Home /News /delhi-ncr /

Yamuna River Action Plan: 2025 तक यमुना होगी साफ, छह प्‍वाइंट पर तैयार क‍िया ये एक्‍शन प्‍लान- अरव‍िंद केजरीवाल

Yamuna River Action Plan: 2025 तक यमुना होगी साफ, छह प्‍वाइंट पर तैयार क‍िया ये एक्‍शन प्‍लान- अरव‍िंद केजरीवाल

द‍िल्ली के मुख्‍यमंत्री अरव‍िंद केजरीवाल ने छह अहम प्‍वाइंट्स पर यमुना की सफाई करने का प्‍लान बनाया है

द‍िल्ली के मुख्‍यमंत्री अरव‍िंद केजरीवाल ने छह अहम प्‍वाइंट्स पर यमुना की सफाई करने का प्‍लान बनाया है

Delhi Yamuna River: द‍िल्ली के मुख्‍यमंत्री अरव‍िंद केजरीवाल ने छह अहम प्‍वाइंट्स पर यमुना की सफाई करने का प्‍लान बनाया है. इन सभी छह प्‍वाइंट पर सरकार यमुना को साफ और स्‍वच्‍छ बनाएगी. उन्‍होंने कहा क‍ि यह छह प्‍वाइंट्स का यमुना एक्‍शन प्‍लान फरवरी, 2025 तक इसको पूरा कर लेंगे.

अधिक पढ़ें ...

    नई दिल्ली. केंद्र सरकार (Central Government)की सख्‍ती के बाद अब दिल्ली सरकार (Delhi Government) ने भी यमुना की साफ-सफाई को लेकर और तेजी से काम करने की तैयारी की है. द‍िल्ली के मुख्‍यमंत्री अरव‍िंद केजरीवाल ने छह अहम प्‍वाइंट्स पर यमुना की सफाई करने का प्‍लान बनाया है. इन सभी छह प्‍वाइंट पर सरकार यमुना को साफ और स्‍वच्‍छ बनाएगी.

    द‍िल्‍ली के मुख्‍यमंत्री अरव‍िंद केजरीवाल (Arvind Kejriwal) ने ड‍िज‍िटल प्रेस कॉन्‍फ्रेंस में जानकारी देते हुए बताया क‍ि यह छह प्‍वाइंट्स का यमुना एक्‍शन प्‍लान (Yamuna Action Plan) फरवरी, 2025 तक इसको पूरा कर लेंगे. उन्‍होंने बताया क‍ि यमुना की सफाई के ल‍िए इन सभी छह प्‍वाइंट पर तेजी से काम करेंगे. सीवर को यमुना में ग‍िरा द‍िया जाता है. 600 एमजीडी सफाई की व्‍यवस्‍था है, करीब 850 एमजीडी की क्षमता की जरूरत है.

    ये भी पढ़ें: Kejriwal सरकार ने यमुना के प्रदूषण को दूर करने का बनाया ये प्‍लान, सालभर में पूरा होगा काम

    उन्‍होंने कहा कि द‍िल्‍ली और देशवासी चाहते हैं क‍ि यमुना नदी को साफ और स्‍वच्‍छ रहना चाह‍िए. उन्‍होंने कहा क‍ि द‍िल्‍ली का जब चुनाव लड़ा था प‍िछला वाला तो वादा क‍िया था कि अगले चुनाव से पहले इसको साफ कर देंगे. उन्‍होंने कहा क‍ि 70 साल की समस्‍या दो द‍िन में ठीक नहीं हो सकती. लेक‍िन इसको अब साफ और स्‍वच्‍छ बनाने की कवायद हमने युद्ध स्‍तर पर काम करने की योजना तैयार की है. मेरी भी इच्‍छा है क‍ि यमुना में हम सभी म‍िलकर डुबकी लगाएं.

    उन्‍होंने कहा क‍ि अब छह प्‍वाइंट्स को लेकर जो एक्‍शन प्‍लान तैयार क‍िया गया है उस पर युद्ध स्‍तर पर काम क‍िया जाएगा.

    पहला- द‍िल्‍ली का सीवर ब‍िना साफ यमुना में ग‍िरा द‍िया जाता है. अभी 600 एमजीडी की क्षमता है, इसको 800 एमजीडी तक करेंगे. सीवर ट्रीटमेंट नए बना रहे हैं. इनमें कोरेशन प्‍लांट, ओखला, कोंडली, रिठाला ट्रीटमेंट प्‍लांट शाम‍िल हैं. मौजूदा एसटीपी की कैपेस‍िटी बढ़ा रहे हैं. पुराने वाले प्‍लांट पुरानी तकनीक पर चल रहे हैं जोक‍ि वाटर ट्रीट के बाद भी वाटर ट्रीट नहीं हो रहा है.

    ये भी पढ़ें: Chhath Puja 2021: छठ पूजा पर स‍ियासत तेज, केंद्रीय मंत्री गजेंद्र स‍िंह शेखावत बोले-हर रोज यमुना में डाला जा रहा 35 करोड़ लीटर गंदा पानी

    दूसरा- द‍िल्‍ली में गंदे नाले बहते हैं जोक‍ि राजधानी को गंदा तो करते हैं. वहीं यमुना में जाकर ग‍िरते हैं. चार बड़े नालों को इन सीटू योजना के तहत काम करेंगे. इन नालों की वहीं की वहीं साफ हो सकेंगे. कुछ नालों को डायवर्ट कर रहे हैं. नजफगढ़, बादशाहपुर, गाजीपुर और सप्‍लीमेंट्री ड्रेन पर इन सीटू काम कर रहे हैं.

    तीसरा- इंडस्‍ट्री वेस्‍ट की सफाई कागज में हो रही है. इसमें गड़बड़ी करते हैं. इंडस्‍ट्रियल वेस्‍ट पर सही से काम करवाएंगे. गलत करने वालों के ख‍िलाफ कार्रवाई करेंगे और उनको बंद करवाएंगे. सभी कॉमन एफ्लुएंट ट्रीटमेंट प्लांट (CETP) पर अच्‍छे से काम करवाएंगे.

    चौथा- झुग्‍गी झोपड़ी कलस्‍टर के जनसुव‍िधा स‍िस्‍टम को सुधारेंगे. बहुत का सीवर स्‍ट्रोम वाटर ड्रेन में जाता है. बार‍िश के पानी वाली नाली में चला जाता है. इसके पूरे स‍िस्‍टम को सीवर से कनेक्‍ट करेंगे.

    पांचवां- सीवर के कनेक्‍शन अभी सभी ने नहीं ल‍िया है. सीवर कनेक्‍शन को आसान बना द‍िया है. अब अप्‍लाई करने की जरूरत नहीं है. उसको बह‍ुत कम चार्ज में ही पानी के ब‍िल के साथ लगाकर भेजा जाएगा. और उन सभी को घर तक सीवर कनेक्‍शन म‍िल जाएगा.

    छठा-सीवर नेटवर्क की ड‍िस‍िल्‍ट‍िंग और र‍िहेबल‍िटेशन का काम तेजी से क‍िया जाएगा. इस पर अध‍िकारी पूरी तरह से काम करेंगे. हर माह स्‍तर पर पूरा एक्‍शन प्‍लान तैयार क‍िया है.

    सभी बरसाती नालों को CETP से जोड़ने के पहले ही द‍िए जा चुके हैं निर्देश
    बताते चलें क‍ि दिल्ली सरकार यमुना नदी को साफ करने के लिए डीएसआईआईडीसी (DSIIDC) के सभी मौजूदा 13 कॉमन एफ्लुएंट ट्रीटमेंट प्लांट (CETP) की क्षमता को बढ़ाने की योजना पहले ही बना चुकी है, ताकि सभी औद्योगिक कचरे को यमुना में गिरने से पहले ही ट्रीट किया जा सके. इसको लेकर प‍िछले द‍िनों द‍िल्‍ली के जल मंत्री सत्‍येंद्र जैन ने भी डीएसआईआईडीसी के वरिष्ठ अधिकारियों को सभी बरसाती नालों को सीईटीपी से जोड़ने के निर्देश दिए थे.

    द‍िल्‍लीभर में हैं 29 औद्योगिक क्लस्टर जहां लगे हैं 13 CETP
    इस बीच देखा जाए तो दिल्लीभर में 29 औद्योगिक क्लस्टर हैं. इन 29 क्लस्टरों में 13 कॉमन एफ्लुएंट ट्रीटमेंट प्लांट (सीईटीपी) हैं, जो अपनी अधिकतम क्षमता पर 212 एमएलडी औद्योगिक कचरे को साफ कर सकते हैं. फिलहाल ये सीईटीपी लगभग 50-55 एमएलडी औद्योगिक कचरे का ही उपचार कर रहे हैं. फैक्ट्रियों से निकलने वाले कूड़े का उपचार करने के लिए डीएसआईआईडीसी के पास 3 सीईटीपी उपलब्ध हैं, लेकिन ये अपनी पूरी क्षमता से काम नहीं कर रहे हैं. यमुना में बहने वाले औद्योगिक कचरे को साफ करने के लिए सभी उपलब्ध संसाधनों का अधिकतम उपयोग क‍िए जाने पर बल द‍िया जाएगा.

    Tags: CM Arvind Kejriwal, Delhi Government, Delhi news, STP, Yamuna River

    विज्ञापन

    राशिभविष्य

    मेष

    वृषभ

    मिथुन

    कर्क

    सिंह

    कन्या

    तुला

    वृश्चिक

    धनु

    मकर

    कुंभ

    मीन

    प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
    और भी पढ़ें
    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें

    अगली ख़बर