह हल्‍की ही रहेगी, लिहाजा वायु प्रदूषण भी कम नहीं होगा और इसके लंबे समय तक बने रहने की आशंका है.

Tags: Air pollution, Delhi air pollution, Delhi Rain

विज्ञापन

विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें

अगली ख़बर