दिल्लीवाले सावधान! उत्तर भारत में अगले 4 दिनों में होगी हाड़ कंपाने वाली ठंड, ये है वजह

उत्तर भारत के अधिकतर हिस्सों में सोमवार को शीतलहर का प्रकोप जारी रहा और कश्मीर घाटी, उत्तराखंड और हिमाचल प्रदेश के ऊंचाई वाले क्षेत्रों में ताजा हिमपात हुआ.
उत्तर भारत के अधिकतर हिस्सों में सोमवार को शीतलहर का प्रकोप जारी रहा और कश्मीर घाटी, उत्तराखंड और हिमाचल प्रदेश के ऊंचाई वाले क्षेत्रों में ताजा हिमपात हुआ.

उत्तर भारत के अधिकतर हिस्सों में सोमवार को शीतलहर का प्रकोप जारी रहा और कश्मीर घाटी, उत्तराखंड और हिमाचल प्रदेश के ऊंचाई वाले क्षेत्रों में ताजा हिमपात हुआ.

  • News18Hindi
  • Last Updated: January 6, 2020, 9:58 PM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. दिल्ली में सोमवार सुबह बादल छाये रहने से और कुछ इलाकों में हल्की बूंदाबांदी से न्यूनतम तापमान में थोड़ी वृद्धि हुई. हालांकि पश्चिमी विक्षोभ के प्रभाव में बारिश होने के कारण अगले तीन चार दिनों में तापमान में जबरदस्त गिरावट आ सकती है. मौसम वैज्ञानिकों ने यह जानकारी दी. भारतीय मौसम विज्ञान विभाग ने बताया कि अधिकतम तापमान 19.1 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया जो सामान्य है. विभाग के मुताबिक, न्यूनतम तापमान 9.9 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया जोकि सामान्य से तीन डिग्री अधिक है.

मौसम वैज्ञानिकों का कहना है कि उत्तर भारत में सात और नौ जनवरी के बीच बारिश होने की संभावना है जिससे दिल्ली में पारा लुढक सकता है. उनके अनुसार, नौ जनवरी तक न्यूनतम तापमान पांच या छह डिग्री पर पहुंच सकता है. मंगलवार शाम को शहर में हल्की बारिश, गरज के साथ बौछारें और ओलावृष्टि होने की संभावना है. यहां 20-25 किलोमीटर की रफ्तार से हवाएं चल सकती हैं. अधिकतम और न्यूनतम तापान क्रमश: 18 और 10 डिग्री के आसपास रहने की संभावना है.

सोमवार को शीतलहर का प्रकोप
वहीं उत्तर भारत के अधिकतर हिस्सों में सोमवार को शीतलहर का प्रकोप जारी रहा और कश्मीर घाटी, उत्तराखंड और हिमाचल प्रदेश के ऊंचाई वाले क्षेत्रों में ताजा हिमपात हुआ. मौसम वैज्ञानिकों ने कहा कि राष्ट्रीय राजधानी में दिन में आकाश में बादल छाए रहने से न्यूनतम तापमान में थोड़ी वृद्धि हुई. उन्होंने कहा कि उत्तर भारत में सात से नौ जनवरी के बीच बारिश होने की संभावना है, जिससे दिल्ली में तापमान में गिरावट आएगी. कश्मीर में श्रीनगर और अन्य हिस्सों में 2020 का पहला हिमपात हुआ. वहीं, ताजा बारिश की वजह से समूची घाटी में रात के तापमान में सुधार हुआ.
कश्मीर में सुबह से ही हल्की से मध्यम बारिश


मौसम विभाग के एक अधिकारी ने कहा कि श्रीनगर शहर सहित समूचे कश्मीर में सुबह से ही हल्की से मध्यम बारिश होती रही. भारतीय हवाईअड्डा प्राधिकरण के एक अधिकारी ने कहा कि हालांकि श्रीनगर से जाने वाली और श्रीनगर आने वाली उड़ानें निर्धारित कार्यक्रम के अनुसार जारी हैं. श्रीनगर में बीती रात तापमान शून्य से 0.8 डिग्री सेल्सियस नीचे दर्ज किया गया. अधिकारियों ने बताया कि सोमवार को बारिश की वजह से भूस्खलन के कारण जम्मू-श्रीनगर राजमार्ग पर 600 से अधिक वाहन फंस गए.

मैदानी इलाकों में रुक-रुककर बारिश

 

उत्तराखंड में ऊंचाई वाले इलाकों में ताजा हिमपात हुआ और हाड़ कंपा देने वाली सर्दी जारी रही. इसके साथ ही मैदानी इलाकों में रुक-रुककर बारिश हुई. बद्रीनाथ, केदारनाथ, हेमकुंड साहिब और फूलों की घाटी में भी सोमवार की सुबह ताजा हिमपात हुआ. वहीं, निचले इलाकों में बारिश हुई. गंगोत्री, यमुनोत्री, हारसिल, हर की दून में भी ताजा हिमपात हुआ. हिमाचल प्रदेश के ऊंचाई वाले इलाकों में ताजा हिमपात, जबकि निचले क्षेत्रों और मैदानी इलाकों में बारिश हुई. शिमला मौसम विज्ञान केंद्र के निदेशक मनमोहन सिंह ने बताया कि परिणामस्वरूप तापमान सामान्य से छह-सात डिग्री नीचे गिर गया.

राजस्थान में भी शीतलहर जारी
पंजाब और हरियाणा के कई हिस्सों में रातभर हुई बारिश के बाद शीतलहर जारी रही. न्यूनतम तापमान में हालांकि सामान्य से कई डिग्री अधिक वृद्धि देखी गई. चंडीगढ़ में न्यूनतम तापमान में सामान्य से छह डिग्री अधिक की वृद्धि हुई और यह 11.3 डिग्री दर्ज किया गया. वहीं, राजस्थान में भी शीतलहर जारी रही. उत्तर प्रदेश ठंडा और सूखा रहा. राज्य के कई इलाकों में सुबह के समय घना कोहरा छाया रहा. मौसम विभाग ने कहा कि राज्य के अधिकतर इलाकों में मंगलवार को गरज के साथ छींटे पड़ने की संभावना है. वहीं, पूर्वी भारत में पश्चिम बंगाल के दार्जीलिंग में सोमवार को तापमान लगभग जमाव बिन्दु के पास रहा. वहीं, राज्य के अन्य हिस्सों में तापमान 10 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया.

यह भी पढ़ें:-

झूठ नहीं कामकाज के आधार पर लड़ा जाएगा दिल्ली में चुनाव: जावड़ेकर
दिल्‍ली के बुजुर्ग-दिव्‍यांग मतदाता पोस्‍टल बैलेट से घर बैठे कर सकेंगे मतदान
दिल्ली विधानसभा चुनाव की जंग शुरू, जानिए किस पार्टी को किससे है खतरा?
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज