चौपाल: 5 बार की कांग्रेस से आप ने 2015 में छीनी थी अंबेडकर नगर विधानसभा

मालवीय नगर, संगम विहार (Sangam Vihar) और देवली विधानसभा से लगा अंबेडकर नगर (Ambedkar Nagar) इलाका मेट्रो रेल (Metro Train) लाइन और सड़क मार्ग से खासा समृद्ध है.

मालवीय नगर, संगम विहार (Sangam Vihar) और देवली विधानसभा से लगा अंबेडकर नगर (Ambedkar Nagar) इलाका मेट्रो रेल (Metro Train) लाइन और सड़क मार्ग से खासा समृद्ध है.

  • Share this:
    नई दिल्ली. संविधान निर्माता बाबा भीमराव अंबेडकर (Baba bhimrao ambedkar) के नाम से मशहूर दिल्ली की अंबेडकर नगर विधानसभा (Ambedkar Nagar Assembly) में पहली बार 1993 में चुनाव हुए थे. तब से लेकर कांग्रेस (Congress) ने लगातार 5 बार यह विधानसभा जीतकर रिकार्ड कायम किया था. लेकिन 6वीं बार आम आदमी पार्टी (AAP) के अजय दत्त ने अनुसूचित जाति (SC) के लिए आरक्षित इस सीट को कांग्रेस के खाते से छीनकर गैरकांग्रेसी उम्मीदवार के रूप में पहली जीत दर्ज कराई थी.

    यह विधानसभा दक्षिण दिल्ली लोकसभा क्षेत्र में भी आती है. मालवीय नगर, संगम विहार (Sangam Vihar) और देवली विधानसभा से लगा यह इलाका मेट्रो रेल (Metro Train) लाइन और सड़क मार्ग से खासा समृद्ध है. आसानी से यहां से पूरी दिल्‍ली और उत्‍तर प्रदेश के गाजियाबाद (Ghaziabad), नोएडा (Noida) की ओर जाया जा सकता है. अंबेडकर नगर विधानसभा में अनधिकृत कॉलोनी व गांवों की भरमार होने के साथ साकेत जैसा दक्षिणी दिल्ली का पॉश इलाका भी है.

    मैं पैर से विकलांग हूं. बीते काफी समय से फुटपाथ के ऊपर ही सरकार ने मुझे यह दुकान लगाने की छूट दी हुई है. नमकीन और टॉफियां बेचकर परिवार का गुजारा चलाता हूं. मेरी दुकान और घर इसी इलाके में है. सच पूछिए तो अब बीते दो साल से कोई समस्या मुझे नजर नहीं आती हैं. हां, इससे पहले जरूरत कुछ ऐसी समस्याएं थीं जिन्हें देखकर लगता था कि यह कभी दूर नहीं होंगी. यह कहना है पुष्पा भवन इलाके में रहने और दुकान चलाने वाले धर्मेन्द्र का. न्यूज18 हिन्दी को धर्मेन्द्र ने बताया कि अभी कुछ समय पहले ही सीवर और पीने के पानी की लाइन डाली गई है. अब शायद ही कोई ऐसा क्षेत्र होगा जहां सीवर लीक की समस्या हो. दूसरी अहम बात यह कि पहले मेरे दोनों बच्चे एक प्राइवेट स्कूल में पढ़ते थे. 2500 रुपये महीना देता था. लेकिन अब बच्चे सरकारी स्कूल में जा रहे हैं. बेटी को किताब पढ़ना भी आ गया है.



    अंबेडकर नगर विधानसभा के लगभग सभी इलाकों में जाम की गंभीर समस्या है. क्षेत्र की सड़कें जर्जर हो गई हैं. कई चौराहों पर लालबत्ती नहीं होने से वाहन चालक मनमाने तरीके से सड़क पार करते हैं. बीआरटी से लेकर साकेत कोर्ट व पुष्प विहार के पास भी जाम की समस्या सुबह से शाम तक बनी रहती है. स्कूलों की छुट्टी के वक्त तो हालात और ज्यादा खराब हो जाते हैं. यह कहना है दक्षिणपुरी के रहने वाले अतीकउद्दीन का. अतीक ने बताया कि क्योंकि इस इलाके का अधिकांश हिस्सा अनधिकृत कॉलोनी का होने से यहां पानी और सीवर की समस्या है. ऐसा भी नहीं है कि पूरी विधानसभा में पीने के पानी और सीवर की समस्या बिल्कुल खत्म हो गई है. पानी की सप्लाई रेग्यूलर नहीं होती है. यहां तक की कुछ पॉश कालोनियों में भी पानी की सप्लाई ठीक नहीं है. बसों का सिस्टम और टाइम टेबल भी ठीक नहीं है. पुरानी दिल्ली से अंबेडकर नगर को जाने वाली डीटीसी बस के अलावा अन्य रूट की बसें नहीं हैं. मेट्रो रूट से अछूते इस इलाके में ऑटो वाले भी जाने को तैयार नहीं होते. जाते भी हैं तो मुंह मांगे रेट बोलते हैं.



    अंबेडकर नगर विधानसभा पर एक सियासी नजर

    जातीय समीकरण-

    बैरवा समाज- 20 फीसद

    पिछड़ा वर्ग व अन्य - 20

    वाल्मीकि- 15

    खटीक – 15

    अनुसूचित जाति - 12

    वैश्य - 8

    जाटव -7

    मुसलमान – 3 फीसद हैं.

    विधानसभा वोटरों की संख्या

    पुष्पा भवन के पास फटपाथ किनारे ऐसे होती है जाम लगाने की कोशिश.


    कुल मतदाता- 1,19,944

    पुरुष मतदाता- 65,515

    महिला मतदाता- 54,424

    अन्य मतदाता- 5

    2015 में हुए चुनावों के आंकड़ें

    कुल मतदाता - 1,19, 944

    कितने मत पड़े - 85,429

    किस पार्टी को कितने फीसदी वोट मिले

    आप - 42.42

    भाजपा - 28.76

    कांग्रेस - 23.12

    बसपा - 3.80

    निर्दलीय - 0.39

    विधानसभा के इलाकों पर एक नज़र

    चुनाव आयोग द्वारा 2008 में किए गए परिसीमन के बाद पुष्प विहार, शिव पार्क, दुग्गल कॉलोनी, जवाहर पार्क, राजू पार्क, बिहारी पार्क, खानपुर एक्सटेंशन, बाड़ा मोहल्ला अंबेडकर नगर विधानसभा से जुड़ गए. वहीं सुभाष कैंप और संजय कैंप अंबेडकर नगर से कटकर देवली विधानसभा में चले गए. खानपुर गांव, खानपुर एक्सटेंशन, पुष्प विहार, मदनगीर, दक्षिणपुरी, शिव पार्क, जवाहर पार्क, राजू पार्क, बिहारी पार्क, कृष्णा पार्क, दुग्गल कॉलोनी व बाड़ा मोहल्ला इसी के इलाके हैं.

    रिकार्ड वोट से छीनी थी कांग्रेस से यह सीट

    यहां के मौजूदा विधायक आप के अजय दत्त हैं. 2015 के विधानसभा चुनाव में आप के उम्मीदवार अजय दत्त ने भाजपा के अशोक कुमार को 42460 वोटों के अंतर से शिकस्त दी थी. अजय दत्त को 66632, जबकि अशोक कुमार को 24172 वोट मिले थे.

    ये भी पढ़ेंं- चौपाल: तो क्या जंगपुरा में रिफ्यूजियों की समस्याएं बनेंगी सियासी मुद्दा

    महरौली चौपाल: बसंत कुंज-साकेत से क्यों पिछड़े लाडो सराय और मसूदपुर

    पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.