लाइव टीवी

नांगलोई जाट: गंदे पानी की निकासी, जाम और अतिक्रमण बड़ी समस्या!

News18Hindi
Updated: February 3, 2020, 1:15 PM IST
नांगलोई जाट: गंदे पानी की निकासी, जाम और अतिक्रमण बड़ी समस्या!
'आप' ने रघुविंदर शौकीन को इस साल भी मैदान में उतारा है

आम आदमी पार्टी ने अपने निवर्तमान विधायक रघुविंदर शौकीन को फिर से मैदान में उतारा है. इस सीट पर पांच बार जीत चुकी है कांग्रेस

  • News18Hindi
  • Last Updated: February 3, 2020, 1:15 PM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. नांगलोई जाट विधानसभा क्षेत्र उत्तर पश्चिम दिल्ली लोकसभा सीट का हिस्‍सा है. इस क्षेत्र को इसलिए भी महत्वपूर्ण माना जाता है क्योंकि यह 1951 में अस्तित्व में आया था. यह भारतीय रेल और मेट्रो दोनों से जुड़ा हुआ है. यहां 2,39,139 वोटर हैं. साल 2015 के चुनाव में आम आदमी पार्टी ने अपना खाता खोला. जब रघुविंदर शौकीन विधायक चुने गए. उन्होंने यहां पार्षद का चुनाव भी जीता था.

अरविंद केजरीवाल ने एक बार फिर रघुविंदर शौकीन पर ही भरोसा किया है. जबकि भारतीय जनता पार्टी ने सुमनलता शौकीन को टिकट दिया है. उधर, कांग्रेस ने मंदीप सिंह को प्रत्याशी बनाया है. तीनों प्रमुख पार्टियों के लीडर जीत का दावा कर रहे हैं. बीजेपी सत्तारूढ़ दल की पोल खोल रही है तो आम आदमी पार्टी को अपनी फ्री स्कीम पर पूरा यकीन है. खराब पानी, गंदे पानी की निकासी, जाम और अतिक्रमण क्षेत्र की बड़ी समस्या है.

नांगलोई जाट के प्रमुख इलाके

इस विधानसभा क्षेत्र में अध्यापक नगर, वंदना विहार, अमनपुर, हरकिशन नगर, मीराबाग, अंविका विहार, सुंदर विहार, निहाल विहार, शिवराम पार्क आदि प्रमुख क्षेत्र हैं. लगभग हर समाज के लिए क्षेत्र में चौपाल है.

नांगलोई जाट विधानसभा सीट, Nangloi Jat assembly seat, AAP, आम आदमी पार्टी, bjp, delhi assembly election 2020, दिल्ली विधानसभा चुनाव, Nangloi Jat constituency candidate list, नांगलोई जाट विधानसभा क्षेत्र के प्रत्याशियों की सूची, आम आदमी पार्टी, Raghuvinder Shokeen, रघुविंदर शौकीन, बीजेपी, Sumanlata Shokeen, सुमनलता शौकीन, कांग्रेस, Mandeep Singh, मनदीप सिंह
नांगलोई जाट विधानसभा क्षेत्र में 2,39,139 वोटर हैं


सियासी गुणाभाग

इस सीट पर आठ बार चुनाव हो चुका है. जिसमें पांच बार कांग्रेस, 2 बार बीजेपी और एक बार आम आदमी पार्टी ने जीत हासिल की है. साल 1951 में हुए पहले चुनाव में कांग्रेस के कांग्रेस के ब्रह्मप्रकाश ने सोशलिस्‍ट पार्टी के बलबीर सिंह को शिकस्त दी थी. 1993 में दिल्ली को पूर्ण विधानसभा का दर्जा मिलने के बाद हुए चुनाव में बीजेपी नेता देविंदर सिंह ने जीत दर्ज की. लेकिन 1998 से 2008 तक लगातार तीन बार कांग्रेस ने बाजी अपने नाम की.बात करें 2015 की तो आम आदमी पार्टी के रघुविंदर शौकीन ने बीजेपी के मनोज कुमार शौकीन को हराया था. शौकीन ने 83,259 मत लिए तो बीजेपी के मनोज कुमार को 46,235, जबकि कांग्रेस के बिजेंदर सिंह तीसरे नंबर पर पहुंच गए. उन्हें महज 15,756 वोट मिले.

ये भी पढ़ें:

त्रिनगर: ‘आप’ को बिजली-पानी और महिलाओं को मुफ्त बस यात्रा का सहारा!

चौपाल: समस्याओं पर सवालों के बीच ‘सुल्तान’ बनने की जंग!

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए दिल्ली-एनसीआर से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: February 3, 2020, 1:08 PM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर