होम /न्यूज /दिल्ली-एनसीआर /दिल्‍ली: विधानसभा के विशेष सत्र में प्रदूषण और शराब नीति को लेकर हंगामा, BJP का 1 विधायक निलंबित, 2 बाहर निकाले

दिल्‍ली: विधानसभा के विशेष सत्र में प्रदूषण और शराब नीति को लेकर हंगामा, BJP का 1 विधायक निलंबित, 2 बाहर निकाले

उन्होंने कहा कि विधानसभा परिसर में प्रवेश द्वार के निकट विट्ठलभाई पटेल की प्रतिमा के पीछे कोरोना योद्धा स्मारक का निर्माण किया जाएगा. (सांकेतिक फोटो)

उन्होंने कहा कि विधानसभा परिसर में प्रवेश द्वार के निकट विट्ठलभाई पटेल की प्रतिमा के पीछे कोरोना योद्धा स्मारक का निर्माण किया जाएगा. (सांकेतिक फोटो)

Delhi Assembly Special Session: देश की राजधानी में बढ़ते वायु प्रदूषण को लेकर दिल्ली विधानसभा अध्यक्ष रामनिवास गोयल (R ...अधिक पढ़ें

नई दिल्‍ली. दिल्ली विधानसभा के एक दिन के विशेष सत्र (Delhi Assembly Special Session) का आगाज हंगामेदार रहा. सत्र शुरू होते ही भाजपा के विधायकों ने वायु प्रदूषण को लेकर हंगामा शुरू कर दिया है. वहीं, भाजपा के इस विरोध के बाद विधानसभा अध्यक्ष राम निवास गोयल (Ram Niwas Goel) नाराज हो गए और उन्‍होंने प्रदूषण के लिए भाजपा को ही जिम्मेदार ठहराया दिया. इसके साथ उन्‍होंने कहा कि दिवाली पर दिल्‍ली में प्रतिबंध के बावजूद भाजपा ने ही खूब पटाखे फोड़े.

दरअसल जैसे ही विशेष सत्र की कार्यवाही शुरू हुई, भाजपा विधायकों ने नई शराब नीति, शहर में बढ़ते वायु प्रदूषण और वैट जैसे विभिन्न मुद्दों पर सुनवाई की मांग की. विधानसभा अध्यक्ष राम निवास गोयल ने इन मुद्दों पर किसी भी चर्चा से इनकार करते हुए कहा कि एक दिवसीय सत्र एक विशेष उद्देश्य के लिए बुलाया गया है और केवल एजेंडे में सूचीबद्ध विषयों पर चर्चा की जाएगी. उन्होंने कहा, ‘किसी अन्य चर्चा की अनुमति नहीं दी जाएगी.’

वहीं, दिल्‍ली के पर्यावरण मंत्री गोपाल राय ने कहा कि आम जनता की ताकत से बनी सरकार ने किसानों पर काला कानून थोपा, किसानों ने आंसू गैस के गोले सहे और सर्दी गर्मी में प्रदर्शन किया. मैं दिल्ली की इस विधानसभा को बधाई देता हूं कि इस विधानसभा ने सबसे पहले उन तीनों काले कानूनों के खिलाफ प्रस्ताव पास किया. मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने सदन के भीतर तीनों कानूनों को फाड़ा.

इसके अलावा गोपाल राय ने कहा कि तब इस सदन में अरविंद केजरीवाल ने जो बात कही थी, वो सच साबित हुई, जब प्रधानमंत्री ने कृषि कानूनों को वापस लेने की घोषणा की. इस पूरे आंदोलन के दौरान 700 से ज्यादा किसानों ने शहादत दी है, आज यह सदन उनके प्रति श्रद्धांजलि अर्पित करता है. लेकिन सवाल यह है कि अगर ये कानून किसानों के हित में नहीं थे, तो फिर उन शहादत का क्या होगा.

आंदोलन के दौरान हजारों लोगों पर मुकदमे लगाए गए, उन मुकदमों का क्या होगा. उस पर केंद्र सरकार बात करने के लिए क्यों तैयार नहीं है. इस सरकार ने चुनाव के समय वादा किया था कि एमएसपी की गारंटी का कानून लाया जाएगा, लेकिन आज तक एमएसपी पर गारंटी का कानून नहीं आया. किसानों की आय दोगुनी करने का वादा था, वो सिस्टम कहां गया. सबने देखा कि किस तरह आंदोलन को कुचला गया. केंद्र सरकार के राज्य मंत्री अजय कुमार मिश्रा के बेटे ने सरेआम किसानों को गाड़ी से कुचला. ऐसी दरिंदगी का नमूना भारत के स्वतंत्रता आंदोलन के दौरान गुलामी के दौरान भी नहीं दिखा था. मैं किसानों को बधाई देना चाहता हूं, जिन्होंने पहली बार सरकार के अहंकार को चकनाचूर किया है. किसानों के इस आंदोलन के 1 साल पर मैं सदन के सामने सरकारी संकल्प, प्रस्तुत करना चाहता हूं.

नई आबकारी नीति को लेकर भाजपा का हंगामा
दिल्ली विधानसभा में नई आबकारी नीति के तहत खुल रही शराब की दुकानों के विरोध में बीजेपी विधायकों का हंगामा किया. यही नहीं, स्पीकर ने भाजपा के विधायक मोहन सिंह बिष्ट, जितेंद्र महाजन और अनिल वाजपेयी को आज की कार्यवाही के लिए सदन छोड़ने के लिए कहा, लेकिन फिर भी जब हंगामा शांत नहीं हुआ तो बीजेपी विधायक जितेंद्र महाजन को पूरे सत्र के लिए सदन से बाहर कर दिया गया. सदन से बाहर आने के बाद भी सभी बीजेपी विधायक गांधी मूर्ति के नीचे बैठ गये और विरोध करने लगे. इस दौरान बीजेपी विधायक जितेंद्र महाजन साइकिल पर शराब की दुकानें को बंद करने की तख्ती लेकर विधानसभा पंहुचे थे. दिल्ली विधानसभा में विपक्ष के नेता रामवीर सिंह बिधूड़ी ने आरोप लगाया कि केजरीवाल सरकार दिल्ली की जनता से जुड़े मुद्दों का सामना करने से डर रही है.

सोमनाथ भारती ने कही ये बात
आप विधायक सोमनाथ भारती ने कहा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और अन्य भाजपा नेता किसानों के लिए जो बयानबाजी करते रहे हैं, उससे शह मिली. जबकि कंगना रनौत ने कैसी बयानबाजी की और कोई कार्रवाई नहीं हुई. मैं इस पर गर्व करता हूं कि हमारे साथी राघव चड्ढा ने इसका संज्ञान लिया. विधानसभा की एक समिति के सामने दिल्ली के इस सदन में अब उन्हें बुलाया जाएगा और पूछा जाएगा. जबकि वे लोग उन्हें पद्मश्री दे रहे हैं. आज सदन से बाहर होने के बाद भाजपा के साथी मूर्ति ढूंढ रहे थे कि कहां बैठें, गांधी की मूर्ति के नीचे तो वे बैठ नहीं सकते थे, उन्हें गोडसे की मूर्ति चाहिए थी.

Tags: Aam aadmi party, Delhi air pollution, Delhi Assembly Election, Delhi CM Arvind Kejriwal, Delhi Government, Delhi news, Gopal Rai, New Liquor Policy

विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें