कांग्रेस में पर्यवेक्षकों से ब्‍लॉक लेवल पर मांगी गई गोपनीय रिपोर्ट, संगठनात्‍मक स्‍तर पर होगा सुधार!

15 साल दिल्ली में राज करने वाली कांग्रेस अब अपने जनाधार को वापस जुटाने के पूरे प्रयास में जुटी है.

15 साल दिल्ली में राज करने वाली कांग्रेस अब अपने जनाधार को वापस जुटाने के पूरे प्रयास में जुटी है.

पर्यवेक्षकों को यह गोपनीय रिपोर्ट हर हाल में सीलबंद लिफाफे में 10 जनवरी तक देने को कहा गया है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: December 28, 2020, 9:05 PM IST
  • Share this:

कभी दिल्‍ली (Delhi) की सत्‍ता में अपनी हनक रखने वाली कांग्रेस (Congress) आज राष्‍ट्रीय राजधानी में अपनी उस सियासी पहचान को खो चुकी है. 2013 के विधानसभा चुनाव से पहले लगातार 15 साल दिल्ली में राज करने वाली कांग्रेस अब अपने जनाधार को वापस जुटाने के पूरे प्रयास में जुटी है. कांग्रेस ने संगठनात्‍मक स्‍तर पर इसकी शुरुआत की है और जनता से दोबारा जुड़ाव पर जोर दिया है. पार्टी का फोकस 2022 में होने वाले दिल्‍ली नगर निगम चुनावों (Delhi Municipal Corporation Elections 2020 ) पर भी है.

दरअसल, दिल्‍ली प्रदेश कांग्रेस कमेटी के अध्‍यक्ष अनिल चौधरी ने हाल ही में नवनियुक्‍त ब्‍लॉक पर्यवेक्षकों की एक मीटिंग ली है, जिसमें उनकी तरफ से इन पर्यवेक्षकों को कुछ दिशा निर्देश जारी किए गए हैं. इनमें प्राथमिकता के तौर पर ब्‍लॉक अध्‍यक्ष के लिए संभावित नाम का सुझाव देने को कहा गया है. साथ ही आगामी दिल्‍ली नगर निगम चुनाव की तैयारियों के लिए ब्‍लॉक की विस्‍तृत एवं गोपनीय रिपोर्ट उन्‍हें देने को कहा गया है.

पर्यवेक्षकों को यह गोपनीय रिपोर्ट हर हाल में सीलबंद लिफाफे में 10 जनवरी तक देने को कहा गया है.

साथ ही इन पर्यवेक्षकों को कहा गया है कि वह ब्‍लॉक के सभी नेताओं व कार्यकर्ताओं के साथ मीटिंग करें. इसका मकसद पार्टी द्वारा अपने नेताओं एवं कार्यकर्ताओं के बीच मजबूत संवाद स्‍थापित करना है, जिसका अभाव लंबे समय से पार्टी में देखा जा रहा है.
वहीं, जिला कांग्रेस कमेटी अध्‍यक्ष, विधायक उम्‍मीदवार, ब्‍लॉक अध्‍यक्ष एवं पूर्व ब्‍लॉक अध्‍यक्ष, निगम पार्षद, 2017 के निगम प्रत्‍याशी, पूर्व निगम प्रत्‍याशी, अग्रिम संगठन, विभाग एवं सेल के नेताओं से संपर्क स्‍थापित करने के साथ ही सुझाव लेने को भी कहा गया है. इसके साथ ही ब्‍लॉक क्षेत्र के सामाजिक संगठनों एवं प्रबुद्ध व्‍यक्तियों से भी सलाह मशविरा लेने को कहा गया है, ताकि पार्टी को ब्‍लॉक लेवल पर मजबूती मिल सके और जनाधार वापस जुटाने के लिए पार्टी की ओर से सभी जरूरी उपायों की तरफ कदम बढ़ाया जा सके.

Youtube Video

केवल यही नहीं, पार्टी बूथ प्रबंधन समिति के चेयरमैन के लिए नामों को सुझाने की दिशा में भी तेजी से प्रयास कर रही है और इस संबंध में सुझाव भी मांगे गए हैं.



प्रदेश संगठन में महिलाओं की भागीदारी भी बढ़ाने के लिए सक्रिय महिला प्रतिनिधियों का भी चयन किया जाएगा, जिसके लिए नामों पर सुझाव भी मांगे गए हैं.

DPCC अध्‍यक्ष अनिल चौधरी ने न्‍यूज18 हिंदी से बातचीत में कहा कि मार्च माह में प्रदेश अध्‍यक्ष का प्रभार मिलने के बाद से हम संगठनात्‍मक स्‍तर पर सुधार की दिशा में प्रयासरत हैं. विशेष तौर पर हम संगठन का विस्‍तार कर रहे हैं और ऐसे कई विभाग हैं, जिन पर काम किया जा रहा है. मलसन, बूथ प्रबंधन समिति, जो अब तक गठित नहीं थी, के जरिये बूथ मैनेजमेंट और पार्टी से नए लोगों को जोड़ने की दिशा में तेजी से काम किया जा रहा है.

उन्‍होंने कहा कि जल्‍द ही प्रदेश कांग्रेस में अच्‍छे सुधार सभी को देखने को मिलेंगे, जिसके तहत पार्टी में जमीनी स्‍तर पर मेहनत करने वाले अच्‍छे कार्यकर्ताओं को प्रमोट किया जाएगा. साथ ही सोशल मीडिया के लिए ब्‍लॉक लेवल पर कॉर्डिनेटर नियुक्‍त किए जाएंगे.

अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज