होम /न्यूज /दिल्ली-एनसीआर /

उन्‍नाव रेप केस ट्रांसफर करने के लिए दिल्‍ली महिला आयोग ने सुप्रीम कोर्ट में डाली अर्जी

उन्‍नाव रेप केस ट्रांसफर करने के लिए दिल्‍ली महिला आयोग ने सुप्रीम कोर्ट में डाली अर्जी

उन्‍नाव रेप पीड़‍िता के लिए दिल्‍ली महिला आयोग ने सुप्रीम कोर्ट में डाली अर्जी. (प्रतीकात्मक फोटो)

उन्‍नाव रेप पीड़‍िता के लिए दिल्‍ली महिला आयोग ने सुप्रीम कोर्ट में डाली अर्जी. (प्रतीकात्मक फोटो)

हाल ही में उन्‍नाव गैंगरेप (Unnao Gangrape) शिकार युवती ने अब दिल्‍ली महिला आयोग की अध्‍यक्ष स्‍वाति मालीवाल से मदद की गुहार लगाई थी. पिछले दिनों ही उन्नाव गैंगरेप मामले के एक आरोपी ने उन्नाव रेप पीड़िता के खिलाफ उत्‍तर प्रदेश में गैर जमानती गिरफ्तारी वारंट जारी करवा लिया था.

अधिक पढ़ें ...

    नई दिल्‍ली. उन्‍नाव रेप मामले को लेकर अब दिल्‍ली महिला आयोग सक्रिय हो गया है. रेप पीड़‍िता की आरे से दिल्‍ली महिला आयोग से की गई सिफारिश के बाद आयोग ने पीड़‍िता के सभी मामलों को उत्‍तर प्रदेश से हटाकर दिल्‍ली में ट्रांसफर करने के लिए सुप्रीम कोर्ट में याचिका दायर कर दी है. आयोग का कहना है कि अब उम्‍मीद है कि पीड़‍िता को जल्‍दी न्‍याय मिल सकेगा.

    बता दें कि हाल ही में उन्‍नाव गैंगरेप (Unnao Gangrape) शिकार युवती ने अब दिल्‍ली महिला आयोग की अध्‍यक्ष स्‍वाति मालीवाल से मदद की गुहार लगाई थी. पिछले दिनों ही उन्नाव गैंगरेप मामले के एक आरोपी ने उन्नाव रेप पीड़िता के खिलाफ उत्‍तर प्रदेश में गैर जमानती गिरफ्तारी वारंट जारी करवा लिया था. आरोपी ने पीड़‍िता की उम्र पर सवाल खड़े किए थे और उसे कटघरे में लाने के लिए यूपी से वारंट (Warrant) निकलवा लिया था. जिसके बाद पीड़‍िता ने स्‍वाति मालीवाल से मदद मांगी और सभी मामलों को दिल्‍ली ट्रांसफर करने के लिए गुहार लगाई.

    पीड़‍िता की अपील पर दिल्‍ली महिला आयोग ने यूपी में चल रहे सभी मामलों को दिल्‍ली ट्रांसफर कराने के लिए सुप्रीम कोर्ट में याचिका भी दाखिल कर दी है. आयोग की ओर से दी गई जानकारी में बताया गया कि इस मामले में आयोग ने वकील वृंदा ग्रोवर और सिद्धांत वक्षी की मदद ली है. गौरतलब है कि इस मामले का मुख्‍य आरोपी ओर पूर्व विधायक कुलदीप सिंह सेंगर (Kuldeep Singh Sengar) पहले से जेल में बंद है. उसने अपने अन्‍य साथियों के साथ मिलकर लड़की के साथ सामूहिक बलात्‍कार किया था.

    Tags: Delhi Commission for Women, Swati Maliwal

    विज्ञापन

    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें

    अगली ख़बर