Delhi-लखनऊ मेट्रो आज से पकड़ेगी रफ्तार, इन बातों का रखना हो खास ख्‍याल
Lucknow News in Hindi

Delhi-लखनऊ मेट्रो आज से पकड़ेगी रफ्तार, इन बातों का रखना हो खास ख्‍याल
मेट्रो ने यात्रियों के लिए कई नियम जारी किए हैं.

केंद्र सरकार की अनलॉक 4.0 (Unlock 4.0) की गाइडलाइंस के बीच दिल्‍ली और लखनऊ मेट्रो (Delhi and Lucknow Metro) समेत देश की अधिकांश मेट्रो सेवाएं सोमवार से बहाल हो जाएंगी.

  • News18Hindi
  • Last Updated: September 7, 2020, 8:57 AM IST
  • Share this:
नई दिल्‍ली/ लखनऊ. देश में कोरोना वायरस संक्रमण (Coronavirus Infection) का कहर जारी है. इस बीच, कुछ दिन पहले केंद्र सरकार ने अनलॉक 4.0 (Unlock 4.0) की गाइडलाइंस जारी कर दी थीं. इसके बाद दिल्‍ली और लखनऊ मेट्रो (Delhi and Lucknow Metro) समेत देश की अधिकांश मेट्रो सेवाएं सोमवार यानी 7 सितंबर से बहाल हो जाएंगी. अगर दिल्‍ली मेट्रो की बात करें तो पांच महीने से अधिक समय तक बंद रहने के बाद एक बार फिर यह तीन चरणों में बहाल होने का तैयार है. हालांकि दिल्ली मेट्रो रेल निगम (डीएमआरसी) ने लोगों से अपील की है कि वह तत्काल आवश्यकता होने की सूरत में ही सेवा का उपयोग करें.

डीएमआरसी ने कही ये बात
दिल्ली मेट्रो रेल निगम (डीएमआरसी) के अधिकारियों ने रविवार को कहा कि कंनटेनमेंट जोन में स्थित स्टेशन बंद रहेंगे. जबकि इससे पहले भी आगाह किया था कि यदि यात्री सोशल डिस्‍टेंसिंग के नियमों का पालन नहीं करते हैं तो कुछ स्टेशनों पर ट्रेनों को नहीं रोका जा सकता है. अधिकारियों ने कहा कि दिल्ली मेट्रो की सेवा सात से 12 सितंबर के बीच तीन चरणों में चरणबद्ध तरीके से बहाल होगी. दिल्ली के समयपुर बादली को गुरुग्राम के हुडा सिटी सेंटर से जोड़ने वाली येलो लाइन और रेपिड मेट्रो सबसे पहले सात सितंबर को चालू होगी. पहले चरण में ट्रेनें सुबह सात बजे से पूर्वाह्न 11 बजे तक और शाम में चार बजे से रात आठ बजे तक चलेंगी.

अब 169 दिनों शुरू हुई दिल्‍ली मेट्रो
डीएमआरसी ने रविवार को जारी बयान में कहा कि महामारी के कारण दिल्ली-एनसीआर में मेट्रो सेवाएं 22 मार्च से बंद हैं. अब 169 दिनों के अंतराल के बाद सेवाएं बहाल होंगी. बयान में कहा गया, ' इस सोमवार और मंगलवार को केवल येलो लाइन पर संचालन बहाल किया जाएगा. सुबह चार घंटे (7-11 बजे) और शाम को चार घंटे (4-8 बजे) की अवधि में ये सेवा उपलब्ध रहेगी. जबकि 49 किलोमीटर लंबे इस रूट पर 37 स्टेशन हैं. डीएमआरसी ने कहा कि 57 ट्रेनें उपलब्ध रहेंगी जोकि लगभग 462 फेरे लगाएंगी. आगे 9-12 सिंतबर के बीच अन्य लाइनों पर चरणबद्ध तरीके से इसका विस्तार किया जाएगा.



इस बात का रखना होगा ध्‍यान
इस दौरान मेट्रो परिसर में वायरस के प्रसार की रोकथाम के मद्देनजर सभी सुरक्षा उपायों का सख्ती से पालन सुनिश्चित किया जाएगा. जबकि सोशल डिस्‍टेंसिंग के नियमों का पालन करने के साथ ही सभी को मास्क पहनना होगा और लगातार हाथों को सेनेटाइज करना होगा. मेट्रो ने इसके लिए स्वचालित थर्मल स्क्रीनिंग-सह-सैनिटाइजर डिस्पेंसर और फुट पेडल संचालित लिफ्टों को लगाया है. अधिकारियों ने बताया कि 45 स्टेशनों के प्रवेश द्वार पर, स्वचालित थर्मल स्क्रीनिंग सह सैनिटाइजर डिस्पेंसर लगाये गए हैं. यह सुविधा 17 मेट्रो स्टेशनों पर उपलब्ध होगी, जिसमें येलो लाइन के राजीव चौक, पटेल चौक, केंद्रीय सचिवालय और विश्वविद्यालय स्टेशन शामिल हैं.वहीं, कोविड-19 सुरक्षा मानकों के अनुसार किसी भी स्टेशन पर लिफ्ट में एक बार में अधिकतम तीन यात्रियों को जाने की अनुमति होगी. ट्रेनों के ठहराव की अवधि अब अधिक होगी. इसे प्रत्येक स्टेशन पर 10-15 सेकंड से बढ़ाकर 20-25 सेकंड किया जायेगा और ‘इंटरचेंज’ सुविधा की अवधि को 35-40 सेकंड से बढ़ाकर 55-60 सेकंड किया जायेगा. मेट्रो के अंदर बैठने के लिए भी सोशल डिस्‍टेंसिंग के नियमों का पालन करने के तहत एक सीट छोडकर यात्रियों को बैठना होगा और डिब्बे में खडे होकर यात्रा करने के दौरान भी दूरी बरकरार रखनी होगी.इसके लिए सीटों पर स्टिकर भी लगाए गए हैं.

लखनऊ मेट्रो में यूवी किरणों से सेनिटाइज किए जाएंगे टोकन
कोविड-19 लॉकडाउन के कारण करीब पांच महीने तक थमी रही लखनऊ मेट्रो रेल सेवा अनलॉक-4 के तहत आज को फिर शुरू हो जाएगी. मुसाफिर मेट्रो से यात्रा करने के लिए स्मार्ट कार्ड और टोकन दोनों का ही इस्तेमाल कर सकेंगे. लखनऊ मेट्रो देश की पहली ऐसी सेवा है जहां पर टोकन को सेनिटाइज करने के लिए यूवी तकनीक का इस्तेमाल होगा. यूपी मेट्रो रेल कॉरपोरेशन के प्रबन्ध निदेशक कुमार केशव ने रविवार को मेट्रो संचालन की तैयारियों का जायजा लिया. उन्होंने एक बयान में कहा कि लखनऊ मेट्रो प्रबंधन कोरोना काल में यात्रियों की सुरक्षा से जुड़े हर बिंदु का संज्ञान ले रहा है और उसने स्पर्शरहित यात्रा, सेनिटाइज़ेशन, दो गज की दूरी और स्वच्छता पर विशेष ध्यान दिया है. इसके अलावा यात्री, मेट्रो से सफर करने के लिए स्मार्ट कार्ड और टोकन दोनों का ही इस्तेमाल कर सकेंगे.

यूपी मेट्रो रेल कॉरपोरेशन के प्रबन्ध निदेशक कुमार केशव ने बताया कि ट्रेन के अंदर सीटों पर भी दो गज की दूरी के लिए मार्किंग की गई है ताकि यात्री एक सीट छोड़कर बैठें. आमतौर पर यात्रियों के संपर्क में आने वाले सभी स्थानों जैसे कि ग्रैब रेल्स, ग्रैब पोल्स, ग्रैब हैंडल्स, यात्री सीट और दरवाज़ों को नियमित तौर पर सेनिटाइज़ किया जाएगा. वहीं, स्टेशन के अंदर आमतौर पर छुई जाने वाली चीजों जैसे कि प्रवेश-निकास गेट, बैगेज स्कैनर्स, टिकट वेंडिंग मशीन, एएफ़सी गेट, एस्कलेटर की हैंडरेल्स, सीढ़ियों की रेलिंग, लिफ़्ट के बटन, प्लेटफ़ॉर्म पर लगीं सीटों आदि को भी नियमित अंतराल पर सेनिटाइज़ किया जाएगा. केशव ने बताया कि सात सितम्बर से पहले की तरह सुबह छह बजे से रात 10 बजे तक मेट्रो का संचालन होगा. इस दौरान 16 ट्रेनें चलायी जाएंगी जो चौधरी चरण सिंह एयरपोर्ट से मुंशीपुलिया तक सभी 21 स्टेशनों पर ट्रेनें रुकेंगी. मेट्रो परिसर में प्रवेश के लिए मास्क पहनना अनिवार्य होगा. अगर कोई यात्री मास्क लाना भूल जाता है तो उसे सशुल्क मास्क उपलब्ध कराया जाएगा. वहीं, सभी यात्रियों को मोबाइल में आरोग्य सेतु ऐप इंस्टॉल करना होगा. अगर किसी व्यक्ति के पास मोबाइल फ़ोन या स्मार्ट फ़ोन नहीं है तो उसका नाम और मोबाइल नंबर रजिस्टर में दर्ज कराए जाएंगे. प्रवेश से पहले यात्रियों की थर्मल स्क्रीनिंग अनिवार्य होगी और तापमान मानक स्तर से कम होने पर ही प्रवेश की अनुमति दी जाएगी.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज