Home /News /delhi-ncr /

delhi commission for women dcw rescues a 13 year old girl being forced to work as domestic help nodvm

DCW ने एक 13 वर्षीय बच्ची को किया रेस्क्यू, पीड़िता ने कहा- मेरे साथ करते थे मारपीट

दिल्ली महिला आयोग ने सोमवार को जीटीबी नगर के एक घर से 13 वर्षीय अनाथ लड़की का रेस्क्यू किया. बच्ची से जबरन घरेलू नौकर के तौर पर काम करवाया जा रहा था.

दिल्ली महिला आयोग ने सोमवार को जीटीबी नगर के एक घर से 13 वर्षीय अनाथ लड़की का रेस्क्यू किया. बच्ची से जबरन घरेलू नौकर के तौर पर काम करवाया जा रहा था.

Delhi News: दिल्ली महिला आयोग ने सोमवार को जीटीबी नगर के एक घर से 13 वर्षीय अनाथ लड़की का रेस्क्यू किया. बच्ची से जबरन न घरेलू नौकर के तौर पर काम करवाया जा रहा था. इतना ही नहीं उसके साथ दुर्व्यवहार भी किया जाता था. बच्ची ने बताया कि उससे पूरे दिन घर का काम करवाया जाता था और आरोपी परिवार वाले छोटी से छोटी बातों पर उसके साथ बदसलूकी,मार पीट और गाली-गलौज करते थे. पिछले 4 वर्षों में बच्ची ने कई बार घर जाने के लिए कहा परंतु उसकी एक नहीं सुनी गई और उस से जबरन एवं बिना किसी वेतन के काम करवाया जा रहा था.

अधिक पढ़ें ...

नई दिल्ली. बाल मजदूरी गैर कानूनी है. इसके बावजूद लोग ऐसी हरकत करने से बाज नहीं आ रहे हैं. राष्ट्रीय राजधानी में एक ऐसा ही मामला सामने आया है. दिल्ली महिला आयोग ने सोमवार को जीटीबी नगर के एक घर से 13 वर्षीय अनाथ लड़की का रेस्क्यू किया. बच्ची से जबरन घरेलू नौकर के तौर पर काम करवाया जा रहा था. इतना ही नहीं उसके साथ दुर्व्यवहार भी किया जाता था. बताया जा रहा है कि आयोग को 181 महिला हेल्पलाइन नंबर पर एक अज्ञात स्रोत के माध्यम से मामले की पूरी जानकारी मिली थी.

सूचना देने वाले ने आयोग को बताया कि बच्ची को घरेलू नौकर के रूप में काम करने के लिए मजबूर किया जा रहा था. साथ ही आरोपी परिवार द्वारा बच्ची के साथ नियमित रूप से दुर्व्यवहार और मारपीट की जा रही थी. मामले की जानकारी मिलने के तुरंत बाद ही दिल्ली महिला आयोग की एक टीम तुरंत दिल्ली पुलिस के साथ लड़की को रेस्क्यू करने के लिए मौके पर पहुंची.

अत्याचारों एवं अमानवीय व्यवहार के बारे में बताया
मौके पर पहुंचने के बाद आयोग को छुड़ाने के लिए काफी संघर्ष करना पड़ा। जानकारी के मुताबिक, आरोपी मामले को छिपाने की पूरी कोशिश में जुटे हुए थे. आयोग की टीम को काफी विरोध का सामना भी करना पड़ा. लेकिन आखिर में आयोग और दिल्ली पुलिस के के प्रयासों से लड़की को बचा लिया गया. पीड़ित बच्ची को सुरक्षित एक शेल्टर होम में ले जाया गया. बच्ची ने आयोग को उसके साथ उसके मालिक द्वारा किए गए सभी अत्याचारों एवं अमानवीय व्यवहार के बारे में बताया.

अंतिम संस्कार तक में नहीं जाने दिया
लड़की ने आयोग को बताया कि वह अनाथ है और उसकी दो बहनें हैं और वह उत्तराखंड की रहने वाली है. पिछले 4 साल से वह दिल्ली के इस घर में घरेलू सहायिका के रूप में मजबूरन काम कर रही थी, जिसके लिए उसको किसी तरह का कोई वेतन नहीं मिला. उसने आगे ये भी बताया कि जब उसको दिल्ली लाया गया तब वह केवल नौ वर्ष की थी और तब से आज तक आरोपी परिवार ने बच्ची को उसके परिवार से उसे मिलने की अनुमति नहीं दी. यहां तक ​​कि जब दो साल पहले उसकी मां की मौत हुई तब भी आरोपी परिवार वालों ने उसको उसकी मां के अंतिम संस्कार तक में नहीं जाने दिया.

बच्ची ने बयां किया अपना दर्द
मासूम बच्ची ने बेहद दर्द से बताया कि उससे पूरे दिन घर का काम करवाया जाता था और आरोपी परिवार वाले छोटी से छोटी बातों पर उसके साथ बदसलूकी, मार पीट और गाली-गलौज करते थे. पिछले 4 वर्षों में बच्ची ने कई बार घर जाने के लिए कहा परंतु उसकी एक नहीं सुनी गई और उससे जबरन एवं बिना किसी वेतन के काम करवाया जा रहा था. मामले की गंभीरता को देखते हुए दिल्ली महिला आयोग ने दिल्ली पुलिस को तुरंत नोटिस जारी कर मामले में तत्काल प्राथमिकी दर्ज करने और आरोपियों की गिरफ्तारी की मांग की है. साथ ही बाल कल्याण समिति को मजदूरी वसूली एवं बालिका के पुनर्वास के लिए कहा गया है.

स्वाति मालीवाल ने कहा-सख्त कार्रवाई हो
दिल्ली महिला आयोग की अध्यक्ष स्वाति मालीवाल ने घटना पर अपना गुस्सा व्यक्त करते हुए कहा कि यह बहुत दुखद है कि दिल्ली में बाल श्रम और मासूम बच्चों के साथ क्रूरता की नई घटनाएं सामने आ रही हैं. मैं उस दर्द की कल्पना भी नहीं कर सकती जो उस मासूम सी लड़की को सहना पड़ा. मालीवाल ने कहा कि इस मामले में शामिल सभी लोगों के खिलाफ सख्त कार्रवाई की जानी चाहिए. उस बेचारी बच्ची के हक के पैसे और वेतन उसको अवश्य मिलना चाहिए और बाल कल्याण समिति द्वारा उसका पुनर्वास किया जाना चाहिए.आयोग बच्ची की मदद करने के लिए हर संभव कोशिश करेगा.

Tags: Human trafficking, Swati Maliwal

विज्ञापन

राशिभविष्य

मेष

वृषभ

मिथुन

कर्क

सिंह

कन्या

तुला

वृश्चिक

धनु

मकर

कुंभ

मीन

प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
और भी पढ़ें
विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें

अगली ख़बर