दिल्ली: जबरन हो रही थी 13 वर्षीय बच्ची की शादी, रिश्तेदार ने किया DCW को फोन, फिर...

181 हेल्पलाइन पर शिकायत मिली थी. FIle Photo)
181 हेल्पलाइन पर शिकायत मिली थी. FIle Photo)

दिल्ली महिला आयोग (Delhi Commission for Women) को 181 हेल्पलाइन नंबर पर शिकायत मिली थी कि एक 13 साल की बच्ची की शादी कराई जा रही है. फिर कार्रवाई करते हुए महिला आयोग की टीम पहुंची और नाबालिग को बचा लिया.

  • News18Hindi
  • Last Updated: October 7, 2020, 8:06 PM IST
  • Share this:
दिल्ली. दिल्ली महिला आयोग Delhi Commission for Women) ने 13 वर्षीय बच्ची का बाल विवाह (Child Marriage) रुकवाया है. इसके साथ ही इस मामले में FIR भी दर्ज कर दी गई है. दिल्ली महिला आयोग ने सोमवार शाम जामिया नगर इलाके से एक 13 वर्षीय बच्ची को बाल विवाह से बचाया. आयोग की 181 हेल्पलाइन पर लड़की के एक रिश्तेदार ने कॉल करके बताया कि लड़की के परिवार वाले जबरन उसकी शादी करवा रहे हैं और आने वाली 10 तारीख को उसकी शादी होने वाली ही. मामले की सूचना मिलते ही आयोग की अध्यक्षा स्वाति मालीवाल और मेम्बर किरण नेगी ने एक टीम गठित की और टीम ने शिकायतकर्ता से संपर्क कर सभी जानकारी ली. शिकायतकर्ता ने बताया कि 5 अक्टूबर को लड़की की हल्दी की रस्म होने वाली है और उस समय रंगें हाथों पकड़ना सही रहेगा.

महिला आयोग की टीम सोमवार यानी 5 अक्टूबर को दिल्ली पुलिस के साथ बताए गए पते पर पहुंची और वहां पाया कि दी गयी जानकारी सही है. लड़की के घर में हल्दी पीसी जा रही थी और घर में शादी की रस्में चल रही थीं. जब टीम ने लड़की के बारे में पूछताछ की तो परिवार वालों ने लड़की के बारे में बताने से इनकार कर दिया और कहा कि लड़की बालिग है. टीम ने जब लड़की के प्रमाण पत्र मांगे तो वे भी दिखाने में परिवार असमर्थ रहा. पुलिस ने घर को तलाश किया तो एक कमरे में लड़की को बंद पाया गया, लड़की को वहां से निकाला गया और उसके परिवार वालों को पुलिस स्टेशन ले जाया गया.

ये भी पढ़ें: Special Marriage Act: आपत्ति के लिए सार्वजनिक नोटिस पर दिल्ली हाईकोर्ट ने केंद्र और राज्य सरकार से मांगा जवाब




नाबालिग ने बताई पूरी कहानी

नाबालिग ने बताया कि उसके घर वाले उसे पढ़ने लिखने नहीं देते और अब ज़बरन उसका विवाह करवा रहे हैं. पुलिस स्टेशन में लड़की और परिवार वाले के बयान लिए गए और लड़की को मेडिकल जांच के लिएस्पताल ले जाया गया. मेडिकल जांच के बाद लड़की को शेल्टर होम में रखवाया गया. मामले में जामिया नगर पुलिस स्टेशन में FIR दर्ज की गई है और अब लड़की को बाल कल्याण समिति के सामने प्रस्तुत किया जाएगा. दिल्ली महिला आयोग अध्यक्षा स्वाति मालीवाल ने कहा कि दिल्ली जैसे शहर में भी हम ना जाने कितने बाल विवाह रुकवा चुके हैं. बचपन में ही छोटी-छोटी बच्चियों को शादी के बंधन में बांध दिया जाता है. इस केस में हमारी टीम ने सतरकर्ता दिखाते हुए तुरन्त मामले में कार्रवाई की और लड़की को छुड़वाया. मामले में FIR दर्ज हो गयी है. बाल विवाह एक क़ानूनन जुर्म हैं और ऐसा करवाने वालों को सख़्त सज़ा होनी चाहिए.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज