लाइव टीवी

Delhi Election 2020: क्या दिल्ली में ‘आप’ को कांग्रेस वॉकओवर दे चुकी है? कहां हैं सारे सीनियर लीडर
Delhi-Ncr News in Hindi

Afsar Ahmad | News18India
Updated: January 30, 2020, 1:18 PM IST
Delhi Election 2020: क्या दिल्ली में ‘आप’ को कांग्रेस वॉकओवर दे चुकी है? कहां हैं सारे सीनियर लीडर
दिल्ली के चुनावी माहौल में आप और बीजेपी के घमासान के बीच कांग्रेस कहीं गुम हो गई है.

दिल्ली चुनाव (Delhi Election 2020) में आम आदमी पार्टी (AAP) और बीजेपी (BJP) के बीच घमासान जारी है. हैरान करने वाली बात यह है कि इस चुनावी शोरगुल में कांग्रेस (Congress) की आवाज कहीं गुम हो गई है या फिर ये कहें कि 'गुम' कर दी गई है.

  • News18India
  • Last Updated: January 30, 2020, 1:18 PM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. बीते एक हफ्ते से दिल्ली का चुनावी (Delhi Assembly Election 2020) माहौल गर्म है. आम आदमी पार्टी (AAP) और बीजेपी (BJP) के बीच घमासान जारी है. हैरान करने वाली बात यह है कि इस चुनावी शोरगुल में कांग्रेस (Congress) की आवाज कहीं गुम हो गई है या फिर ये कहें कि 'गुम' कर दी गई है. बीते एक हफ्ते में बीजेपी अपने 200 से ज्यादा सांसद और कई मंत्रियों को दिल्ली की चुनावी घमासान में उतार चुकी है. स्वयं पार्टी अध्यक्ष जेपी नड्डा, गृह मंत्री अमित शाह (Amit Shah) स्टेट लीडरशिप को सपोर्ट करने के लिए फ्रंट पर आकर बयान दे रहे हैं और सोशल मीडिया पर सक्रिय हैं. अमित शाह कई छोटी-बड़ी रैलियां कर चुके हैं. स्टेट यूनिट नई ऊर्जा के साथ AAP से दो-दो हाथ करने में लगी है. अभी तक आप चुनाव प्रचार (Election Campaign) में जहां आगे नजर आ रही थी, उसके मुकाबले बीजेपी अपने कैडर को सक्रिय करती नजर आने लगी है.

प्रचारकों की लिस्ट जारी, गायब हैं स्टार
दूसरी ओर, कांग्रेस ने स्टार प्रचारकों की 40 लोगों की लिस्ट तो जारी कर दी लेकिन राहुल (Rahul Gandhi), प्रियंका (Priyanka Gandhi) और सोनिया गांधी (Sonia Gandhi) सब दिल्ली के चुनाव प्रचार से गायब नजर आ रहे हैं. राहुल और प्रियंका दोनों के ही ऑफिस से इस बात की पुख्ता जानकारी सामने नहीं रही है कि उनका दिल्ली में चुनाव रैली का शेड्यूल क्या है. वहीं, राहुल का हाल ही में जयपुर रैली के लिए जाना और अब रैली के लिए केरल जाने की तैयारी करना संकेत दे रहा है कि कांग्रेस दिल्ली को लेकर अपना मन बना चुकी है. टिकट वितरण से पहले दिल्ली प्रदेश कांग्रेस प्रभारी पीसी चाको का ये बयान गौर करने वाला है कि वो चुनाव से पहले तो नहीं, लेकिन चुनाव के बाद जरूर आप के साथ जरूरत पड़ने पर कोई गठबंधन कर सकते हैं. गौर करने वाली बात यह है कि चाको पूर्व में भी आप के साथ जाने पर जोर देते रहे हैं.

delhi-assembly-election-2020-has-congress-party-given-walkover-to-aap-in-delhi-read-inside-story-nodrj | Delhi Election 2020: क्या दिल्ली में ‘आप’ को कांग्रेस वॉकओवर दे चुकी है? कहां हैं सारे सीनियर लीडर
कांग्रेस ने दिल्ली चुनाव के लिए 40 स्टार प्रचारकों की लिस्ट जारी की, लेकिन शीर्ष नेतृत्व अब भी मैदान से दूर है.


शीर्ष नेतृत्व को लेकर दे रहे सफाई
चुनाव प्रचार में कांग्रेस की टॉप लीडरशिप की खामोशी कांग्रेसी प्रत्याशियों के लिए मुसीबत बनी हुई है. हाल ये है कि प्रत्याशियों के निजी रिश्तों के आधार पर कांग्रेस के कुछ लीडर प्रचार के लिए पहुंच रहे हैं. दिल्ली प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष सुभाष चोपड़ा कालकाजी से अपनी बेटी के चुनाव प्रचार में ज्यादा वक्त दे रहे हैं. वहीं, कांग्रेसी नेता राज बब्बर और जितिन प्रसाद ने कुछ जगह जरूर प्रचार किया है. हालांकि कांग्रेस की ओर से टॉप लीडरशिप के बचाव में बार-बार ये कहा जा रहा है कि सीनियर चुनाव अभियान के अंतिम चरण में प्रचार करेंगे.

...तो इसलिए मौन है कांग्रेसएक्सपर्ट की नजर में कांग्रेस रणनीतिक रूप से बीजेपी को मात देने के लिए ऐसा कर रही है. गौरतलब है कि 2015 दिल्ली विधानसभा चुनाव में कांग्रेस का वोट प्रतिशत दो अंकों तक भी नहीं पहुंचा था, जबकि बीजेपी का वोट प्रतिशत 30 फीसदी से ऊपर तब भी रहा था. साफ है कि आप का बढ़ा वोट प्रतिशत दरअसल अधिकतर कांग्रेस के हिस्से से आया था. कांग्रेस पार्टी जानती है कि उसके वोट प्रतिशत में जरा भी उछाल आने का सीधा मतलब है कि आप की सीटें कम होना और बीजेपी की सीटें बढ़ना है, जो वो चाहती नहीं है. इसलिए दिल्ली में कांग्रेस मौन है.

ये भी पढ़ें -

2013 से 2019 के बीच चुनाव-दर-चुनाव ऐसे बदलता रहा दिल्‍ली के मतदाताओं का मिजाज

BJP के खिलाफ ये है अरविंद केजरीवाल की चुप्पी का राज?

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए दिल्ली-एनसीआर से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: January 30, 2020, 12:12 PM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर