लाइव टीवी

कस्तूरबा नगर चौपाल: छोटी है विधानसभा, लेकिन लम्बी हो गई मुद्दों की फेहरिस्त
Delhi-Ncr News in Hindi

News18Hindi
Updated: January 30, 2020, 2:45 PM IST
कस्तूरबा नगर चौपाल: छोटी है विधानसभा, लेकिन लम्बी हो गई मुद्दों की फेहरिस्त
Delhi-election illustration

कस्तूरबा नगर विधानसभा (Kasturba Nagar Assembly) सीट पर कांग्रेस (Congress)-आप (AAP) को दो-दो और बीजेपी (BJP) को चार बार जीत मिली है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: January 30, 2020, 2:45 PM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. कस्तूरबा नगर विधानसभा (Kasturba Nagar Assembly) नई दिल्‍ली लोकसभा (New Delhi Lok Sabha Seat) निर्वाचन क्षेत्र का हिस्‍सा है. यह इलाका दिल्‍ली की बड़ी रिहाइश कॉलोनी के तौर पर जाना जाता है. आधुनिक रिहाइश इलाकों में शुमार यह क्षेत्र कपड़े और शू एक्‍सेसरीज सहित शूज के बाजार के रूप में जाना जाता है. इस इलाके में कई छोटे-बड़े बाजार हैं. यहां 1972 में चुनाव आयोग (Election Commission) ने पहली बार विधानसभा चुनाव कराए थे.

तब यहां के चुनाव में कांग्रेस (Congress) के सीएल वाल्मीकि ने जीत हासिल की थी. उन्‍होंने भारतीय जनसंघ के नेता सांवल दास को हराया था. मौजूदा वक्त में यहां से आम आदमी पार्टी (AAP) के मदन लाल विधायक हैं. वह लगातार दूसरी बार इस सीट से विधायक चुने गए हैं. इस सीट पर सबसे ज्‍यादा लगातार 4 बार भारतीय जनता पार्टी (BJP) ने चुनाव जीता है. कांग्रेस को यहां पर सिर्फ दो बार ही जीत नसीब हो सकी है. इस सीट से बीजेपी के जगदीश लाल बत्रा दो बार, बीजेपी के सुशील चौधरी दो बार और आम आदमी पार्टी के मदन लाल लगातार दो बार चुनाव जीतने वाले विधायक हैं.

साहब बिन बारिश के मौसम तो जैसे-तैसे गुजर जाते हैं. लेकिन जैसे ही बारिश शुरु होती है तो पॉश इलाकों में शुमार कस्तूरबा नगर विधानसभा ताल-तलैया के रूप में नज़र आने लगती है. जगह-जगह पानी भर जाता है. यह कहना है लाजपतनगर के रहने वाले सुनील देव का. न्यूज18 हिन्दी को सुनील ने बताया कि बारिश के दौरान मुख्य सड़क तो छोड़िए साहब गली-मोहल्ले में चलना भी दूभर हो जाता है. सीवर भी उफनने लगते हैं. सड़कों पर बारिश का और सीवर का पानी भरने के चलते सड़क भी बहुत जल्दी-जल्दी खराब हो जाती हैं. बीते पांच साल में कई बार यहां सड़क बन चुकी हैं. बावजूद इसके सड़कों के बनाने पर लाखों रुपये खर्च करने वाले जनभराव का कोई समाधान नहीं निकालते हैं.

(प्रतीकात्मक फोटो.)


हमारे इस इलाके में कई सरकारी कर्मचारियों की कॉलोनियां हैं और कुछ पॉश इलाके भी हैं. लाजपत नगर जैसी कॉलोनियां के अलावा शहर से सटे गांव भी हैं. बावजूद इसके कस्तूरबा नगर विधानसभा में ट्रैफिक जाम, प्रदूषण, सड़कों की खस्ता हालत, सरकारी कॉलोनियों में मेंटनेंस का अभाव, गांवों में गंदे पानी की सप्लाई, मार्केट्स में पार्किंग की दिक्कत और अवैध वेंडर्स की समस्या है.

यह कहना है रितु निगम का. न्यूज18 हिन्दी से बात करते हुए रितु ने कहा कि पूरी दिल्ली में ट्रैफिक जाम की समस्या पर बात की जाती है. कुछ समाधान भी निकाले जाते हैं. लेकिन कस्तूरबा नगर विधानसभा की शायद ही कोई सड़क ऐसी होगी जहां आने-जाने वाले लोगों को जाम की समस्या का सामना नहीं करना पड़ता हो. और तो और सरकारी कॉलोनियों को भी कई तरह की परेशानियों का सामना करना पड़ता है.

कस्तूरबा नगर विधानसभा का सियासी आईनाकस्तूरबा नगर विधानसभा सीट से वर्तमान में आप से मदन लाल विधायक हैं. पिछले विधानसभा चुनाव 2015 में मदन लाल ने 15,896 वोटों से बीजेपी उम्मीदवार रविंदर चौधरी को हराया था. पिछले चुनाव में मदन लाल को 50,766 तो बीजेपी उम्मीदवार को 34, 870 वोट हासिल हुए थे. वहीं कांग्रेस उम्मीदवार नीरज बसोया 11,233 वोट लेकर तीसरे नंबर पर रहे थे.

Demo Pic


विधानसभा में वोटरों की संख्या

कस्तूरबा नगर विधानसभा चुनाव क्षेत्र में 1.48 लाख वोटर हैं. इसमे महिला वोटरों की संख्या 64811 और पुरुष वोटरों की संख्या 83230 है. दिल्ली विधानसभा चुनाव-2015 में यहां 66.56 प्रतिशत वोट पड़े थे. हालांकि इस बार चुनाव आयोग को मतदान में इजाफा होने की उम्मीद है.

कांग्रेस-बीजेपी ने ऐसे जीती थी कस्तूरबा नगर सीट

इस सीट पर 1972 में कांग्रेस और 1977 जनता पार्टी ने जीत हासिल की. इसके बाद 1983, 1993, 1998 और 2003 में बीजेपी ने इस सीट पर चार साल जीत दर्ज की. 2008 में शीला दीक्षित के नेतृत्व में कांग्रेस के नीरज बसोया कस्तूरबा नगर से विधायक बने. इसके बाद 2013 और 2015 में इस सीट पर आम आदमी पार्टी ने अपना कब्जा जमाया. 2013 और 2015 में यहां से आप के मदन लाल ने जीत हासिल की.

कस्तूरबा नगर सीट का समीकरण

कस्तूरबा नगर विधानसभा के तहत आने वाली कुल आबादी में अनुसूचित जाति का अनुपात 13.32 फीसदी है. 2019 की मतदाता सूची के मुताबिक 1.51 लाख वोटर हैं. 150 मतदान केद्रों पर 8 फरवरी को वोट डाले जाएंगे. अगर 2015 के विधानसभा चुनावों की बात करें तो बीजेपी, कांग्रेस और आम आदमी पार्टी को यहां 35.41 फीसदी, 11.41 और 51.55 फीसदी वोट मिले थे.

प्रतीकात्मक फोटो.


कस्तूरबा नगर में कौन कितने वोटर हैं

कुल वोटर्स- 1,50,810

पुरुष वोटर्स- 83,700

महिला वोटर्स- 67,108

विधानसभा चुनाव 2015

मदन लाल (आम आदमी पार्टी)- 50,766 (53.51)

रविंदर चौधरी (बीजेपी)- 34,870 (35.41)

नीरज बसोया (कांग्रेस) 11,233 (11.40)

विधानसभा चुनाव 2013

मदन लाल (आम आदमी पार्टी)- 33,609 (38.03) फीसदी

शिखा रॉय (बीजेपी)- 28,935 (32.74)

नीरज बसोया (कांग्रेस)- 24,227 (27.41)

ये भी पढ़ें- आरके पुरम चौपाल: यहां राष्ट्रवाद से लेकर पानी और अवैध कॉलोनियां हैं मुद्दा

चौपाल: पड़ोसी विधानसभा की तरह से पीने के पानी को तरस रहा है छतरपुर

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए दिल्ली-एनसीआर से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: January 30, 2020, 2:45 PM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर