लाइव टीवी

बिजवासन चौपाल: जब वोटर बोला- क्या हम पानी के लिए श्रापित हैं
Delhi-Ncr News in Hindi

News18Hindi
Updated: January 30, 2020, 4:42 PM IST
बिजवासन चौपाल: जब वोटर बोला- क्या हम पानी के लिए श्रापित हैं
Demo Pic

बिजवासन सीट (Bijwasan Assembly seat) पर आप (AAP) के उम्मीदवार कर्नल देविंदिर सिंह शेरावत ने लगातार दो बार से जीत रहे बीजेपी (BJP) के सत्य प्रकाश राणा को पराजित किया.

  • News18Hindi
  • Last Updated: January 30, 2020, 4:42 PM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. बिजवासन विधानसभा क्षेत्र (Bijwasan Assembly seat) दक्षिणी दिल्ली लोकसभा निर्वाचन क्षेत्र (South Delhi Lok Sabha Constituency) में आता है. यह विधानसभा तीन अन्य विधानसभाओं छतरपुर, महरौली (Mahrolli) और तुगलकाबाद (Tuglkabad) से सटी हुई है. जिसके चलते यहां की भी आम समस्या पीने का पानी (Water Crisis) ही है. लेकिन यहां भारतीय रेल (Indian Railway) और मेट्रो रेल (Metro Rail) की कनेक्टिविटी अच्छी होने के चलते एयरपोर्ट (Airport) सहित दूसरे इलाकों तक आसानी से पहुंचा जा सकता है. वर्ष, 2008 में परिसीमन आयोग की सिफारिश के बाद बिजवासन सीट पर चुनाव हुए थे.

परिसीमन के बाद दिल्ली विधानसभा चुनाव-2008 में भारतीय जनता पार्टी (BJP) के सत्य प्रकाश राणा ने कांग्रेस (Congress) के विजय सिंह लोचव को हराकर यहां से जीत हासिल की थी. इसके बाद आम आदमी पार्टी (AAP) की दस्तक के बाद भी सत्य प्रकाश राणा ने इस सीट पर दूसरी जीत हासिल की और विधायक बने. लेकिन दिल्ली विधानसभा चुनाव-2015 में आप और अरविंद केजरीवाल की लहर में भाजपा और कांग्रेस दोनों ही इस सीट पर ताश के पत्तों की तरह ढह गईं और यहां से आप के  उम्मीदवार कर्नल देविंदिर सिंह शेरावत ने लगातार दो बार से जीत रहे बीजेपी के सत्य प्रकाश राणा को पराजित किया. इस सीट पर 13.78 फीसदी एससी के वोट होने का दावा किया जाता है.

सुबह से शाम तक आप बिजवासन की सड़कों और गली-मोहल्लों में निकल जाइए तो दर्जनों लोग आपको पानी के लिए यहां-वहां भागदौड़ करते हुए दिखाई दे जाएंगे. कुछ लोग तो पैसे खर्च करने में सक्षम हैं जो जैसे-तैसे जुगाड़ कर पीने का पानी अपने घर के दरवाजे तक मंगा लेते हैं. लेकिन सबसे ज्यादा परेशानी उस गरीब की है जो दिन का आधा हिस्सा पानी की जुगाड़ में बिता देता है.

प्रतीकात्मक फोटो


ऐसा लगता है कि जैसे पड़ोस के दूसरे इलाकों की तरह से हम पानी के लिए श्रापित हैं. यह कहना है राजीव नांदेल का. न्यूज18 हिन्दी को नांदेल ने बताया कि ऐसा नहीं है कि यहां कोई नेता नहीं आता है. आते हैं, लेकिन सिर्फ वोट मांगने के लिए. महरौली, छतरपुर और तुगलकाबाद की तरह से हम भी न जाने कब से सिर्फ पानी की जद्दोजहद में अपनी जिंदगी बिताए दे रहे हैं.

अब हम समस्याएं क्या बताएं साहब, हमारी जिंदगी तो यहां तलवार की धार जैसी है. दिनभर चलने वाली पीने के पानी की उफनते सीवर की समस्याएं हमे कुछ और सोचने नहीं देती, ऊपर से एमसीडी के अफसर आए दिन यहां आकर खड़े हो जाते हैं कि यह कॉलोनी तोड़ी जाएगी. यह कहना है ब्रजमोहन रावत का. न्यूज18 हिन्दी को रावत ने बताया कि क्योंकि यहां आसपास अवैध कॉलोनियां ज्यादा हैं तो बुनियादी समस्याएं हर वक्त बनी रहती हैं.

प्रतीकात्मक फोटो.
कहीं पानी की दिक्कत है, तो कहीं सीवर लाइने ब्लॉक हैं. शिकायत करने के बाद भी कई-कई दिनों तक कार्रवाई नहीं होती. ऐसा नहीं है कि इस इलाके में पॉश कॉलोनी नहीं है, लेकिन सच बताएं तो हमने कभी भी उनको किसी भी बारे में शिकायत करते नहीं सुना और देखा है. अब या तो वहां समस्याएं हैं ही नहीं या फिर वो भी हमारी तरह से समस्याओं के आदी हो चुके हैं.

बिजवासन का सियासी आईना एक नजर में

जानें मतदाताओं की संख्या

2019 की मतदाता सूची के मुताबिक, बिजवासन विधानसभा सीट पर कुल 19.02 हजार वोटर हैं. 8 फरवरी को होने वाले मतदान के लिए यहां करीब 192 मतदान केंद्र बनाए जाएंगे. दिल्ली विधानसभा चुनाव-2015 में यहां पर 64.42 फीसद मतदान हुआ था, जिसके चलते चुनाव आयोग की कोशिश है कि यहां मतदान फीसद को बढ़ाया जाए. पिछली बार बीजेपी को इस सीट पर 38.42 फीसद, कांग्रेस को 4.45 फीसद और आप उम्मीदवार को 53 फीसद वोट मिले थे.

(Demo Pic)


विधानसभा चुनाव 2015

कर्नल देविंदर शेहरावत- आम आदमी पार्टी-65,006 (54.99)

सतप्रकाश राणा-बीजेपी-45,470 (38.46)

विजय सिंह लोचव -कांग्रेस-5,258 (4.44)

विधानसभा चुनाव 2013

सतप्रकाश राणा-बीजेपी-35,988 (34.65)

देविंदर शेहरावत- आम आदमी पार्टी-33,574  (32.32)

विजय सिंह लोचव -कांग्रेस-18,173 (17.50)

ये भी पढ़ें- आरके पुरम चौपाल: यहां राष्ट्रवाद से लेकर पानी और अवैध कॉलोनियां हैं मुद्दा

चौपाल: पड़ोसी विधानसभा की तरह से पीने के पानी को तरस रहा है छतरपुर

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए दिल्ली-एनसीआर से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: January 30, 2020, 4:42 PM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर