होम /न्यूज /दिल्ली-एनसीआर /

Delhi Air Pollution: दिल्ली में फिर लागू होगा Odd-even नियम?, मंत्री गोपाल राय ने दिया जवाब

Delhi Air Pollution: दिल्ली में फिर लागू होगा Odd-even नियम?, मंत्री गोपाल राय ने दिया जवाब

दिल्ली में लगातार बढ़ते प्रदूषण के चलते सांस लेने में दिक्कत होने लगी है.

दिल्ली में लगातार बढ़ते प्रदूषण के चलते सांस लेने में दिक्कत होने लगी है.

Delhi Air Pollution: अगर दीवाली के दिन की बात करें तो आनंद विहार का AQI लेवल 346 था, जबकि उसके बाद आतिशबाजी और फिर हरियाणा और पंजाब में पराली का ऐसा धुआं बढ़ गया है. पटाखे तो खत्म हो गए, लेकिन अब पराली के धुंए ने दिल्लीवालों की सांस रोक दी है. जिसकी वजह से आज आनंद विहार इलाके का AQI लेवल 455 पहुंच गया है, जो अब सिर्फ पराली का धुआं है. अब अगले 2 से 3 दिन दमघोंटू हवा लोगों के लिए परेशानी का सबब बन सकती है. दिल्ली में आज हालत ये रही कि अधिकतर इलाकों में AQI 400 से ऊपर रहा. पंजाब और हरियाणा में किसानों द्वारा पराली लगातार जलाई जा रही है, जिसकी वजह से धुआं अब दिल्ली पहुंच चुका है और गंभीर होता जा रहा है.

अधिक पढ़ें ...

    दिल्ली. दिल्ली में लगातार प्रदूषण (Air Pollution in delhi) का स्तर बढ़ता जा रहा है. आलम यह है कि कई इलाकों में तो पॉल्यूशन का स्तर अधिकतम हो गया है और दिल्ली का दम घुटने लगा है. शुक्रवार को दिल्ली के पर्यावरण मंत्री ने 11 नवंबर 2021 को एंटी ओपन बर्निंग कैंपेन (open burning campaign) की शुरुआत की गई. दिल्ली में दिवाली के बाद AQI काफी खराब स्तर के भी पार चला गया, जिसे देखते हुए केजरीवाल सरकार ने 9 नवंबर को इस कैंपेन की घोषणा की और गुरुवार से इसे लागू कर दिया गया.

    दिल्ली के पर्यावरण मंत्री गोपाल राय ने कहा कि प्रदूषण बहुत हद तक पराली जिम्मेदार है. दिल्ली सरकार ने हाल ही में धूल के मानदंडों का उल्लंघन करने के लिए 92 निर्माण स्थलों पर प्रतिबन्ध लगा दिया है. इसी क्रम में इस कैंपेन की शुरुआत की गई.

    एक निजी चैनल से बातचीत में गोपाल राय ने कहा कि पराली जलाने को लेकर पड़ोसी राज्यों को लेकर चिट्ठी लिखी है, लेकिन उनकी तरफ से कोई रिस्पांस नहीं मिला है. दिल्ली के लोगों का दम घुट रहा है और इसलिए दोबारा रिमांडर भेजा जाएगा और प्रयास करने होंगे. ऑड-इवन फॉर्मूले को लेकर गोपाल राय ने कहा कि पराली की वजह से सबसे ज्यादा प्रदूषण हो रहा है. लेकिन यदि यह कम नहीं होता है तो कोई सख्त कदम उठाया जा सकता है. हालांकि, उन्हें सीधे-सीधे ऑड-ईवन नियम लागू होगा, यह नहीं कहा.

    क्या है दिल्ली का हाल
    केंद्रीय प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड (सीपीसीबी) के मुताबिक, गुरुवार को दिल्ली का औसत वायु गुणवत्ता सूचकांक 411 रहा और इससे एक दिन पहले यह 372 रहा था. वहीं, एनसीआर में गुरुग्राम को छोड़कर सभी शहर गंभीर श्रेणी में दर्ज किए गए हैं. दिवाली के बाद से सबसे खराब हालात गाजियाबाद के बने हुए हैं. बीते 24 घंटे में यहां का एक्यूआई 461 रिकॉर्ड किया गया है. लगातार दूसरे दिन गाजियाबाद देश का सबसे प्रदूषित शहर रहा है. इसके बाद सबसे गंभीर हालात उत्तरप्रदेश के वृंदावन के रहे. यहां का एक्यूआई 458 रहा.

    Tags: Air pollution delhi, Odd-Even

    विज्ञापन

    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें

    अगली ख़बर