अपना शहर चुनें

States

दिल्ली की वायु गुणवत्ता में गिरावट, 'औसत' से ‘खराब’ श्रेणी में आया AQI

शुक्रवार की तुलना में शनिवार को दिल्ली की एयर क्वालिटी इंडेक्स काफी खराब दर्ज की गई (फाइल फोटो)
शुक्रवार की तुलना में शनिवार को दिल्ली की एयर क्वालिटी इंडेक्स काफी खराब दर्ज की गई (फाइल फोटो)

शुक्रवार को हवाओं की तेज गति और पराली जलाने (Stubble Burning) की घटनाओं से प्रदूषण में कम योगदान की वजह से दिल्ली की हवा (Air Quality Of Delhi) अपेक्षाकृत साफ रही. लेकिन रात को हवाओं की गति मंद पड़ने से प्रदूषकों का एक बार फिर जमाव शुरू हो गया

  • News18Hindi
  • Last Updated: November 28, 2020, 9:56 PM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. देश की राजधानी दिल्ली (Delhi) में शनिवार को एक बार फिर वायु गुणवत्ता ‘खराब’ श्रेणी में दर्ज की गई. जबकि एक दिन पहले अनुकूल हवाओं की वजह से इसमें सुधार देखने को मिला था. सरकारी एजेंसियों का कहना है कि हवा की गति कम होने के कारण वायु गुणवत्ता (Air Quality) में और गिरावट की आशंका है. दिल्ली का शनिवार को 24 घंटे का औसत एक्यूआई (AQI) 231 दर्ज किया गया, जबकि शुक्रवार को यह 137, गुरूवार को 302 और बुधवार को 413 दर्ज किया गया था.

शुक्रवार को हवाओं की तेज गति और पराली जलाने की घटनाओं से प्रदूषण में कम योगदान की वजह से दिल्ली की हवा अपेक्षाकृत साफ रही. लेकिन रात को हवाओं की गति मंद पड़ने से प्रदूषकों का एक बार फिर जमाव शुरू हो गया.

मौसम विभाग (IMD) के मुताबिक शनिवार को अधिकतम 15 किलोमीटर प्रति घंटा की रफ्तार से हवाएं चलीं. रविवार और सोमवार को हवाओं की गति 12 किलोमीटर प्रतिघंटा रहने की संभावना है.



फसलों की कटाई का सीजन खत्म होने के साथ दिल्ली के प्रदूषण में पराली जलाने का योगदान भी कम हुआ है. पृथ्वी विज्ञान मंत्रालय के वायु गुणवत्ता निगरानी प्रणाली ‘सफर’ के मुताबिक, शुक्रवार को पीएम- 2.5 प्रदूषक के मामले में पराली का योगदान महज दो प्रतिशत रहा.
सरकारी एजेंसी सफर के अनुसार, रविवार को हवा की गति कम होने की संभावना है. ऐसे में दिल्ली में वायु गुणवत्ता के और खराब होने और अगले दो दिन तक ‘खराब और बेहद खराब’ श्रेणी में बने रहने का अनुमान है.

बता दें कि शून्य से 50 के बीच वायु गुणवत्ता सूचकांक ‘अच्छा’, 51 से 100 के बीच ‘संतोषजनक’, 101 से 200 के बीच ‘मध्यम’, 201 से 300 के बीच ‘खराब’, 301 से 400 के बीच ‘अत्यंत खराब’ और 401 से 500 के बीच वायु गुणवत्ता सूचकांक ‘गंभीर’ श्रेणी में माना जाता है. (भाषा से इनपुट)
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज