लाइव टीवी

दिल्ली विधानसभा चुनाव: सत्ता में वापसी के लिए BJP ने बनाया प्लान, इन सीटों पर फोकस
Delhi-Ncr News in Hindi

भाषा
Updated: December 15, 2019, 11:05 PM IST
दिल्ली विधानसभा चुनाव: सत्ता में वापसी के लिए BJP ने बनाया प्लान, इन सीटों पर फोकस
बीजेपी ने अभी से 12 सीटों पर फोकस किया है, ये सुरक्षित सीटें हैं. (File Photo)

दिल्ली की सत्ता में वापसी के लिए बीजेपी (BJP) ने कोशिशें शुरू कर दी हैं. अगले साल विधानसभा चुनाव (Delhi Assembly Election 2020) होना है, इसके लिए बीजेपी ने अभी से 12 सुरक्षित सीटों पर ध्यान केंद्रित करना शुरू कर दिया है.

  • भाषा
  • Last Updated: December 15, 2019, 11:05 PM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. दिल्ली (Delhi) की सत्ता से आम आदमी पार्टी/आप (aam aadmi party) सरकार को बेदखल कर दो दशक बाद सत्ता में वापसी के कठिन लक्ष्य को हासिल करने के लिए बीजेपी (BJP) ने प्लान बनाकर काम करना शुरू कर दिया है. बीजेपी, दिल्ली की सत्ता के लिए 12 सुरक्षित सीटों पर ध्यान केंद्रित कर रही है. दिल्ली बीजेपी (Delhi BJP) का अनुसूचित जाति मोर्चा अगले साल होने वाले चुनाव के मद्देनजर मतदाताओं में पैठ बढ़ाने के मकसद से नवंबर से ही अलग-अलग अनुसूचित जातियों के साथ ‘सामाजिक सम्मेलन’ कर रहा है.

दिल्ली बीजेपी अनुसचित जाति मोर्चा के अध्यक्ष मनोहर लाल गिहरा ने बताया, 'हम पहले ही वाल्मीकि, जाटव, खटीक, धनुक और मल्लाह सहित 13 अनुसूचित जातियों के साथ बैठक कर चुके हैं. आने वाले दिनों में कुछ और बैठकें करने की योजना है.'

1998 से दिल्ली की सत्ता से बाहर हुई थी बीजेपी
दिल्ली बीजेपी के वरिष्ठ नेता ने कहा कि पार्टी 1998 से दिल्ली की सत्ता से बाहर हुई थी और उन 20 सीटों पर प्रदर्शन ‘दयनीय’ था, जहां अनुसूचित जाति और मुस्लिम मतदाता नतीजे तय करते हैं. उन्होंने कहा, "इन 20 सीटों में बवाना, सुल्तानपुर माजरा, अम्बेडकर नगर, देवली, करोल बाग, पटेल नगर, गोकलपुर सहित 12 सीटें अनुसूचित जातियों के लिए आरक्षित हैं, जिनके नतीजों का असर विधानसभा चुनाव में बीजेपी के जीतने की संभावनाओं पर पड़ेगा.'



बीजेपी की पहल पर सकारात्मक प्रतिक्रिया
गिहरा ने कहा कि विभिन्न अनुसूचित जातियों ने उन तक पहुंचने के लिए बीजेपी की पहल पर सकारात्मक प्रतिक्रिया दी है. उन्होंने कहा, 'अनुसूचित जाति के लोग सम्मान चाहते हैं, जो हमने समाज में उनकी भूमिका स्वीकार करके और सामाजिक सम्मेलन करके दिया है. यह भी तथ्य है कि मोदी सरकार उज्ज्वला योजना और प्रधानमंत्री आवास योजना के अधिकांश लाभार्थी अनुसूचित समुदाय के सदस्य हैं.'

गिहरा ने कहा कि अनुसूचित जाति मोर्चा ने उनके साथ बीजेपी के संबंध को मजबूत करने के लिए रविवार को आरक्षित विधानसभा क्षेत्रों में स्वाभिमान सम्मेलन आयोजित किया. गौरतल है कि 1993 से ही बीजेपी आरक्षित सीटों पर जीत दर्ज नहीं कर पाई है. पहले यह कांग्रेस का गढ़ था और 2015 में 'आप' ने इन सीटों पर कब्जा किया.

ये भी पढ़ें- फांसी से पहले बैजू के आखिरी शब्द- साहब! हमार मुंह मत ढको, हम ऐसे ही चल देंगे

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए दिल्ली-एनसीआर से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: December 15, 2019, 5:32 PM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर