CM केजरीवाल बोले- प्‍लाज्‍मा डोनर से जरूरतमंद की तादाद ज्‍यादा, 15 हजार का घर में हो रहा इलाज
Delhi-Ncr News in Hindi

CM केजरीवाल बोले- प्‍लाज्‍मा डोनर से जरूरतमंद की तादाद ज्‍यादा, 15 हजार का घर में हो रहा इलाज
दिल्ली के सीएम अरविंद केजरीवाल ने राजधानीवासियों से प्लाज्मा दान की अपील की.

Delhi COVID-19 Update: मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल (CM Arvind Kejriwal) ने कोरोना संक्रमित मरीजों के इलाज के लिए राजधानीवासियों से आगे आकर प्लाज्मा दान की अपील की. ILBS हॉस्पिटल में प्लाज्मा बैंक (Plasma Bank) बनाया गया है.

  • Share this:
नई दिल्‍ली. देश की राजधानी दिल्‍ली के मुख्‍यमंत्री अरविंद केजरीवाल (CM Arvind Kejriwal) ने प्‍लाज्‍मा थेरेपी (Plasma Therepy) को लेकर बड़ी बात कही है. उन्‍होंने कहा कि राजधानी में प्‍लाज्‍मा डोनेट करने से ज्‍यादा उन जरूरतमंदों की तादाद ज्‍यादा है, जिन्‍हें प्‍लाज्‍मा की जरूरत है. इसके साथ ही उन्‍होंने बताया  कि दिल्‍ली में फिलहाल 25 हजार एक्टिव मरीज हैं, जिनमें से 15 हजार कोरोना (COVID-19) संक्रमितों का घर में ही इलाज चल रहा है.

मुख्‍यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने आम लोगों से प्‍लाज्‍मा डोनेट (Plasma Donation) करने के लिए आगे आने की अपील की है. उन्‍होंने कहा कि जो लोग सक्षम हैं उन्‍हें आगे आकर प्‍लाज्‍मा डोनेट करना चाहिए. ऐसा करने वाले समाज की निस्‍वार्थ सेवा करेंगे. सीएम ने कहा, 'हमारी टीम लोगों को फोन कर प्‍लाज्‍मा डोनेट करने का आग्रह कर रही है. ऐसे में यदि आपके पास  कॉल आए तो प्‍लीज आप उसे अनसुना न करें. इसके अलावा  कोरोना संक्रमण से ठीक होने वाले लोगों की भी काउंसलिंग कर रहे हैं और उन्‍हें प्‍लाज्‍मा डोनेशन के लिए प्रोत्‍साहित कर रही है.'

ये भी पढ़ें- वापस लौटने लगे प्रवासी मजदूर, बोले- नौकरी देने वाले ने बुलाया है



सीएम केजरीवाल ने लोगों को यह भी याद दिलाया कि प्लाज्मा दान करने वालों को सरकार हर सुविधा देने को तैयार है. अगर किसी शख्स को प्लाज्मा दान करना है तो वह सरकार को बताए. उस शख्स को ILBS हॉस्पिटल पहुंचाने का सारा जिम्मा सरकार उठाएगी. सरकार प्लाज्मा दान करने वाले के घर तक टैक्सी भेजेगी, ताकि वह आसानी से ILBS अस्पताल पहुंच सके. केजरीवाल ने अपील की कि दिल्ली के लोग प्लाज्मा दान करने के लिए आगे आएं, ताकि कोरोना महामारी को तेजी से हराया जा सके.
ये भी पढ़ें- बड़ा खुलासा: दिल्ली हिंसा से पहले संदिग्धों को ओमान और यूके से हुई थी फंडिंग!

आपको बता दें कि इससे पहले CM अरविंद केजरीवाल ने बताया था कि दिल्ली में शुरुआती दौर से ही डॉक्टरों ने कोरोना के कुछ मामलों में प्लाजमा थेरेपी का इस्तेमाल किया था. उन्होंने कहा था कि प्लाज्मा थेरेपी को रामबाण तो नहीं कहा जा सकता, लेकिन चूंकि अभी इस बीमारी की कोई दवा नहीं है, इसलिए कई मामलों में प्लाज्मा थेरेपी मददगार साबित हुई है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज

corona virus btn
corona virus btn
Loading