होम /न्यूज /दिल्ली-एनसीआर /

दिल्‍ली से पंजाब सड़क मार्ग से जाना होगा आसान, एक्‍सप्रेस-वे तैयार करने की समय सीमा तय

दिल्‍ली से पंजाब सड़क मार्ग से जाना होगा आसान, एक्‍सप्रेस-वे तैयार करने की समय सीमा तय

दिल्‍ली अमृतसर कटरा एक्‍सप्रेसवे 668 किमी. लंबा है, जो तीन राज्‍यों हरियाण, पंजाब और जम्‍मू कश्‍मीर से गुजर रहा है. .

दिल्‍ली अमृतसर कटरा एक्‍सप्रेसवे 668 किमी. लंबा है, जो तीन राज्‍यों हरियाण, पंजाब और जम्‍मू कश्‍मीर से गुजर रहा है. .

केंद्रीय सड़क परिवहन एवं राजमार्ग मंत्री नितिन गडकरी के अनुसार दिल्‍ली-कटरा एक्‍सप्रेस-वे 668 किमी लंबा है, जो तीन राज्‍यों हरियाणा, पंजाब और जम्‍मू-कश्‍मीर से गुजर रहा है. इसके लिए 597 किमी जमीन अधिग्रहण कर निर्माण के लिए सौंपी जा चुकी है. बची हुई जमीन का अधिग्रहण भी जल्‍द कर लिया जाएगा. इस एक्‍सप्रेस-वे का सबसे अधिक हिस्सी 422 किमी पंजाब से गुजरेगा.

अधिक पढ़ें ...

नई दिल्‍ली. कुछ समय बाद दिल्‍ली (Delhi) से पंजाब (Punjab)  सड़क मार्ग से जाना आसान हो जाएगा. दिल्‍ली-अमृतसर-कटरा एक्‍सप्रेस-वे (Delhi-Amritsar-Katra Expressway) का काम जोरों पर चल रहा है. तीन राज्‍यों से गुजरने वाले इस एक्‍सप्रेस-वे (Expressway) पर दो राज्‍यों में निर्माण कार्य शुरू हो चुका है और तीसरे राज्‍य में निर्माण शुरू होने की प्रक्रिया चल रही है. सड़क परिवहन एवं राजमार्ग मंत्रालय (Ministry of Road Highways and Transport) ने इस एक्‍सप्रेस-वे के हरियाणा से गुजरने वाले खंड के निर्माण कार्य पूरा करने की समय सीमा तय कर दी है. यह मार्च 2024 तक पूरा कर लिया जाएगा. इसके तैयार होने के बाद दिल्‍ली से पंजाब जाना आसान हो जाएगा.

दिल्‍ली-कटरा एक्‍सप्रेस-वे 668 किमी लंबा है, जो तीन राज्‍यों हरियाणा, पंजाब और जम्‍मू-कश्‍मीर से गुजरेगा. केंद्रीय सड़क परिवहन एवं राजमार्ग मंत्री नितिन गडकरी के अनुसार इसके लिए 597 किमी जमीन अधिग्रहण कर निर्माण के लिए सौंपी जा चुकी है. बची हुई जमीन का अधिग्रहण भी जल्‍द कर लिया जाएगा. इस एक्‍सप्रेस-वे का सबसे अधिक हिस्सा 422 किमी पंजाब से गुजरेगा. हरियाणा और पंजाब में निर्माण कार्य शुरू हो चुका है, जबकि जम्‍मू-कश्‍मीर में जमीन अधिग्रहण कर निर्माण एजेंसी को सौंपी जा चुकी है. हरियाणा में 158 किमी लंबा एक्‍सप्रेस-वे होगा.

हरियाणा में इन जिलों से गुजरेगा
एक्‍सप्रेस-वे कुंडली, मानेसर, पलवल (केएमपी) इंटरचेंज से शुरू होगा, जो झज्‍जर, रोहतक, सोनीपत, जींद, करनाल और कैथल जिलों से होकर गुजरेगा. सड़क परिवहन एवं राजमार्ग मंत्री ने कहा कि यहां से गुजरने वाला एक्‍सप्रेस-वे मार्च 2024 तक पूरा कर लिया जाएगा.

जानें एक्‍सप्रेस-वे की मौजूदा प्रगति
668 किमी लंबा एक्‍सप्रेस-वे हरियाणा में 158 किमी और पंजाब में 422 किमी लंबा होगा. हरियाणा में 158 किमी खंड में निर्माण कार्य शुरू हो चुका है, जबकि पंजाब में 107 किमी लंबे खंड में निर्माण कार्य शुरू हो चुका है और कुल 384 किमी जमीन सौंपी जा चुकी है. यहां पर 39 किमी खंड के लिए डीपीआर तैयार हो रहा है. जम्‍मू-कश्‍मीर में 88 किमी लंबा एक्‍सप्रेस-वे होगा, इसमें से 55 किमी जमीन सौंपी जा चुकी है. इस एक्‍सप्रेस-वे की कुल अनुमानित लागत 3737525 करोड़ रुपये है.

समय की होगी बचत
मौजूदा समय में दिल्‍ली से वैष्‍णोदेवी, कटरा सड़क मार्ग से जाने में करीब 14 घंटे लग जाते हैं. दिल्‍ली से अमृतसर 405 किलोमीटर जाने में करीब आठ घंटे का समय लगता है. लेकिन एक्‍सप्रेस-वे बनने के बाद कटरा तक की दूरी आठ घंटे में और अमृतसर की दूरी चार घंटे में तय की जा सकेगी. यह एक्‍सप्रेस-वे फोर-लेन का होगा, इसमें ट्रक स्टॉप, फूड कोर्ट, ट्रॉमा सेंटर, एंबुलेंस, फायर ब्रिगेड और ट्रैफिक पुलिस स्टेशन बनेंगे.

Tags: National Highways Authority of India, Road and Transport Ministry

अगली ख़बर