व्‍यापारियों ने पीएम मोदी को भेजे सुझाव, लॉकडाउन और कर्फ्यू के बजाय ये विकल्‍प चुने सरकार

छत्तीसगढ़ में बढ़ते कोरोना के मरीजों को देखते हुये 14 शहरों में लॉकडाउन लगा दिया गया है. (फाइल फोटो)

छत्तीसगढ़ में बढ़ते कोरोना के मरीजों को देखते हुये 14 शहरों में लॉकडाउन लगा दिया गया है. (फाइल फोटो)

पीएम मोदी को आज भेजे गए पत्र में देशभर के व्‍यपारियों के संगठन कन्फेडरेशन ऑफ ऑल इंडिया ट्रेडर्स (कैट) ने कहा है कि रात्रि कर्फ्यू या लॉकडाउन से अभी तक देश में कोविड के बढ़ते मामलों पर अंकुश नहीं लग पाया है ऐसे में यह ज्‍यादा सही होगा के पूरे देश में विकल्प के तौर कुछ अन्‍य काम किए जाएं.

  • News18Hindi
  • Last Updated: April 11, 2021, 2:08 PM IST
  • Share this:
नई दिल्‍ली. देश में बढ़ते कोरोना मामलों और बरती जा रही सख्‍ती को लेकर व्‍यपारियों ने  प्रधानमंत्री मोदी को सुझाव भेजे हैं. व्‍यापारियों की ओर से कहा गया है कि देश के किसी भी हिस्‍से में लॉक डाउन और रात्रि कर्फ्यू लगाने के बजाय सरकार अन्‍य विकल्‍पों पर काम करेगी तो सभी के लिए बेहतर हो सकता है. साथ ही कोरोना के मामलों पर नियंत्रण भी किया जा सकता है.

पीएम मोदी को आज भेजे गए पत्र में देशभर के व्‍यपारियों के संगठन कन्फेडरेशन ऑफ ऑल इंडिया ट्रेडर्स (कैट) ने कहा है कि रात्रि कर्फ्यू या लॉकडाउन से अभी तक देश में कोविड के बढ़ते मामलों पर अंकुश नहीं लग पाया है ऐसे में यह ज्‍यादा सही होगा के पूरे देश में विकल्प के तौर कुछ अन्‍य काम किए जाएं. इसके लिए जिला स्तर पर बेहद मज़बूती के साथ कोविड नियमों का पालन कराया जाए और विभिन्‍न निजी और सरकारी क्षेत्रों के समय में बदलाव कर दिया जाए.

पत्र में कहा गया कि कई राज्यों में लगाए गए रात्रि कर्फ्यू और लॉकडाउन का बारीकी से अध्‍ययन करने के बाद सामने आया है कि 5 अप्रैल को भारत में 96,563 कोविड मामले दर्ज किए गए, जिनमें सबसे ज्यादा मामले- महाराष्ट्र (47,228), दिल्ली (3548) गुजरात (3160) पंजाब (2692) कर्नाटक (5279) और छत्तीसगढ़ (7302) में मिले. तब महाराष्ट्र, दिल्ली, गुजरात, पंजाब, कर्नाटक और छत्तीसगढ़ में विभिन्न प्रतिबंध लगाए गए हैं जैसे कि महाराष्ट्र में 5 अप्रैल से शुरू होने वाले रात के कर्फ्यू और लॉकडाउन के बाद, 6 अप्रैल को दिल्ली, गुजरात और पंजाब के बाद, कर्नाटक और छत्तीसगढ़ में भी रात्रि कर्फ्यू लगाया गया.

इसके बावजूद 9 अप्रैल को, भारत में 1,45,384 कोविड के मामले सामने आए, जो 5 अप्रैल, जिस दिन प्रतिबंध लगाए गए थे, से लेकर 9 अप्रैल तक करीब 50% की वृद्धि है, महाराष्ट्र में 9 अप्रैल को 58993 मामले दर्ज किए गए, जो राज्य सरकार द्वारा बंद किए गए दिन की तुलना में 25% अधिक हैं. इसी प्रकार, गुजरात (4541) और दिल्ली (8521) में 43% और 140% की दर से बढ़े हैं. वहीं पंजाब 3459 (28%) छत्तीसगढ़ 11447 (56%) कर्नाटक 7955 (50%) जैसे राज्यों में भी प्रतिबंधों के बावजूद कोविड मामलों में बढ़त देखी गई.
ऐसे में कैट के राष्‍ट्रीय अध्‍यक्ष बीसी भरतिया और महामंत्री प्रवीन खंडेलवाल की ओर से कहा गया कि लॉकडाउन और कर्फ्यू के बजाय और विकल्‍प अपनाए जाएं तो राहत मिल सकती है. साथ ही 2020 के पिछले लॉकडाउन के नुकसान से उबरने की कोशिश कर रहे लोगों और व्‍यापारियों को भी मदद मिल सकती है.

ये हो सकते हैं विकल्‍प

आगे पढ़ें
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज