लाइव टीवी

Delhi Assembly Election: लोकल या नेशनल, किन मुद्दों पर लड़ा जाएगा चुनाव?
Delhi-Ncr News in Hindi

News18Hindi
Updated: December 27, 2019, 1:30 PM IST
Delhi Assembly Election: लोकल या नेशनल, किन मुद्दों पर लड़ा जाएगा चुनाव?
बीजेपी का वोटबैंक आम आदमी पार्टी की लहर में भी कम नहीं हुआ

जनवरी-फरवरी में होने वाले दिल्ली विधानसभा चुनाव (Delhi Assembly Election 2020) में इसकी झलक देखने को मिल सकती है. इसमें बीजेपी राष्ट्रीय मुद्दों और भावनाओं को छोड़ स्थानीय मुद्दों को तवज्जो दे सकती है. क्योंकि उसकी मुख्य प्रतिद्वंदी पार्टी 'आप' का ग्राउंउ ही लोकल मुद्दे हैं

  • News18Hindi
  • Last Updated: December 27, 2019, 1:30 PM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. हरियाणा (Haryana) और झारखंड (Jharkhand) में बीजेपी (BJP) सीटें जीतने के अपने तय किए गए लक्ष्य से काफी पीछे रही है. हरियाणा में जन नायक जनता पार्टी (JJP) के भरोसे किसी तरह से बीजेपी ने सरकार बना ली है लेकिन झारखंड हाथ से निकल गया. इस खराब प्रदर्शन ने बीजेपी (BJP) को अपनी चुनावी रणनीति बदलने के लिए चिंतन करने पर मजबूर कर दिया है. जनवरी-फरवरी में होने वाले दिल्ली विधानसभा चुनाव (Delhi Assembly Election 2020) में इसकी झलक देखने को मिल सकती है. इसमें पार्टी राष्ट्रीय मुद्दों और भावनाओं को छोड़ स्थानीय मुद्दों को तवज्जो दे सकती है. क्योंकि उसकी मुख्य प्रतिद्वंदी पार्टी 'आप' का ग्राउंउ ही लोकल मुद्दे हैं. इसी सप्ताह पार्टी ने एक बैठक भी की है जिसमें यहां के नेताओं को उन मुद्दों पर काम करने की जिम्मेदारी सौंपी गई है जिनसे दिल्ली के लोगों का सरोकार है.

इन दिनों किन मुद्दों पर बात करती है बीजेपी: बीजेपी की रैलियों में हमेशा राष्ट्रीय मुद्दे छाए रहते हैं. राम मंदिर, आर्टिकल 370, पाकिस्तान, एनआरसी, सीएए जैसे मसलों पर वे लगातार बात करते हैं. लेकिन दिल्ली विधानसभा चुनाव अलग हो सकता है. दिल्ली के रामलीला मैदान में आयोजित रैली में खुद पीएम मोदी ने झुग्गी-झोपड़ी और साफ पानी का मुद्दा उठाया. परिणाम बताते हैं कि राज्यों के चुनाव में राष्ट्रीय मुद्दे वोटरों को पसंद नहीं आ रहे.

AAP का नारा 'अच्छे बीते 5 साल, लगे रहो केजरीवाल' (फाइल फोटो)


जनता से जुड़े मुद्दों की पहचान करने के निर्देश: बीते मंगलवार को बीजेपी के संगठन महामंत्री बीएल संतोष ने दिल्ली प्रदेश के विधानसभा स्तर तक के पदाधिकारियों के साथ बैठक की. इसमें कहा कि नेता अपने-अपने क्षेत्र में जनता से जुड़े मुद्दों की पहचान करें. उनके निदान का उपाय खोजें. विधानसभा स्तर के नेता इन्हीं चिन्हित मुद्दों पर लोगों से संवाद करेंगे.



>>इन मुद्दों को मिलेगी तवज्जो: केजरीवाल सरकार के लोकल दांव पर बीजेपी बिजली, पानी, सड़क, प्रदूषण, सफाई, स्वास्थ्य, महिला सुरक्षा और पढ़ाई जैसे मुद्दे पर फोकस करेगी. कॉलोनियों पर फोकस रहेगा.

किस नेता के पास कौन सा मुद्दा: पूर्वांचल से जुड़े लोगों पर प्रदेश अध्यक्ष मनोज तिवारी फोकस करेंगे. युवाओं पर गौतम गंभीर, अनुसूचित जाति के मसले सांसद हंसराज हंस, ओबीसी मुद्दे प्रवेश वर्मा देखेंगे. महिलाओं से जुड़ी समस्याओं को मीनाक्षी लेखी जबकि व्यापारियों से जुड़ी समस्या विजय गोयल देखेंगे.

Chhattisgarh news, cg new, delhi news, Citizenship Amendment Bill , demonstration on CAB, congress demostration in delhi, delhi ramleela ground, congress, cm bhupesh baghel, छत्तीसगढ़ न्यूज, सीजी न्यूज, दिल्ली न्यूज, सीएबी, नागरिकता संशोधन बिल, दिल्ली में नागरिकता संशोधन बिल के खिलाफ प्रदर्शन, दिल्ली में कांग्रेस का प्रदर्शन, दिल्ली, दिल्ली रामलील मैदान, CAB पर कांग्रेस का दिल्ली में प्रदर्शन, सीएम भूपेश बघेल, कांग्रेस
दिल्ली में क्या कांग्रेस भी करेगी फ्री वाली पॉलिटिक्स. (File Photo)


क्या करेगी कांग्रेस
>>दिल्ली कांग्रेस अध्यक्ष सुभाष चोपड़ा ने कहा है कि अरविंद केजरीवाल सरकार दिल्ली वासियों को केवल 200 यूनिट बिजली फ्री दे रही है. हमारी सरकार आई तो 600 यूनिट फ्री बिजली देंगे. इससे संकेत मिल रहे हैं कि कांग्रेस भी आम आदमी पार्टी की तरह लोकल और फ्री वाली पॉलिटिक्स की चुनावी पिच तैयार करेगी.

ये भी पढ़ें:  मनीष सिसोदिया दिल्ली के CM कभी भी बन सकते हैं, जनता उनसे प्यार करती है: केजरीवाल

मनोज तिवारी का सवाल-CAA पर कांग्रेस की रैली के बाद क्यों शुरू हुआ उपद्रव?

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए दिल्ली-एनसीआर से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: December 27, 2019, 1:20 AM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर